वॉयेजर 2 बना अंतरिक्ष यात्रा करने वाला दूसरा मानव निर्मित उपकरण

घोषणा ऐसे समय की गई है जब छह साल पहले नासा के जुड़वां अंतरिक्ष यान ‘वॉयेजर 1’ ने हेलियोपाउज (जहां गर्म सौर हवाएं ठंडी हवाओं से तारों के बीच के सघन अंतरिक्ष में मिलती हैं) की बाहरी सीमा को तोड़ डाला था.

वॉयेजर 2 बना अंतरिक्ष यात्रा करने वाला दूसरा मानव निर्मित उपकरण

वॉशिंगटन: अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) ने सोमवार को कहा कि उसका ‘वॉयेजर 2’ अंतरिक्ष यान सूर्य के पास के संरक्षक बुलबुले से अलग हटकर तारों के बीच की जगह से गुजर रहा है. ऐसा करके ‘वॉयेजर 2’ अंतरिक्ष में यात्रा करने वाले दूसरा मानव निर्मित उपकरण बन गया है. 

यह घोषणा ऐसे समय की गई है जब छह साल पहले नासा के जुड़वां अंतरिक्ष यान ‘वॉयेजर 1’ ने हेलियोपाउज (जहां गर्म सौर हवाएं ठंडी हवाओं से तारों के बीच के सघन अंतरिक्ष में मिलती हैं) की बाहरी सीमा को तोड़ डाला था. ‘वॉयेजर 2’ अब पृथ्वी से 18 अरब किलोमीटर की दूरी पर है.

(इनपुट भाषा)