Zee जानकारी : बगदादी के खात्मे के साथ आईएसआईएस की कमर टूट गई

Zee जानकारी : बगदादी के खात्मे के साथ आईएसआईएस की कमर टूट गई

- 11 जून 2014 ये वही तारीख थी जब ज़ी न्यूज़ ने सबसे पहले आपको इस हैरान कर देने वाली ख़बर के बारे में जानकारी दी थी।

-उस वक्त क़रीब 30 लाख की आबादी वाले, इराक के मोसुल शहर पर ISIS के आतंकवादियों ने कब्ज़ा कर लिया था। 

-हमने आपको बताया था, कि कैसे 10 जून 2014 को, ISIS के 1300 आतंकवादियों ने अचानक इस शहर पर हमला करके, कई लोगों की जान ले ली थी।

-आतंकवादियों ने शहर की हर इमारत, हर सड़क, यहां तक कि गाड़ियों को भी अपना निशाना बनाया।

-डर के मारे शहर की 5 लाख की आबादी ने उस वक्त मोसुल से भागना ही उचित समझा।

-जून 2014 में आतंकियों ने शहर की हाई सेक्युरिटी जेल की दीवार तोड़कर क़रीब ढाई हजार कैदियों को छुड़ा लिया था। 

-ये वो हमला था जिसके बाद मोसुल शहर से इराकी सेना और वहां के पुलिसवाले अपनी वर्दी उतारकर और हथियार फेंककर वहां से भाग खड़े हुए थे। 

-हैरानी इस बात की थी, कि 10 जून 2014 को मोसुल में मौजूद 30 हज़ार इराक़ी सुरक्षाबलों ने ISIS के 1300 आतंकियों के सामने हथियार डाल दिए थे।

-सितंबर 2014 तक मोसुल शहर में ISIS के क़रीब 31 हज़ार आतंकवादी थे। 

-यानी उस वक्त इराक की सेना के मुकाबले मोसुल में, आतंकवादियों की संख्या का अनुपात 8 के मुक़ाबले 1 का था। 

-इतना ही नहीं ISIS ने वहां के सेंट्रल बैंक से उस समय के मुताबिक 429 मिलियन डॉलर यानी करीब 2574 करोड़ रुपये लूट लिए थे। 

-जिसके बाद आतंकवादी संगठन ISIS दुनिया का सबसे अमीर आतंकवादी संगठन भी बन गया था। 

-लेकिन अब ISIS के दिन खराब चल रहे हैं।