close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जानिए, आखिर पाकिस्तान ने क्यों कहा- हम अमेरिका भीख मांगने नहीं, दोस्ती करने आए हैं

पाकिस्तान विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा है कि वे लोग अमेरिका हाथ में भीख का कटोरा लेकर नहीं आए हैं. वे लोग झुक कर नहीं बल्कि सिर उठाकर दोस्ती की बात करने आए हैं.

जानिए, आखिर पाकिस्तान ने क्यों कहा- हम अमेरिका भीख मांगने नहीं, दोस्ती करने आए हैं
फाइल फोटो

वॉशिंगटन: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ अमेरिका दौरे पर आए विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा है कि वे लोग अमेरिका हाथ में भीख का कटोरा लेकर नहीं आए हैं. वे लोग झुक कर नहीं बल्कि सिर उठाकर दोस्ती की बात करने आए हैं. पाकिस्तान के अखबार नवाए वक्त की रिपोर्ट के मुताबिक, वॉशिंगटन में रविवार को कैपिटल वन एरेना में पाकिस्तानी समुदाय को संबोधित करते हुए कुरैशी ने यह बात कही. विदेश मंत्री ने कहा कि हम सिर झुका कर नहीं बल्कि सिर उठाकर दोस्ती की बात करने आए हैं.

प्रधानमंत्री इमरान खान नए पाकिस्तान का नक्शा और अपना ख्वाब राष्ट्रपति डोनाल्ड के सामने रखेंगे. कुरैशी ने कहा कि इमरान ने कई साल बाद अमेरिका की जमीन पर कदम रखा है. इनके विचारों की गूंज पूरे अमेरिका में फैल चुकी है. उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि पाकिस्तान में अमन और खुशहाली हो.

विदेश मंत्री ने कहा कि नए पाकिस्तान के सपने को विदेश में बसे पाकिस्तानियों की मदद से पूरा करना है. उन्होंने कहा कि पहले विदेश में बसे पाकिस्तानी पैसा कमाकर देश भेजते थे लेकिन हुक्मरान पाकिस्तान को लूटकर पैसा विदेश में निजी स्तर पर निवेश करते रहे.

इमरान ऐसे पहले पाकिस्तानी प्रधानमंत्री हैं जो आम हवाईजहाज से अमेरिका आए हैं, पांच सितारा होटल के बजाए पाकिस्तान हाऊस में ठहरे हैं.