close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भाजपा को घेरने आए राहुल, मीडिया को बता दिया कमजोर

सोनिया गांधी की रैली रद्द होने के बाद राहुल गांधी महेंद्रगढ़ में जनसभा को संबोधित करने पहंचे. यहां उन्होंने भाजपा को घेरने की कोशिश की तो साथ ही मीडिया को भी मजबूर और पक्षपाती करार दे दिया.

भाजपा को घेरने आए राहुल, मीडिया को बता दिया कमजोर

महेंद्रगढ़: हरियाणा में विधानसभा का चुनावी रण अब अपने निर्णायक दौर से गुजर रहा है और सभी राजनीतिक दलों में इसे लेकर सरगर्मियां तेज हो गई हैं. एक तरफ भाजपा जहां रूठे हुओं को मनाने में कामयाब हो गई है तो वहीं कांग्रेस लोगों के बीच पहुंचकर संवाद की कोशिश में जुटी है. शुक्रवार दोपहर दो बजे राहुल गांधी महेंद्रगढ़ पहुंचे और अपने प्रत्याशी राव दान सिंह को वोट देने की अपील की. अपने भाषण की शुरुआत करते हुए राहुल ने कांग्रेस अध्यक्ष के न आ पाने पर खेद जताया. उन्होंने बताया कि सोनिया जी को वायरल हो गया है जिसके चलते वो रैली में नहीं आ पाई.

उन्होंने कहा कि मुझे आखिरी मिनट में बताया और मैं आ गया, अगर आपने कभी आखिरी सेकंड में भी मुझे बुलाया तो हाजिर हो जाऊंगा. इसके बाद कांग्रेस नेता राहुल अपने नजरिए से देश की हालत बयां करने लगे और बेरोजगारी का राग अलापते हुए भाजपा सरकार को घेरने की कोशिश की.

अचानक मीडिया पर उठाने लगे सवाल

नोटबंदी को बेरोजगारी की वजह बताते हुए राहुल ने एक बार फिर जीएसटी को गब्बर सिंह टैक्स बताया और कहा कि कश्मीर से कन्याकुमारी और बंगाल से गुजरात तक लोग इससे परेशान मिलेंगे. इतना कहते-कहते उन्होंने मीडिया को घेर लिया और कहने लगे कि दूसरी ओर हमारे मीडिया वाले दोस्त दबाव में आकर दिन भर, 24 घंटे मोदी जी के वीडियो दिखाते रहते हैं. उन्होंने सवाल उठाया कि मीडिया कभी बेरोजगारी की खबरें नहीं दिखाती और खुद ही दावा करने लगे कि मीडिया वाले डरते हैं, कहते हैं कि हमने सच लिखा तो हमारी नौकरी चली जाएगी.

खुद थपथपाई अपनी पीठ

इसके अलावा उन्होंने किसानों की कर्जमाफी को लेकर अपनी सरकार की पीठ ठोंकी. उन्होंने कहा कि इन्होंने (भाजपा) हरियाणा में किसानों का कर्ज माफ करने का वादा किया था लेकिन आज तक नहीं किया. हमने मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, पंजाब में यही वादा किया था, जिसे पूरा किया. हालांकि मध्यप्रदेश में उन्हीं के नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने हाल ही में कमलनाथ सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया था. इसके अलावा उन्होंने अपने यूपीए के 10 सालों और मनमोहन सिंह के अर्थव्यवस्था की नीति की भी खुद ही सराहना की.

राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार का ठिकरा मीडिया के सिर पर फोड़ दिया और जमकर कोसना शुरू कर दिया. हालांकि, कांग्रेस पार्टी के हालात किसी से छिपे नहीं है. ऐसे में राहुल गांधी के इस बयान के क्या मायने हैं, इसका बखान करने की आवश्यकता नहीं है.

यहां देखें- राहुल गांधी का पूरा भाषण