भारत के लिए रूस की ताकतवर S-400 मिसाइलों का तोड़ निकाल रहा है अमेरिका, कर रहा यह काम

भारत ने रूस से 40,000 करोड़ रुपये की लागत से एस-400 मिसाइल प्रणाली खरीदने के लिए पिछले साल अक्तूबर में एक करार पर हस्ताक्षर किए थे.

भारत के लिए रूस की ताकतवर S-400 मिसाइलों का तोड़ निकाल रहा है अमेरिका, कर रहा यह काम

वॉशिंगटन : पेंटागन का कहना है कि अमेरिका रूस की हवाई रक्षा प्रणाली एस-400 का विकल्प मुहैया कराने के लिए भारत के साथ काम कर रहा है. भारत ने रूस से 40,000 करोड़ रुपये की लागत से एस-400 मिसाइल प्रणाली खरीदने के लिए पिछले साल अक्तूबर में एक करार पर हस्ताक्षर किए थे.

अमेरिका ने रूस से इस सौदे को लेकर भारत को आगाह किया था. इसके बावजूद भारत पीछे नहीं हटा. रूस के खिलाफ अमेरिकी प्रतिबंधों को देखते हुए इस सौदे के लिए भुगतान संबंधी व्यवस्था के बारे में चिंताएं जाहिर की जा रही हैं.

रूस ने कहा, 'भारत को तय समय पर मिलेंगी एस-400 मिसाइलें'

कांग्रेस में हुई एक चर्चा के दौरान हिंद प्रशांत सुरक्षा मामलों के सहायक विदेश मंत्री रैंडाल श्राइवर ने कहा ‘‘हम उन्हें (भारत को) एक विकल्प मुहैया कराना चाह रहे हैं. (एस-400 का) विकल्प मुहैया कराने के लिए हम प्रयासरत हैं.’’ 


एस-400 वायु रक्षा प्रणाली...

राफेल विमानों, एस-400 मिसाइलों से वायुसेना की क्षमता बढ़ेगी : वायुसेना प्रमुख

रूस से यह प्रणाली हासिल करने की स्थिति में भारत पर प्रतिबंध की संभावना के बारे में पूछे जाने पर श्राइवर ने कहा कि अगर नई दिल्ली रूस से एस-400 प्रणाली खरीदना पसंद करती है तो ‘‘यह एक दुखद फैसला होगा.’’