शरद पवार के घर मीटिंग, कांग्रेस ने दिए शिवसेना के साथ जाने के संकेत

 राजधानी दिल्ली में एनसीपी प्रमुख शरद पवार के निवास पर हुई बैठक के बाद यह संभावना सामने आई है कि कांग्रेस के साथ मिलकर एनसीपी और शिवसेना सरकार बनाने के अंतिम चरण में हैं. हालांकि यह कितना सही है और कितना गलत कुछ कहा नहीं जा सकता. क्योंकि पिछले 25 दिनों से महाराष्ट्र में सिर्फ बयानबाजी का दौर जारी है.

शरद पवार के घर मीटिंग, कांग्रेस ने दिए शिवसेना के साथ जाने के संकेत

नई दिल्लीः महाराष्ट्र में सरकार बनने को लेकर छाए गतिरोध के छंटने के आसार नजर आ रहे हैं.  राजधानी दिल्ली में एनसीपी प्रमुख शरद पवार के निवास पर हुई बैठक के बाद यह संभावना सामने आई है कि कांग्रेस के साथ मिलकर एनसीपी और शिवसेना सरकार बनाने के अंतिम चरण में हैं. बैठक के बाद कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि राज्य में एक स्थिर सरकार की जरूरत है. उन्होंने एनसीपी के साथ हुई बैठक को सार्थक करार दिया. 

नवाब मलिक ने भी सुर से सुर मिलाए
एनसीपी नेता नवाब मलिक भी इस मौके पर कांग्रेस के सुर में सुर मिलाते दिखे. मलिक ने कहा कि शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के बिना राज्य में एक स्थिर सरकार नहीं बन सकती है. उन्होंने राष्ट्रपति के शासन को हटाना बेहद जरूरी बताया है.

वहीं पृथ्वीराज चव्हाण का कहना है कि हमारे बीच सकारात्मक बात हुई है. राज्य में राष्ट्रपति शासन हटाने की जरूरत है. दोनों नेताओं के बयानों से माना जा रहा है कि कांग्रेस ने शिवसेना के साथ गठबंधन को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है. 

50 लाख का चेक बाउंस, डीडीसीए उपाध्यक्ष को हटाया

शिवसेना के साथ जाने पर पसोपेश नहीं
अभी तक कांग्रेस के शिवसेना के साथ जाने के सिर्फ कयास लग रहे थे. बीच में इस कयास को मजबूती मिली थी, लेकिन तब शिवसेना के सैद्धांतिक मूल्यों के खतरे में आने की आशंका आ जाती थी. कांग्रेस ने समर्थन के लिए शिवसेना के सामने सॉफ्ट हिंदुत्व का रुख अपनाने की शर्त रखी थी. बातचीत के दौरा चव्हाण ने कहा कि राज्य में दिनों से अस्थिरता है और सूबे को एक मजबूत सरकार की जरूरत है.

हालांकि उन्होंने शिवसेना के साथ गठबंधन पर सहमति को लेकर कोई ठोस जवाब नहीं दिया. लेकिन, राष्ट्रपति शासन हटाने की जरूरत बताकर यह संकेत जरूर दिया कि अब शिवसेना के साथ जाने पर पार्टी पसोपेश में नहीं है. 

पीएम मोदी और पवार ने मिलकर खिचड़ी पकाई, कांग्रेस घबराई

सोनिया ने कहा था नो कमेंट्स, पीएम से मिले थे एनसीपी प्रमुख
बुधवार को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से जब पूछा गया था कि महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर क्या चल रहा है तो उन्होंने इस बारे में कोई जवाब नहीं दिया था. बल्कि नो कमेंट्स कहकर आगे बढ़ गईं थीं. इसके बाद कयास लग रहे थे कि शिवसेना से अभी ठोस बातचीत नहीं हुई है. वहीं एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने भी सरकार बनाने के सवाल पर कहा था कि हमें नहीं पता.

भाजपा-शिवसेना साथ में चुनाव लड़ी थीं तो आप उनसे पूछिए. इसके बाद एनसीपी प्रमुख ने किसानों का मुद्दा लेकर प्रधानमंत्री से मुलाकात की थी. इस नाजुक समय में इस मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे थे. 

शिवसेना विधायकों के बगावती तेवर से घबराए ठाकरे?