close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

प्रफुल्ल पटेल पर NCP से अमित शाह का सीधा सवाल! जानिए- महाराष्ट्र चुनाव में कितना असर

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सियासी पारा परवान पर है. इस बीच एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल के दाऊद के करीबी इकबाल मिर्ची से तार जुड़े होने के आशंका पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने इस मसले पर NCP से प्रतिक्रिया की मांग की है.

प्रफुल्ल पटेल पर NCP से अमित शाह का सीधा सवाल! जानिए- महाराष्ट्र चुनाव में कितना असर

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में चुनाव बस कुछ ही दिन दूर रह गए हैं. चुनाव की गर्मी के बीच राज्य की प्रमुख विपक्षी पार्टी एनसीपी की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. पूर्व केंद्रीय मंत्री और एनसीपी के वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल पर ईडी का शिकंजा कसता जा रहा है. ईडी ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और एनसीपी के वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल को अंडरवर्ल्ड सरगना दाउद इब्राहिम के करीबी इकबाल मिर्ची से जुड़े मामले में समन जारी किया है. प्रफुल्ल पटेल को 18 अक्टूबर को मुंबई के ईडी दफ्तर में तलब किया गया है.

प्रफुल्ल पटेल पर आरोप है कि उनके दाउद के करीबी इकबाल मिर्ची के परिवार के संग कारोबारी करार था. प्रधानमंत्री मोदी ने महाराष्ट्र में एक चुनावी रैली में एनसीपी के डी कंपनी से रिश्तों का सीधा आरोप लगाया.

महाराष्ट्र चुनाव में एनसीपी को डी कंपनी के साथ रिश्तों की आंच महंगी साबित हो रही है. बीजेपी एनसीपी पर हमले लगातार तेज करती जा रही है. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस और एनसीपी से इस मामले में सफाई देने की मांग की है. अमित शाह ने ज़ी मीडिया से बातचीत में कहा कि अगर इकबाल मिर्ची के साथ कोई रिश्ते नहीं थे तो कांग्रेस एनसीपी के नेता क्यों नहीं इससे इंकार करते.

गृहमंत्री ने बोला, 'मैं कांग्रेस एनसीपी के नेताओं से ये पूछना चाहता हूं कि इकबाल मिर्ची की पत्नी के साथ किसी भी प्रकार के कमर्शियल एग्रीमेंट कांग्रेस और एनसीपी के नेताओं की नैतिक जिम्मेदारी है कि देश की जनता के सामने इसका खुलासा करें. अपनी प्रतिक्रिया दें, अगर गलत है तो जैसा कि न्यूज़ चैनल में आया है तो कहना चाहिए कि ये गलत है ऐसा कोई एग्रीमेंट नहीं हुआ है.'

हालांकि प्रफुल्ल पटेल ने इन सभी आरोपों को गलत बताया है. प्रफुल्ल पटेल ने अपनी सफाई में कहा है कि इकबाल मिर्ची या उसके परिवार के साथ उनके कभी कोई कारोबारी रिश्ते नहीं रहे.

NCP नेता प्रफुल्ल पटेल का कहना है कि 'मैं स्पष्ट करना चाहता हूं कि मिलेनियम डेवलपर्स जो कंपनी है वो पटेल परिवार की है. उसमें कभी एक रुपए का शेयर कभी भी हजरा इकबाल मेमन का कभी नहीं रहा है. न इस कंपनी ने जॉइंट वेंचर इनके साथ किया है. केवल 1999 में कोर्ट के साथ कन्सेंट टर्म फाइल हुई थी जितनी जगह उनके पास पजेशन में है उतनी जगह उनको रीकंस्ट्रक्ट बिल्डिंग में दी जाए. इसके अलावा कोई भी व्यवहार इनके साथ नहीं हुआ है. एक रुपए की आर्थिक लेन देन नहीं हुई है. कंपनी में उनका कोई शेयर नहीं रहा है. कोई भी व्यवहार नहीं रहा है न कोई जॉइंट वेंचर रहा है.'

ईडी के दावे पर भाजपा के सवाल

भले ही प्रफुल्ल पटेल ने इकबाल मिर्ची के साथ कमर्शियल एग्रीमेंट को नकारा हो लेकिन, सेल डीड वाले दस्तावेज पर सह-मालिक की हैसियत से हस्ताक्षर की बात को खारिज नहीं किया. ईडी के दस्तावेजों से मालूम होता है कि प्रफुल्ल पटेल और उनकी पत्नी की कंपनी मिलेनियम डेवलपर्स ने इकबाल मिर्ची के मालिकाना हक वाली जमीन पर 15 मंजिला इमारत का निर्माण किया. ये पूरा मामला इसी इमारत जिसे सीजे हाउस कहा जाता है उसके दो फ्लैट को लेकर है. ईडी का दावा है कि ये संपत्ति दाउद के करीबी सहयोगी इकबाल मिर्ची की है. सूत्रों के मुताबिक ईडी के पास जानकारी है कि साल 2007 में इकबाल मिर्ची और प्रफुल्ल पटेल के बीच सीजे हाउस प्रॉपर्टी को लेकर करार हुआ था. प्रफुल्ल पटेल के मुंबई बम ब्लास्ट से जुड़े लोगों के साथ रिश्तों पर भाजपा ने सवाल उठाए हैं.

अमित शाह ने इस दौरान ये भी बोला कि इकबाल मिर्ची जो बॉम्बे बम ब्लास्ट के आरोपी थे. 300 से ज्यादा लोगों की जान गई थी. इनकी (प्रफुल्ल पटेल) पत्नी के साथ किसी भी तरह का एग्रीमेंट जनता को हजम नहीं होता है.

इसलिए बढ़ रही NCP की मुश्किलें

आपको बता दें कि इस मामले में मनी ट्रेल की जांच भी की जा रही है. ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि पता लगाया जा सके कि कहीं मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए वर्ली के सीजे हाउस को खरीदने के लिए विदेशी खातों का इस्तेमाल तो नहीं किया गया. मुंबई के प्रमुख स्थानों पर मिर्ची की कई संपत्तियों का मालिकाना हक रखने वाले संदिग्ध चैरिटी ट्रस्ट के चेयरमैन यूसुफ को ईडी ने रियल एस्टेट एजेंट रंजीत सिंह बिंद्रा के साथ गिरफ्तार किया था. पूछताछ के दौरान यूसुफ ने दुबई में पांच सितारा होटल की खरीद के साथ मुंबई में 2006-07 के सीजे हाउस सौदे से जुड़ी मनी ट्रेल पर ईडी को अहम सुराग दिए हैं. अगर दुबई कनेक्शन की पुष्टि हो जाती है, तो पटेल की दिक्कत बढ़नी तय है. उधर एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार भी कोऑपरेटिव मामले में घिर चुके हैं. ऐसे में महाराष्ट्र चुनाव में एनसीपी के लिए जनता के सामने सफाई पेश करना टेढ़ी खीर होगा.

दिल के दौरे से हुई थी मिर्ची की मौत

एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल के लिए चुनावी मौसम में गले की फांस बने इकबाल मिर्ची की साल 2013 में हार्ट अटैक से मौत हो गई थी. वो साल 1993 मुंबई ब्लास्ट के साथ आईपीएल मैच फिक्सिंग, ड्रग तस्करी समेत कई मामलों में आरोपी था. माना जाता है कि वो यूरोप में दाऊद का ड्रग सिंडिकेट और दुबई में रियल एस्टेट बिजनेस संभालता था. साथ ही पत्रकार जनार्दन डे मर्डर केस के तार भी मिर्ची से जुड़े बताए जाते हैं.