close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हरियाणा और महाराष्ट्र के इन चुनावी आंकड़ों पर रहेगी सबकी नजर, जानें पूरा हाल

हरियाणा के चुनाव परिणाम पर सबकी नजर टिकी है जहां मामला त्रिशंकु हो चला है. कुछ ही दिन पहले अस्तित्व में आई जननायक जनता पार्टी फिलहाल न सिर्फ तीसरी बड़ी पार्टी बन कर उभरी है बल्कि सरकार बनाने की कुंजी भी साबित होने वाली है.

हरियाणा और महाराष्ट्र के इन चुनावी आंकड़ों पर रहेगी सबकी नजर, जानें पूरा हाल

नई दिल्ली: हरियाणा और महाराष्ट्र के चुनावी नतीजे लगभग घोषित हो गए हैं. चुनावी परिणाम से पहले एग्जिट पोल के बताए जा रहे सारे आंकड़े एक-एक सीट पर पर्चे खुलते ही धराशायी हो गए हैं. भाजपा जिस तरह से जीत दर्ज करना चाहती थी, ये परिणाम वैसे नहीं आए हैं. बेशक भाजपा दोनों ही राज्यों में सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी हो लेकिन हरियाणा में इतनी जोर-आजमाइश के बाद भी अधर में लटकी सरकार वाले परिणाम ही माने जा रहे हैं. वहीं महाराष्ट्र में भाजपा,शिवसेना रिपब्लिकन पार्टी की तिकड़ी किसी तरह दोबारा एनडीए सरकार बनाने के करीब पहुंच चुकी है. लेकिन एनसीपी और कांग्रेस ने उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन कर अपनी साख बचा ली है.  

महाराष्ट्र के चुनावी आंकड़े, एनडीए को सुकून

महाराष्ट्र में चुनावी परिणाम के आंकड़ों पर एक नजर डालते हैं.  महाराष्ट्र में भाजपा 25.64 फीसदी के वोट शेयर के साथ 103 सीटों पर जीत दर्ज करती नजर आ रही है. फिलहाल 66 सीटों पर पार्टी ने स्पस्ट जीत दर्ज कर ली है.. वहीं भाजपा के सहयोगी दल शिवसेना को 16.55 फीसदी वोट शेयर के साथ सीट के मामले में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी है. शिवसेना फिलहाल 57 सीटों पर जीत दर्ज करती दिख रही है. 45 सीट पर स्पष्ट जीत के साथ 12 सीटों पर आगे चल रही शिवसेना की स्थिति भी उम्मीद के आस-पास ही मानी जा रही है. वहीं एनसीपी को 16.75 फीसदी वोट मिले हैं और वह 53 सीटों के साथ तीसरी बड़ी पार्टी है. वहीं कांग्रेस 15.76 फीसदी वोट शेयर के साथ 46 सीटों पर अपना कब्जा जमाते नजर आ रही  है. 

हरियाणा के चुनावी आंकड़े, हंग असेंबली की तस्वीर

हरियाणा के चुनावी परिणाम की ओर नजर डालें तो आंकड़ें बड़े दिलचस्प नजर आएंगे. हरियाणा में भाजपा को 36.45 फीसदी वोट मिले हैं और वह 40 सीटों पर जीत दर्ज करने की तैयारी में है. कांग्रेस 28.13 फीसदी मतों के साथ 31 सीटों पर जीत दर्ज कर पाने में सफल हुई है. लेकिन सबका ध्यान अपनी ओर खींचने वाली दुष्यंत चौटाला की पार्टी जेजेपी ने 10 सीटों पर अपनी छाप छोड़ हरियाणा में हंग असेंबली की नींव रख डाली. आलम यह है कि हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद् सिंह हुड्डा ने प्रेस कांफ्रेंस बुला कर सरकार बनाने की बात जगजाहिर की तो उधर निवर्तमान सीएम मनोहर लाल खट्टर एक कदम आगे निकलते हुए राज्यपाल के पास सरकार बनाने के दावे के साथ अर्जी ले कर पहुंच गए. 

दरअसल, भाजपा और कांग्रेस ने शुरूआती रूझानों को देखते हुए दुष्यंत चौटाला से बातचीत शुरू कर दी थी. हालांकि आधिकारिक तौर पर चौटाला किसके पाले में आ कर गिरे इसकी पुष्टि तो नहीं हो पाई लेकिन कांग्रेस और भाजपा दमखम लगाए हुए हैं. हरियाणा के चुनावी परिणाम के बाद भाजपा को अपनी कमियों का अंदाजा जरूर हो गया होगा.