UP Election 2022: BSP ने हरिशंकर तिवारी के बेटों और रिश्तेदार को निकाला, सपा में हो सकते हैं शामिल

UP Election 2022: चिल्लूपार विधानसभा क्षेत्र से पार्टी विधायक विनय शंकर तिवारी, उनके भाई और पूर्व सांसद कुशल तिवारी व इनके रिश्तेदार गणेश शंकर पांडेय को बहुजन समाज पार्टी से निकाल दिया गया है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Dec 7, 2021, 07:30 AM IST
  • अखिलेश यादव से मिले थे विनय शंकर तिवारी
  • उन पर उचित व्यवहार न करने का भी आरोप

ट्रेंडिंग तस्वीरें

UP Election 2022: BSP ने हरिशंकर तिवारी के बेटों और रिश्तेदार को निकाला, सपा में हो सकते हैं शामिल

लखनऊः UP Election 2022: बहुजन समाज पार्टी (BSP) ने गोरखपुर की चिल्लूपार सीट से पार्टी विधायक विनय शंकर तिवारी और दो अन्य को अनुशासनहीनता के आरोप में पार्टी से निष्कासित कर दिया. बसपा के गोरखपुर मंडल के मुख्य सेक्टर प्रभारी सुधीर कुमार भारती ने सोमवार को इस संबंध में जानकारी दी.

अनुशासनहीनता के आरोप में की कार्रवाई
उन्होंने बताया कि चिल्लूपार विधानसभा क्षेत्र से पार्टी विधायक विनय शंकर तिवारी, उनके भाई और पूर्व सांसद कुशल तिवारी व इनके रिश्तेदार गणेश शंकर पांडेय को पार्टी से निकाल दिया गया है. सुधीर कुमार ने कहा कि उन्हें अनुशासनहीनता और पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ उचित व्यवहार नहीं करने को लेकर बसपा (बहुजन समाज पार्टी) से तत्काल प्रभाव से निष्कासित किया जाता है. 

पूर्वांचल में ब्राह्मण मतदाताओं पर है तिवारी का प्रभाव
मीडिया में हाल ही में ऐसी खबरें आई थी कि विनय शंकर तिवारी ने हाल ही में लखनऊ में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की थी और ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि वह बसपा से अलग होकर सपा में शामिल हो सकते हैं. पूर्वांचल क्षेत्र के ब्राह्मण मतदाताओं में तिवारी के परिवार का प्रभाव माना जाता है. 

2007 में कुशल तिवारी ने जीता था उपचुनाव
विनय शंकर तिवारी और कुशल तिवारी पूर्व मंत्री पंडित हरिशंकर तिवारी के बेटे हैं. कुशल तिवारी ने बसपा के टिकट पर साल 2007 के उप चुनाव में संतकबीरनगर लोकसभा सीट से जीत दर्ज की थी. साल 2009 के आम चुनाव में भी वह बसपा के टिकट पर जीते थे. हालांकि, 2014 के चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा.

12 दिसंबर को सपा में हो सकते हैं शामिल
बताया जा रहा है कि 12 दिसंबर को अखिलेश यादव की मौजूदगी में विनय तिवारी, उनके बड़े भाई कुशल तिवारी और गणेश पांडेय सपा में शामिल हो सकते हैं. कहा जा रहा है कि इनके साथ दो अन्य ब्राह्मण विधायक भी सपा में शामिल होंगे.

बता दें कि हरिशंकर तिवारी को पूर्वांचल क्षेत्र का पहला बाहुबली नेता कहा जाता है. तिवारी के नाम से एक समय पूरा पूर्वांचल थर्राता था. साल 1997 से लेकर 2007 तक लगातार उत्तर प्रदेश में किसी भी पार्टी की सरकार बनी हो, वो मंत्री रहे. 

यह भी पढ़िएः UP Election 2022: मायावती का दावा, यूपी में 2007 से ज्यादा सीटें लाएंगे, उत्तराखंड में अकेले लड़ेगी बसपा

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़