Bengal Election 2021: ये दस बदलाव, बदलेंगे बंगाल का चुनाव

पश्चिम बंगाल सहित पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही चुनाव आयोग ने कई बड़े बदलावों चुनावी प्रक्रिया में किए हैं. 

Written by - Navin Chauhan | Last Updated : Feb 26, 2021, 11:30 PM IST
  • 80 साल से अधिक उम्र के लोग डालेंगे पोस्टल बैलेट.
  • चुनाव कर्मचारियों का होगा वैक्सिनेशन.
Bengal Election 2021: ये दस बदलाव, बदलेंगे बंगाल का चुनाव

नई दिल्ली: केंद्रीय चुनाव आयोग ने शनिवार को पश्चिम बंगाल, असम, केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी विधानसभा के लिए चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया. इन चार राज्यों व केंद्र शासित पुडुचेरी में 27 मार्च से 29 अप्रैल के बीच अलग-अलग चरणों में मतदान संपन्न होगा. चुनाव परिणाम की घोषणा 2 मई को होगी. 

कोरोना संकट के बीच चुनावी प्रक्रिया को संपन्न कराने के लिए बाध्य चुनाव आयोग ने चुनावी प्रक्रिया में बड़े बदलाव करते हुए डिजिटल रास्ता अख्तियार किया है. उम्मीदवारों, मतदाताओं और कर्मचारियों की सुरक्षा को लेकर भी कई बड़े कदम चुनाव आयोग ने उठाए हैं. 

नामांकन की ऑनलाइन प्रक्रिया
आयोग ने कोरोना संकट को देखते हुए चुनावी प्रक्रिया में सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग करने का फैसला किया है, पारंपरिक प्रक्रिया के साथ-साथ नामांकन प्रक्रिया को डिजिटल कर दिया है. ऑनलाइन नामांकन फॉर्म सीईओ अथवा डीईओ की वेबसाइट पर उपलब्ध होगा. 

चुनावी रण में उतरने वाले उम्मीदवार के पास ऑनलाइन फॉर्म भरने का विकल्प होगा.  उम्मीदवार को ऑनलाइन भरे हुए फॉर्म के प्रिंट आउट को उपयुक्त फॉर्मेट में रिटर्निंग ऑफीसर के पास जमा करना होगा.  उम्मीदवार अपना शपथपत्र भी ऑनलाइन भर सकते हैं. भरे हुए फॉर्म का प्रिंटआउट की नोटरी कराकर उसे नामांकन फॉर्म के पास जमा कराना होगा. इसके साथ ही उम्मीदवार के पास जमानत राशि भी ऑनलाइन जमा करने का विकल्प होगा. 

नामांकन के दौरान केवल 2 लोगों जा सकेंगे उम्मीदवार के साथ 
कोरोना संकट को देखते हुए चुनाव आयोग ने नामांकन के दौरान उम्मीदवार के साथ पांच समर्थकों की उपस्थिति को कम करके दो कर दिया है. इसके अलावा नामांकन के दौरान उम्मीदवार केवल दो वाहन साथ ले जा सकेंगे. पहले ये संख्या तीन थी.

ये भी पढ़ें: Bengal Election: 'चुनावी खेला' की तारीखों का हुआ ऐलान, जानिए कब कहां होगा मतदान?

वोटर इन्फॉर्मेशन स्लिप
चुनाव आयोग ने पहली बार मतदाताओं को मतदान की तारीख, केंद्र और समय की सूचना देने के लिए वोटर इन्फॉर्मेशन स्लिप जारी करने का फैसला किया है. 28 फरवरी 2019 को आयोग ने फोटो वाली वोटर इन्फॉर्मेशन स्लिप को बंद करने का फैसला किया था। इसी के स्थान पर आयोग ने वीआईएस जारी करने का फैसला किया है इसमें पहले की तरह मतदाता की तस्वीर नहीं होगी. 

चुनाव कर्मियों का होगा वैक्सिनेशन 
कोरोना संकट के बीच पांच राज्यों में मतदाताओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए चुनाव आयोग ने चुनाव प्रक्रिया में शामिल होने वाले सभी कर्मचारियों को कोरोना वैक्सीन लगाने का फैसला किया है. चुनाव को आवश्यक सेवा मानते हुए आयोग ये फैसला किया है. इसके अलावा पोलिंग बूथ में मतदाताओं की संख्या को कम करने के लिए पोलिंग बूथ की संख्या में 30 से 40 प्रतिशत इजाफा किया गया है. 

मतदान केंद्रों में होगी सेनेटाइजर और थर्म स्क्रीनिंग की सुविधा
मतदान केंद्रों में सेनेटाइजर की व्यवस्था होगी इसके अलावा मतदाताओं के बीच सामाजिक दूरी बनाए रखने के भी इंतजाम भी होंगे. वोटर्स को वोट डालने से पहले थर्मल स्क्रीनिंग से गुजरना होगा. अगर उसका तापमान दो बार जांचने पर भी सामान्य से ज्यादा आता है तो उस वोटर को टोकन देकर मतदान के आखिरी घंटे में आने के लिए कहा जाएगा. कोरोना की वजह से वोटिंग के समय में एक घंटे का इजाफा किया गया है. 

ये भी पढ़ें: Bengal Election: चुनावी तारीखों के ऐलान के साथ इलेक्शन कमीशन ने कसी 'ममता की पुलिस' पर नकेल

रोड शो और डोर टू डोर कैंपेन और चुनावी सभा
चुनाव आयोग ने पांच राज्यों के चुनाव के दौरान रोड शो, डोर-टू-डोर कैंपेन और चुनावी सभा के तरीके में बदलाव किया है.  टू डोर कैंपेन में सिर्फ 5 लोगों को जाने की अनुमति होगी. वहीं रोड शो के दौरान केवल पांच गाड़ियों के काफिले को एक साथ जाने की अनुमति होगी. पहले यह संख्या 10 थी. वहीं चुनावी सभा के लिए राज्य की डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी द्वारा तय की गई संख्या से ज्यादा लोगों को शामिल नहीं होने की अनुमति नहीं होगी. 

बुजुर्गों के लिए पोस्टल बैलेट 
चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में कोरोना संकट को देखते हुए 80 साल से अधिक के बुजुर्गों और दिव्यांगों के लिए पोस्टल बैलेट की सुविधा दी है. ऐसे लोगों को नामांकन की प्रक्रिया पूरी होने के पांच दिन बाद पोस्टल बैलेट के जरिए वोट डालने के लिए स्थानीय प्रशासन को सूचित करना होगा. 

दृष्टिहीनों के लिए ब्रेल में वोटर इन्फॉर्मेशन स्लिप
मतदान में दृष्टिहीन दिव्यांगों की भागीदारी को बढ़ाने के लिए चुनाव आयोग ने स्पेशल ब्रेल वोटर इन्फॉर्मेशन स्लिप जारी करने का फैसला किया है. ऑ

वोटरों के लिए हेल्पलाइन नंबर
वोटरों की मदद के लिए हेल्पलाइन 1950 की सुविधा उपलब्ध होगी. इस नंबर पर फोन और एसएमएस करके मतदाता सूची में अपने नाम के बारे में जानकारी हासिल कर सकते हैं. इसके अलावा वोटर हेल्पलाइन ऐप के जरिए भी ये जानकारियां हासिल कर सकते हैं. 

महिला सशक्तिकरण
महिला सशक्तिकरण के लिए चुनाव आयोग ने फैसला किया है कि इन विधानसभा चुनाव के दौरान कम से कम एक पोलिंग बूथ पूरी तरह महिलाओं द्वारा संचालित होना सुनिश्चित किया जाएगा. आयोग ने इसके  संबंध में भी दिशानिर्देश जारी किए हैं. 

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

 

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़