close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बगदादी की मौत का 'विभीषण कनेक्शन', दुनिया फतह की थी चाह, अमेरिकी कुत्तों ने किया पस्त

समाचार एजेंसी एफे की रिपोर्ट के मुताबिक, उसे एक निर्मम आतंकवादी के रूप में याद किया जाएगा. इराक और सीरिया में तथाकथित 'खलीफा' की घोषणा करने और दुनिया भर में पवित्र युद्ध के नाम पर खूनखराबा करने का वह दोषी था. आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) का मुखिया अपनी मौत के समय 48 वर्ष का था, उसने धर्म के नाम पर हजारों नागरिकों की हत्या करवाई.

बगदादी की मौत का 'विभीषण कनेक्शन', दुनिया फतह की थी चाह, अमेरिकी कुत्तों ने किया पस्त
Play

दमिश्क: अल-कायदा सरगना ओसामा बिन लादेन के बाद से अबू बक्र अल-बगदादी (Abu bakr al-baghdadi) दुनिया का सबसे वांछित आतंकवादी नेता था. बगदादी (Baghdadi) दुनिया भर में शरीयत कानून का राज स्थापित करने की सोच रखता था. अपनी सोच को अंजाम तक पहुंचाने में वह भूल गया था असल इस्लाम शांति का संदेश देता है ना कि क्रूरता का. उसकी क्रूरता के चलते इंसानियत के तरफदार उसके दुश्मन बन गए थे. उत्तर-पश्चिम सीरिया में अमेरिका के रात भर (शनिवार) चले विशेष अभियानों में बगदादी (Baghdadi) मारा गया. 

समाचार एजेंसी एफे की रिपोर्ट के मुताबिक, उसे एक निर्मम आतंकवादी के रूप में याद किया जाएगा. इराक और सीरिया में तथाकथित 'खलीफा' की घोषणा करने और दुनिया भर में पवित्र युद्ध के नाम पर खूनखराबा करने का वह दोषी था. आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) का मुखिया अपनी मौत के समय 48 वर्ष का था, उसने धर्म के नाम पर हजारों नागरिकों की हत्या करवाई.

क्रूर दंड के जरिए आतंकी संगठन आईएस ने क्षेत्र में अपना शासन लागू किया, जो इस्लाम की शुरुआती व्याख्याओं से प्रेरित मध्ययुगीन रीति-रिवाजों पर आधारित था. आतंकी बगदादी (Baghdadi) के शासनकाल को विशेष रूप से बर्बर तरीकों के लिए याद किया जाएगा, जिसमें युद्ध, भयावहता, यातनाओं और फांसी के पेशेवर वीडियो शामिल हैं.

ये वीडियो भी देखें

आपके मन में भी ये सवाल जरूर आ रहा होगा कि आखिरी जो बगदादी (Baghdadi) इतने वर्षों से पकड़ में नहीं आ रहा था वो आखिरकार कैसे पकड़ में आया. कैसे अमेरिका के पता चला की बगदादी (Baghdadi) सीरिया के कौनसे हिस्से में मौजूद है. कैसे अमेरिका को इस बात पुष्टि हुई की बगदादी (Baghdadi) ही है जो पश्चिमी सीरिया में एक खास जगह पर रह रहा है.

करीबी की खबर से ही मारा गया बगदादी (Baghdadi)?
अगर आपने रामाण कथा पढ़ी या सुनी होगी तो जानते होंगे रावण के खात्मे में उसके छोटे भाई विभीषण का अहम रोल था. विभीषण ने ही भगवान राम को रावण की कमजोरी बता दी थी. तभी से कहा जाता है 'घर का भेदी लंगा ढाए'. अत्याचारी और क्रूर बगदादी (Baghdadi) के खात्मे का भी विभीषण कनेक्शन माना जा रहा है. यहां गौर करने वाली बात यह है कि दशहरे पर रावण का वध हुआ था. रावण का वध करके अयोध्या लौटने की खुशी में दिवाली मनाए जाने की परंपरा शुरू हुई है. गौर करने वाली बात यह है कि बगदादी (Baghdadi) दिवाली पर मारा गया है.

अमेरिका को करीब एक महीने पहले बगदादी (Baghdadi) पर जानकारी मिलनी शुरू हुई थी. सूत्रों के मुताबिक बगदादी (Baghdadi) के ही करीबी सहयोगी इस्माइल अल-इथावी ने बताया था कि वो कैसे बीते कई वर्षों से सुरक्षा एजेंसियां की पकड़ से बाहर है. उसके सहयोगी ने बताया था कि बगदादी (Baghdadi) कई बार सब्जियों से लदी गाड़ियों में बैठकर अपने लड़ाकों से रणनीतिक चर्चाएं करता था ताकि गिरफ्तारी से बचा जा सके. इथावी को तुर्की अथॉरिटीज ने गिरफ्तार कर इराकी सुरक्षा बलों को सौंप दिया था.

इसके अलावा भी इथावी ने कई अहम जानकारियां दी थीं, जिनके जरिए कई इराकी एजेंसियों ने बगदादी (Baghdadi) और उसके ठिकानों के बारे में कई अहम कड़ियों को सुलझा लिया. इथावी को टर्की की एजेंसी ने गिरफ्तार किया था और फिर उसे इराकी सुरक्षा बलों के हाथों में सौंप दिया था. इथावी को बगदादी (Baghdadi) के 5 सबसे अहम करीबियों में से एक माना जाता था. इथावी 2006 में अलकायदा से जुड़ा था. उसे अमेरिकी सुरक्षा बलों ने 2008 में अरेस्ट किया था और 4 साल की जेल की सजा भी हुई थी.

इथावी ने कई अहम जानकारियां दी थीं, जिनके जरिए कई इराकी एजेंसियों ने बगदादी (Baghdadi) की मूवमेंट्स और उसके छिपने के ठिकानों के बारे में कई अहम कड़ियों को सुलझा लिया. इथावी ने बताया कि कैसे उसके समेत 5 लोगों ने बगदादी (Baghdadi) से सीरिया और उससे बाहर भी कई अन्य ठिकानों पर कहां और कैसे मुलाकात की थी.

शनिवार शाम 5 बजे अमेरिकी समय के मुताबिक पूर्वी इराक से 8 हेलीकॉप्टरों ने उड़ान भरी और 1 घंटे 10 मिनट की उड़ान के बाद अमेरिकी कमांडो उस जगह पर पहुंच गए जहां बगदादी (Baghdadi) छुपा हुआ था. पश्चिमी सीरिया के इदलिब प्रांत के बारिशा गांव में अमेकिरी कमांडो जैसे ही पहुंचे तो उन पर फायरिंग हुई, लेकिन अमेरिकी फोर्स को उस सुरंग में पहुंचने में ज्यादा वक्त नहीं लगा जहां बगदादी (Baghdadi) छिपा हुआ था. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप व्हाइट हाउस के सिचुएशन रूम से पूरा ऑपरेशन देख रहे थे. 

डेल्टा फोर्स ने रात के वक्त अपना ऑपरेशन शुरू किया. एक कंपाउंड के पास पहुंचकर कमांडो टीम ने धमाके से दीवार में एक बड़ा रास्ता बना दिया. अमेरिकी कमांडो और आतंकियों के बीच आमने-सामने से फायरिंग शुरू हुई. आतंकियों को ढेर करने के बाद अमेरिकी कमांडोज आगे बढ़ते हैं. 11 बच्चों को घर से सुरक्षित बाहर निकालते हैं.

बगदादी (Baghdadi) ने सुरंग की तरफ भागने की कोशिश की, बगदादी (Baghdadi) अपने साथ तीन बच्चों को भी खींचकर ले जा रहा था, लेकिन डेल्टा फोर्से और K-9 डॉग यूनिट्स उसके पीछे थी और जैसे ही K-9 कुत्ते यूनिट ने बगदादी (Baghdadi) पर छलांग लगाई बगदादी (Baghdadi) खुद को धमाके से उड़ा लिया. कुछ ही मिनट में  DNA टेस्ट के जरिए बगदादी (Baghdadi) के मारे जाने की पुष्टि भी हो गई.