close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र विधानसभा की रणभूमि पर PM मोदी ने भरी हुंकार! पढ़ें- 10 बड़ी बातें

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सियासी पारा हाई है. सभी सियासी दल और सियासतदान अपना दमखम दिखाने में जुटे हुए हैं. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विरोधियों पर तीखा वार करते हुए कहा कि वो घड़ियाली आंसू बहाना बंद करें.

महाराष्ट्र विधानसभा की रणभूमि पर PM मोदी ने भरी हुंकार! पढ़ें- 10 बड़ी बातें
महाराष्ट्र के चुनावी रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में सियासी दांव पेंच का सिलसिला तेज हो चुका है. भाजपा की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद मोर्चा संभाला है. इस दौरान व विपक्षी दलों पर जमकर बरसे और अपनी सरकार की उपलब्धियां भी गिनाई. 

नीचे पढ़ें- चुनावी रैली में पीएम मोदी की 10 बड़ी बातें...

जलगांव में पीएम मोदी की दहाड़

1). नए भारत का नया जोश

  • 'हम सभी आने वाले 5 वर्षों के लिए देवेंद्र फडणवीस जी की अगुवाई में महायुति सरकार के लिए एक बार फिर आप सबका आशीर्वाद लेने आये हैं. साथ ही आपने लोकसभा चुनाव में हमें जो आशीर्वाद दिया उसके लिए भी आभार जताने आये हैं. अब नए भारत का नया जोश, दुनिया को भी दिखने लगा है. आज दुनिया में नए भारत का जो जलवा है, उसके पीछे सिर्फ और सिर्फ मेरे 130 करोड़ देशवासी हैं. आज भारत की आवाज दुनिया की हर ताकत मजबूती से सुन रही हैं. दुनिया का हर देश आज भारत के साथ खड़ा हैं, हमारे साथ मिलकर आगे बढ़ने के लिए उत्साहित है आज नया भारत ठान चुका है कि उसे अतीत के अनावश्यक बंधनों में बंधकर नहीं रहना है. आज नया भारत खुद के वर्तमान को मजबूत तक कर ही रहा है, खुद का भविष्य भी तय कर रहा है. बीते कुछ समय से हम लगातार चुनौतियों को चुनौती दे रहे हैं.'

2). भगवान वाल्मीकि के चरणों में नमन

  • '5 अगस्त को आपकी भावना के अनुरूप भाजपा- NDA सरकार ने एक अभूतपूर्व फैसला लिया. जिसके बारे में सोचना तक पहले असंभव लगता था. एक ऐसी स्थिति जिसमें जम्मू कश्मीर के गरीब की, बहन-बेटियों की, दलितों और शोषितों के विकास की संभावनाएं नहीं के बराबर थी. जम्मू कश्मीर और लद्दाख सिर्फ जमीन का एक टुकड़ा नहीं है, वो मां भारती का शीष है, वहां का कण-कण भारत की शक्ति को मजबूत करता है. आप ये जानकार हैरान हो जाएंगे कि 70 साल तक जम्मू कश्मीर और लद्दाख के हमारे वाल्मीकि भाइयों को मानवाधिकारों से भी वंचित कर दिया गया था. आज मैं भगवान वाल्मीकि के चरणों में नमन करते हुए कहता हूं कि आज मुझे अपने उन भाइयों को गले लगाने का सौभाग्य मिल रहा है. आज दुर्भाग्य के साथ कहना पड़ रहा है कि हमारे देश के कुछ राजनीतिक दल, कुछ राजनेता, राष्ट्रहित में लिए गए इस निर्णय पर राजनीति करने में जुटे हैं.'

3). ये घड़ियाली आंसू बहाना बंद करें

  • 'बीते कुछ महीनों में कांग्रेस-एनसीपी के नेताओं के बयान देख लीजिए. जम्मू-कश्मीर को लेकर जो पूरा देश सोचता है, उससे एकदम उल्टा इनकी सोच दिखती है. इनका तालमेल पड़ोसी देश के साथ मिलता जुलता है. आज मैं विरोधियों को चुनौती देता हूं कि आपमें अगर हिम्मत है तो इस चुनाव में भी और आने वाले चुनावों में भी अपने चुनावी घोषणा पत्र में ये ऐलान करें कि हम अनुच्छेद 370 को वापस लाएंगे. 5 अगस्त के निर्णय को हम बदल देंगे। वर्ना ये घड़ियाली आंसू बहाना बंद करें.'

4). भाजपा-शिवसेना गठबंधन का नेतृत्व कर्मशील

  • 'बीते 5 वर्षों के हमारे काम से यहां विपक्षी भी हैरान और परेशान हैं. हमारे विरोधी भी आज ये मान रहे हैं कि भाजपा-शिवसेना गठबंधन का नेतृत्व कर्मशील भी है और ऊर्जावान भी है. थके हुए साथी, एक दूसरे के लिए सहारा तो बन सकते हैं, महाराष्ट्र के सपनों को और यहां के युवाओं की आकांक्षाओं को पूरा करने का माध्यम नहीं बन सकते. जब यहां की गरीब बहनों के जीवन में आए बदलाव के बारे में सुनते हैं, तो हमें संतोष होता है. आज महाराष्ट्र की करीब 10 लाख बहनें हमारी सरकार की आवास योजना की वजह से अपने पक्के घर में अपने परिवार की देखभाल कर रही हैं.'

5). हर गरीब को अपना घर

  • 'महाराष्ट्र और देश के हर गरीब के अपने घर के सपनें को 2022 तक पूरा करने के लिए हम पूरे सामर्थ्य के साथ जुटे हैं. हमारी सरकार एक और बड़े संकल्प को ज़मीन पर उतारना शुरु कर चुकी है. ये संकल्प पानी का है, महाराष्ट्र सहित पूरे देश के हर घर को जल से जोड़ने का है. इस संकल्प को पूरा करने के लिए जल जीवन मिशन पर साढ़े तीन लाख करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे. अब हम किसानों को पोषक के साथ-साथ निर्यातक बनाने की गंभीरता से कोशिश कर रहे हैं. फूड प्रोसेसिंग उद्योगों की इसमें महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी. इस पूरे इलाके की आर्थिक स्थिति में अब तेजी से परिवर्तन आने वाला है.'

भंडारा के साकोली में गरजे पीएम

6). इस चुनाव में आप पूरी फिल्म दिखेगी

  • 'बांटने और छांटने वाली राजनीति अब अतीत हो गई है और इसका ट्रेलर आपने 2014 में दिखा दिया था और इस चुनाव में आप पूरी फिल्म दिखने वाले हैं. जो काम करेगा उसको ही आपका विश्वास मिलेगा, ये अब सिद्ध हो चुका है. आज हमारी हर नीति, हर रणनीति- जनकल्याण से राष्ट्रकल्याण की है, जन अभियान से राष्ट्रनिर्माण की है. चाहे गरीबों के घर का और शौचालय का निर्माण हो, हर घर में बिजली का कनेक्शन हो, गरीबों को मुफ्त इलाज मिले. इन सभी योजनाओं के केंद्र में गरीब और सामान्य जन है.'

7). गांव की सड़कों पर तेजी से काम

  • 'पहले पानी के मामलों को अलग अलग मंत्रालय और विभाग देखते थे, सब बिखरा पड़ा था. इसका एक असर ये भी था की पानी से जुडी योजनाएं पूरा होने में वर्षों लग जाते थे. अब ये सभी विभाग जल शक्ति मंत्रालय के अंतर्गत लाये गए हैं. देश की ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर अब जितना ध्यान दिया जा रहा है, उतना पहले कभी नहीं दिया गया. गांव की सड़कों पर पहले ही तेजी से काम चल रहा है. अब आने वाले वर्षों में गावों में इंफ्रास्ट्रक्टर को विकसित करने के लिए 25 लाख करोड़ रुपये खर्च किये जाएंगे.'

8). किसानों को पेंशन

  • 'लोकसभा चुनाव के दौरान हमने आपको आश्वस्त किया था कि पीएम किसान सम्मान निधि के अंतर्गत हर किसान को लाया जाएगा और छोटे किसानों को पेंशन की सुविधा से जोड़ा जाएगा. आज ये दोनों वायदे हकीकत में बदल चुके हैं.'

9). आदिवासी बच्चों की शिक्षा में इजाफा

  • 'आदिवासी क्षेत्रों के विकास के लिए और स्वरोजगार पर आज चारों दिशाओं में नए नए प्रकल्पों द्वारा तेजी से काम चल पड़ा है। आदिवासी बच्चों की शिक्षा और उनकी स्किल को बढ़ाने के लिए एकलव्य मॉडल स्कूल का व्यापक नेटवर्क सरकार द्वारा तैयार किया जा रहा है.'

10). पर्यटन के लिए भरपूर संभावनाएं

  • 'भारत पर्यटन के मानचित्र पर तेजी से उभर रहा है. पूरी दुनिया से बड़ी संख्या में टूरिस्ट भारत आ रहे हैं. कल ही मैं तमिलनाडु के महाबलीपुरम में था. वहां जब चीन के राष्ट्रपति से मेरी बातचीत हो रही थी तो वो भारत की सांस्कृतिक समृद्धि से बहुत प्रभावित थे. ये पूरा क्षेत्र जंगलों से भरा है, तालों-तालाबों और झरनों से भरपूर है. यहां पर्यटन के लिए भरपूर संभावनाएं हैं. आदिवासी समाज द्वारा तैयार होने वाले उत्पाद भी यहां भरपूर हैं. चुलबंद नदी और नागझीरा नेशनल पार्क को पर्यटकों के लिए और आकर्षक बनाना ज़रूरी है.'