close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ZEE जानकारी: SCO बैठक में पीएम मोदी ने किया पाकिस्तान का पर्दाफाश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में आतंकवाद के मुद्दे पर बिना नाम लिए पाकिस्तान को Expose कर दिया. 

ZEE जानकारी: SCO बैठक में पीएम मोदी ने किया पाकिस्तान का पर्दाफाश

दूसरी तरफ Shanghai Co-operation Organisation की बैठक के दूसरे दिन पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान के पसीने छूट गए. और पाकिस्तान की कूटनीतिक सेहत खराब की है, भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने. 

अंतर्राष्ट्रीय कूटनीति की दुनिया में बयानों का और तस्वीरों के माध्यम से दिए जाने वाले संकेतों का बहुत महत्व होता है. किर्गिज़िस्तान की राजधानी बिश्केक में SCO Summit के आखिरी दिन ये दोनों ही चीज़ें दिखाई दीं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में आतंकवाद के मुद्दे पर बिना नाम लिए पाकिस्तान को Expose कर दिया. आज प्रधानमंत्री मोदी की बातें भी Right थीं. और वो बैठे हुए भी इमरान ख़ान की Right Side में ही थे.

जिस वक्त नरेंद्र मोदी, आतंकवाद का मुद्दा उठा रहे थे, उस वक्त उनकी Left Side में बैठे इमरान ख़ान बहुत असहज महसूस कर रहे थे. इसलिए आज आपके लिए ये जानना सबसे दिलचस्प होगा, कि नरेंद्र मोदी के भाषण के दौरान इमरान ख़ान क्या कर रहे थे ? क्योंकि, हमने इमरान ख़ान की ये चोरी पकड़ ली है. वो भी सबूतों के साथ. लेकिन सबसे पहले आप भारत के प्रधानमंत्री का बयान सुनिए. 

इमरान ख़ान की Right Side में बैठकर नरेंद्र मोदी ने जो Right बातें की, उसे SCO के सभी सदस्य देशों के राष्ट्राध्यक्षों ने बहुत ध्यान से सुना. लेकिन सवाल ये है, कि इस दौरान इमरान ख़ान क्या कर रहे थे ? अब आपको इसका जवाब बताते हैं. नरेंद्र मोदी के भाषण के बीच, इमरान ख़ान को उनकी गंभीर बातों की नहीं, अपनी Script की चिंता थी. वही Script, जिसे हमेशा पाकिस्तान की सेना लिखती है. हो सकता है, कि इस बार इमरान ख़ान की तैयारी पूरी नहीं थी. इसलिए, जब नरेंद्र मोदी अपना भाषण दे रहे थे, उस वक्त इमरान खान अपने भाषण की प्रैक्टिस कर रहे थे.

वैसे अंतरराष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पर सिर्फ़ दुनिया नहीं हंस रही थी,बल्कि उनके अपने विदेश मंत्री भी हंस रहे थे. भाषण के दौरान इमरान ख़ान के पीछे बैठे पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को भी इमरान खान के भाषण के दौरान हंसते हुए देखा गया.

SCO में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाषण 8 मिनट से थोड़ा सा ज़्यादा था. लेकिन इतने ही समय में उन्होंने पूरी गंभीरता से अपनी बात कह दी. आतंकवाद के मुद्दे पर नरेंद्र मोदी ने इमरान ख़ान से पहले ही अपना कूटनीतिक तीर छोड़ डाला था. और जब इमरान ख़ान के भाषण की बारी आई, तो उस वक्त भी भारत के प्रधानमंत्री ने सांकेतिक तस्वीरों की मदद से उन्हें अलग-थलग कर दिया. 

नरेंद्र मोदी, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का भाषण ध्यान से सुन रहे थे. लेकिन, पूरे भाषण के दौरान उन्होंने एक बार भी अपनी बांई तरफ नहीं देखा. नरेंद्र मोदी या तो अपनी दांई तरफ देख रहे थे. या फिर नीचे की तरफ. वैसे दिलचस्प बात ये थी, कि नरेंद्र मोदी की तुलना में इमरान ख़ान ने अपना भाषण ख़त्म करने के लिए दो मिनट का Extra समय लिया. यानी उनका भाषण 10 मिनट का था. लेकिन, उनके बयान में कुछ भी नया नहीं था. इस वक्त मेरे हाथ में इमरान ख़ान के भाषण की एक Copy है. जिसके कुछ हिस्से मैं आपको पढ़कर सुनाना चाहता हूं. इसके बाद हम आपको ये भी बताएंगे, कि कैसे Bishkek Declaration में इमरान ख़ान के इसी बयान की धज्जियां उड़ाई गईं.

आतंकवाद जैसे गंभीर विषय पर बात करते हुए इमरान ख़ान ने उसे धार्मिक एजेंडे से जोड़ दिया. और आतंकवाद के बचाव में इस्लाम का कार्ड खेला. इमरान ख़ान के मुताबिक, इस्लाम के खिलाफ असहिष्णुता बढ़ रही है और इस्लाम का डर फैलाया जा रहा है. जिससे तमाम धर्मों के बीच खाई बढ़ रही है. अपने बयान में बिना नाम लिए, उन्होंने भारत को भी घेरने की कोशिश की. और कश्मीर के मुद्दे को SCO में उछाल डाला. और इसके लिए इमरान ख़ान ने अवैध रुप से कब्ज़ा और राज्य द्वारा प्रायोजित आतंकवाद शब्द का ज़िक्र किया. लेकिन दूसरी तरफ Bishkek Declaration में पाकिस्तान के इस दावे की धज्जियां उड़ा दी गईं. अब आपको इसी Declaration वो हिस्सा पढ़कर सुनाता हूं.

इमरान ख़ान ने बड़ी चालाकी से अपने भाषण में इस्लाम वाला एजेंडा चलाने की कोशिश की. लेकिन उन्हें शायद ये पता नहीं होगा, कि इस Declaration में 19 बार Terrorism शब्द का ज़िक्र किया गया. और 9 बार Extremism शब्द का ज़िक्र किया गया. Extremism को हिन्दी में चरमपंथ कहते हैं. सिर्फ Bishkek Declaration में ही इमरान ख़ान की बेइज़्ज़ती नहीं हुई. SCO Summit के आखिरी दिन जो Press Release जारी किया गया. उसमें भी इमरान ख़ान का नाम नरेंद्र मोदी और शी जिनपिंग से काफी नीचे था. इस Press Release में भारत के प्रधानमंत्री का नाम पहले स्थान पर था.

अब आपको एक और तस्वीर दिखाते हैं. अपने भाषण में इमरान ख़ान ने अफगानिस्तान का भी ज़िक्र किया. और वहां पर शांति बहाली की प्रक्रिया का समर्थन किया. लेकिन, जब सारे नेता अपना भाषण ख़त्म करने के बाद Final Photo Opp के लिए इकट्ठा हुए, उस वक्त इमरान ख़ान, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के पीछे-पीछे चल रहे थे. जबकि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अफगानिस्तान के राष्ट्रपति Ashraf Ghani के साथ चल रहे थे. वो भी बात करते हुए.

इस बार हुए SCO Summit में 7 मौके आए, जब भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री एक साथ एक जगह मौजूद थे. लेकिन दोनों के बीच कोई संवाद नहीं हुआ. जब-जब Joint Photo Sessions हुए, तब-तब नरेंद्र मोदी ने इमरान ख़ान से दूरी बनाए रखी. 

हालांकि, पाकिस्तान का मीडिया वहां के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के हवाले से ये दावा कर रहा है, कि SCO Summit के आखिरी दिन यानी आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और इमरान ख़ान के बीच कुछ मिनटों की मुलाकात हुई है. पाकिस्तान का मीडिया इस मुलाकात को Chit-Chat कह रहा है. और दावा कर रहा है, कि दोनों राष्ट्राध्यक्षों ने हाथ मिलाए. इमरान ख़ान ने नरेंद्र मोदी से चुनावी नतीजों की चर्चा की. और उन्हें लोकसभा चुनाव में प्रचंड जीत हासिल करने के लिए बधाई भी दी.

पाकिस्तान के दावों पर भरोसा नहीं किया जा सकता. इसलिए अंतरराष्ट्रीय न्यूज़ चैनल WION ने भारत के विदेश मंत्रालय से संपर्क किया. और विदेश मंत्रालय ने स्पष्ट कर दिया है, कि दोनों नेताओं के बीच Leaders Lounge में शिष्टाचार वाली सामान्य मुलाकात हुई है. यहां ये स्पष्ट करना ज़रुरी है. कि दोनों नेताओं के बीच कोई औपचारिक मुलाकात नहीं हुई है. और ना ही Pull Aside जैसी स्थिति पैदा हुई. कूटनीतिक भाषा में Pull Aside का मतलब होता है कि किसी व्यक्ति को भीड़ के बीच से एक किनारे ले जाकर, निजी बातचीत करना. लेकिन, विदेश मंत्रालय ने ज़ोर देकर कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी ने इमरान ख़ान से कोई बातचीत नहीं की. इस बारे में सोशल मीडिया में चल रही ख़बरें ग़लत हैं. वैसे SCO Summit से आई तस्वीरों से एक बात स्पष्ट है. कि भारत ने एक बार फिर पाकिस्तान को उसकी हैसियत दिखा दी है.