कालाष्टमी स्पेशल: आज रखें इन बातों का विशेष ध्यान, जानिए क्या है इस व्रत का महत्व

हर माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कालाष्टमी का पर्व मनाया जाता है. इस माह में यह उत्सव 3 मई 2021, सोमवार को मनाया जा रहा है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : May 3, 2021, 07:37 AM IST
  • कालभैरव की पूजा रात के समय की जाती है
  • आज काले कुत्ते को रोटी खिलाना शुभ होता है
कालाष्टमी स्पेशल: आज रखें इन बातों का विशेष ध्यान, जानिए क्या है इस व्रत का महत्व

नई दिल्ली: हर माह हिन्दू पंचांग के अनुसार काफी महत्वपूर्ण  माना जाता है. हर माह में मनोकामना पूर्ति वाले कई व्रत और त्योहार आते हैं. हर माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कालाष्टमी का पर्व मनाया जाता है. इस माह में यह उत्सव 3 मई 2021, सोमवार को मनाया जा रहा है. इस दिन व्रत भी किया जाता है. आज के दिन भक्त भगवान शिव के रुद्रस्वरुप कालभैरव को प्रसन्न करने के लिए पूजा-अर्चना करते हैं.

चलिए आज जानते कालाष्टमी का मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व. मान्यता है कि आज के दिन कालभैरव भक्तों से प्रसन्न होकर उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं.

शुभ मुहूर्त

अष्टमी तिथि आरंभ: 3 मई 2021, दोपहर 01:39 बजे

अष्टमी तिथि समाप्त: 4 मई 2021, दोपहर 01:10 बजे

ऐसे करें कालाष्टमी पर पूजा

1. आज के दिन सूर्योदय से पहले ही उठकर स्नान आदि कर साफ वस्त्र पहनने चाहिए.

2. आज पितरों का श्राद्ध करें और इसके बाद व्रत करने का संकल्प लें.

3. आज काल भैरव कथा का पाठ अवश्य करें. पूजा कर उन्हें जल अर्पित करना न भूलें.

4. काल भैरव की पूजा में धूप, दीप, गंध, काले तिल और उड़द आदि का उपयोग करें.

5. आज के लिए भगवान शिव-पार्वती की पूजा का भी विधान माना जाता है.

व्रत के दिन ध्यान रखें ये बातें

1. कालभैरव को तांत्रिकों का देवता भी माना जाता है, इसीलिए इस व्रत की पूजा रात के समय की जाती है.

2. आज के दिन मां बगलामुखी का भी अनुष्ठान करना चाहिए.

3. आज व्रत वाले दिन काले कुत्ते को रोटी खिलाना बेहद शुभ माना जाता है.

4. अगर संभव हो सके तो आज के दिन अपनी क्षमता के मुताबिक गरीब लोगों में वस्त्र और अन्न का दान करें.

कालाष्मटी का महत्व

मान्यता है कि कालाष्टमी पर व्रत और पूजा-पाठ करने से हर प्रकार के भय से मुक्ति मिल जाती है और भक्तों के जीवन के सभी दुख-परेशानियां समाप्त होने लगती हैं. इसके अलावा किसी भी प्रकार के रोगों से भी आज मुक्ति मिल सकती है. भगवान भैरव सदैव अपने भक्तों की रक्षा करते हैं. इस पूजा को करने से नकारात्मक शक्तियां दूर रहती हैं.

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़