ZEE जानकारी: चीन - बढ़ती आबादी के बावजूद विकास के नए कीर्तिमान बनाने वाला एक देश

वैसे तो बढ़ती हुई आबादी एक समस्या है, लेकिन चीन ने इसे समस्या के साथ..एक संसाधन माना और लोगों को अपनी अर्थव्यवस्था के विकास का इंजन बनाया.

ZEE जानकारी: चीन - बढ़ती आबादी के बावजूद विकास के नए कीर्तिमान बनाने वाला एक देश

वैसे तो बढ़ती हुई आबादी एक समस्या है, लेकिन चीन ने इसे समस्या के साथ.. एक संसाधन माना और लोगों को अपनी अर्थव्यवस्था के विकास का इंजन बनाया. इसीलिए चीन आज दुनिया का सबसे बड़ा Manufacturing Hub है. भारत चाहे तो चीन से प्रेरणा ले सकता है. लेकिन यहां एक बात पर ध्यान देना ज़रूरी है कि भारत में लोकतंत्र है, लेकिन चीन में लोकतंत्र नहीं है. चीन ने अपनी बढ़ती हुई आबादी को काम पर लगाया. लेकिन भारत ने अपने लोगों को आज़ादी दी.

भारत के लोगों ने अभिव्यक्ति की आज़ादी को अपनी ढाल बना लिया और ये मान लिया कि उन्हें काम न करने की आज़ादी है, उन्हें मेहनत न करने की आज़ादी है. भारत में चाहे लोगों के सामने काम करने का.. बड़ा से बड़ा अवसर भी हो, तो भी वो काम नहीं करते. और इसीलिए भारत आलस्य का Hub बन गया है. यानी चीन Manufacturing Hub है और भारत आलस्य का Hub है.

कुल मिलाकर भारत अपनी जनसंख्या को अपनी ताकतवर Workforce नहीं बना पाया. आज भारत के पास इतनी बड़ी आबादी को अच्छा जीवन और रोज़गार देने की शक्ति नहीं है. 

अगले 3 दशकों तक भारत की काम करने वाली जनसंख्या 30% की दर से बढ़ेगी. जबकि इसी दौरान चीन में काम करने वालों की संख्या 20% कम हो जाएगी. 

भारत युवाओं का देश है. यहां 20 साल से कम उम्र के युवाओं की संख्या 41% है. इस युवा शक्ति के ज़रिए भारत.... Defense, मेडिकल और Technology के क्षेत्र में दुनिया की ताकत बन सकता है. 
लेकिन इन युवाओं को हर साल 1 से सवा करोड़ नई नौकरियों की ज़रूरत होगी. 

परेशानी की बात ये भी है कि देश में अनपढ़ युवाओं की संख्या करीब 27 करोड़ है . हमारे युवा पढ़ाई कर भी लें तो भी वो नौकरी के काबिल नहीं बन पाते हैं. Aspiring Minds नाम की एक संस्था के सर्वे के मुताबिक भारत में हर साल करीब 6 लाख छात्र इंजीनियर बनते हैं. लेकिन इनमें से 51% छात्रों को अपनी खराब अंग्रेज़ी की वजह से नौकरी नहीं मिलती. 

इंजीनियरिंग के 61% छात्रों के अंग्रेज़ी का व्याकरण का ज्ञान 7वीं कक्षा में पढ़ने वाले बच्चे से भी कम होता है. 

सिर्फ 7% इंजीनियर ही फर्राटेदार अंग्रेज़ी बोल पाते हैं. 

देश की 70 प्रतिशत आबादी आज भी गांव में रहती है, देश की 60 प्रतिशत ज़मीन पर फसल पैदा की जाती हैं लेकिन इसके बावजूद हमारे देश में 20 करोड़ से ज़्यादा लोग रोज़ाना भरपेट भोजन नहीं कर पाते. 

बढ़ती जनसंख्या की वजह से देश में वाहनों की संख्या भी तेज़ी से बढ़ रही है लेकिन सड़कों के निर्माण की रफ़्तार उतनी तेज़ नहीं है. भारत का रोड नेटवर्क दुनिया में दूसरे नंबर पर है..लेकिन ये भी भारत की आबादी के लिए कम पड़ रहा है. भारत में प्रति एक हज़ार लोगों पर सिर्फ 3 किलोमीटर सड़क उपलब्ध है..जबकि अमेरिका में 1 हज़ार लोगों पर करीब 21 किलोमीटर सड़क उपलब्ध है..

देश में बढ़ती आबादी का बोझ देश की  सड़कों पर साफ देखा जा सकता है, देश के सभी महानगरों में बढ़ती भीड़भाड़ और वाहनों की बड़ी संख्या की वजह से सड़कों पर जाम लगना एक आम बात है...वाहनों की बढ़ती संख्या की वजह से अक्सर बड़े बड़े शहरों की सड़कों पर ट्रैफिक रेंगता रहता है.

भारत के लोगों को शायद ये जानकर आश्चर्य होगा कि दुनिया में कुछ ऐसे देश भी हैं जहां पर मां-बाप बनने वाले लोगों को Gifts और Incentives दिए जाते हैं . क्योंकि इन देशों में लोग बच्चे पैदा नहीं करना चाहते. वो बच्चों को अपनी ज़िंदगी पर एक बोझ समझते हैं . यही वजह है कि ये देश लगातार बूढ़े होते जा रहे हैं . 

Russia के राष्ट्रपति Vladimir Putin ने वर्ष 2006 में कम होती आबादी को Russia की सबसे बड़ी समस्या बताया था. 

वर्ष 2007 में, Russia की सरकार ने 1 से ज़्यादा बच्चों को जन्म देने वाली महिलाओं को करीब 7 लाख 56 हज़ार रुपए का incentive देने का कार्यक्रम शुरू किया था 

वर्ष 2011 में Putin ने Russia की जन्म दर बढ़ाने के लिए 53 अरब डॉलर खर्च करने की घोषणा की थी . 

Japan की राजधानी Tokyo के कुछ इलाकों में पहली बार बच्चे के जन्म पर मां-बाप को करीब 1 लाख 16 हज़ार रुपए दिए जाते हैं . 

Turkey के राष्ट्रपति ने वर्ष 2016 में  महिलाओं से अपील की थी कि वो कम से कम 3 बच्चों को ज़रूर जन्म दें . वर्ष 2015 में उन्होंने एक योजना बनाई जिसमें पहली बार मां बनने वाली महिलाओं को सोने का सिक्का दिया गया था. 

सिंगापुर भी जनसंख्या बढ़ाने के लिए योजनाएं बनाता है . ज़्यादा बच्चे पैदा करने वाले लोगों को Tax में छूट दी जाती है. वर्ष 2012 में सिंगापुर में Youtube पर एक Video भी Viral हुआ जिसमें बच्चे पैदा करने को देशभक्ति से जोड़ा गया था . 

लेकिन भारत में हालात दूसरे हैं . यहां जनसंख्या वृद्धि एक बहुत बड़ी समस्या है . सरकार जनसंख्या कम करने के लिए नीतियां बनाती हैं . लेकिन ये नीतियां भी इसलिए लागू नहीं हो पाती हैं क्योंकि धर्म और मजहब के नाम पर जनसंख्या वृद्धि को जायज़ ठहराने की कोशिशें की जाती हैं.