Daily Panchang 11 April 2021 में जानिए शुभ तिथि और सूर्य देव को कीजिए प्रसन्न

रविवार का दिन सूर्य देव की पूजा के लिए उपयुक्त है. इस दिन उनकी पूजा से नवचेतना का संचार होता है और सूर्य देव सभी विकारों को नष्ट कर देते हैं. सूर्य ग्रह शांति के उपाय करने से जातकों को अनेक लाभ प्राप्त होते हैं.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Apr 11, 2021, 06:39 AM IST
  • सुबह 06:00 से 08:57 तक शुभ काम करें
  • शाम 05:06 से 06:40 तक शुभ काम न करें
Daily Panchang 11 April 2021 में जानिए शुभ तिथि और सूर्य देव को कीजिए प्रसन्न

नई दिल्लीः आज का पंचांग आपके लिए कई मायनों में खास है. 11 अप्रैल 2021 का दिन है. यह नई शुरुआत का समय भी है. चैत्र, कृष्ण पक्ष अमावस्या की तिथि है.

आज रेवती नक्षत्र के साथ इन्द्र योग रहेगा. इसके अलावा पंचांग में और क्या है खास, बता रहे हैं आचार्य विक्रमादित्य-

दिन- रविवार
महीना- चैत्र, कृष्णपक्ष
आज अमावस्या है

नक्षत्र
सुबह उत्तराभाद्रपद नक्षत्र है
7:26 से रेवती नक्षत्र के साथ इन्द्र योग रहेगा
रेवती नक्षत्र में पैदा होने वाले बच्चों की मूल शांति जरूर कराएं

शुभ मुहूर्त
सुबह 06:00 से 08:57 तक शुभ काम करें

राहुकाल
शाम 05:06 से 06:40 तक शुभ काम न करें

सूर्यदेव के इन मंत्रों का कीजिए जाप
रविवार का दिन सूर्य देव की पूजा के लिए उपयुक्त है. इस दिन उनकी पूजा से नवचेतना का संचार होता है और सूर्य देव सभी विकारों को नष्ट कर देते हैं. सूर्य ग्रह शांति के उपाय करने से जातकों को अनेक लाभ प्राप्त होते हैं.

चूंकि सूर्य आत्मा, राजा, कुलीनता, उच्च पद, सरकारी नौकरी का कारक है. अतः सूर्य ग्रह शांति मंत्र का जाप अथवा सूर्य यंत्र को स्थापित करने से जातक एक राजा के समान जीवन व्यतीत करता है. वह सरकारी क्षेत्र में प्रशासनिक स्तर का पद पाता है.

सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए सूर्य बीज मंत्र का जाप कर सकते हैं. 
यह मंत्र है - ॐ ह्रां ह्रीं ह्रौं सः सूर्याय नमः।

सूर्य बीज मंत्र को 7000 बार जपना चाहिए परंतु देश-काल-पात्र सिद्धांत के अनुसार कलयुग में इस मंत्र का (7000x4) 28000 बार उच्चारण करना चाहिए. 

इसके अलावा इस मंत्र का भी जाप शुभ फलादायी होता है. ॐ घृणि सूर्याय नमः!

ऐसे पाएं सूर्य देव का आशीर्वाद
सूर्य ग्रह से संबंधित वस्तुओं का दान रविवार को सूर्य की होरा और सूर्य के नक्षत्रों (कृतिका, उत्तरा-फाल्गुनी, उत्तरा षाढ़ा) में प्रातः 10 बजे से पूर्व किया जाना चाहिए. दान करने वाली वस्तुओं में गुड़, गेहूं, तांबा, माणिक्य रत्न, लाल पुष्प, खस आदि शामिल हैं. इसके अलावा सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए लाल और केसरिया रंग के वस्त्र धारण करें. पिता जी का सम्मान करें. प्रातः सूर्योदय से पहले उठें और अपनी नग्न आँखों से उगते हुए सूरज का दर्शन करें. 

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़