हार के बाद भावुक हुए मनोज तिवारी, 'लड़ेंगे और आगे बढ़ेंगे'

दिल्ली विधआनसभा चुनाव में भाजपा को हार और आम आदमी पार्टी को जीत हासिल हुई है. आम आदमी पार्टी को 63 और भाजपा को 7 सीटों पर बढ़त मिली है. 2015 की तरह अरविंद केजरीवाल ऐतिहासिक जीत दर्ज कर रहे हैं लगातार तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं.

हार के बाद भावुक हुए मनोज तिवारी, 'लड़ेंगे और आगे बढ़ेंगे'

दिल्ली: दिल्ली की जनता ने अपना जनादेश दे दिया है. इससे स्पष्ट है कि भाजपा को नकार कर अब जनता ने अगले पांच साल के लिये दिल्ली की सत्ता फिर से अरविंद केजरीवाल को सौंप दी है. दूसरी तरफ भाजपा के लिये दिन रात मेहनत करने वाले और भाजपा को 21 साल बाद दिल्ली की सत्ता में वापस लाने के लिये जी जान से समर्पित रहने वाले दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने पूरी विनम्रता के हार स्वीकार कर ली है. कार्यकर्ताओं को संबल प्रदान करते हुए मनोज तिवारी भावुक हो गये और भरे गले से कार्यकर्ताओं के परिश्रम को नमन किया.

हमें निराश नहीं होना है आगे बढ़ना है- मनोज तिवारी

 

दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि भाजपा संघर्ष करने वाली पार्टी है. भाजपा ने हमेशा मेहनत करके ये मुकाम हासिल किया है. उन्होंने भावुक होकर कहा कि जब आप मेहनत करते हैं और आपके अनुकूल परिणाम नहीं आते हैं तो निराशा होती है लेकिन हम निराश नहीं होंगे बल्कि आगे बढ़ेंगे और भाजपा के लिये समर्पित मन से लगे रहेंगे. मनोज तिवारी ने अरविंद केजरीवाल को जीत की शुभकामनाएं दीं.

कांग्रेस लुप्त हो गयी है- मनोज तिवारी

दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि  दिल्ली  में केवल दो पार्टियां ही बची हैं. कांग्रेस दिल्ली से पूरी चतरह से लुप्त हो गयी है. आपको बता दें कि कांग्रेस की इस चुनाव दुर्दशा हो गयी. कांग्रेस सभी 70 सीटों पर भाजपा और आम आदमी पार्टी से नीचे है. कांग्रेस की 67 सीटों पर जमानत जब्त हो गयी. 

कांग्रेस की शर्मनाक हार

कांग्रेस के खाते में एक बार फिर शून्य आता दिख रहा है. यह देश की सबसे पुरानी पार्टी के लिए बहुत शर्मनाक स्थ‍िति है जो कुछ साल पहले ही शीला दीक्ष‍ित के नेतृत्व में लगातार 15 साल शासन कर चुकी है. कांग्रेस को 2015 में भी एक भी सीट नहीं मिली थी. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जीत के बाद समर्थकों को शुक्रिया कहा. उन्होंने कहा कि यह देश और दिल्लीवासियों की जीत है. बता दें कि जीत की इस जश्न में मनीष सिसोदिया कहीं नजर नहीं आए. संजय सिंह और गोपाल राय मंच पर अरविंद केजरीवाल के साथ थे लेकिन सिसोदिया वहां नहीं दिखे.

ये भी पढ़ें- दिल्ली चुनाव परिणाम: सीटों के मामले में कांग्रेस को हुआ 'कोरोना'