महाराष्ट्र में कुर्सी को लेकर दिनभर चली माथापच्ची! पढ़ें: पूरा घटनाक्रम

महाराष्ट्र में सियासी रणभूमि पर जंग कम और ड्रामा ज्यादा होता दिखाई दे रहा है. प्रदेश की आवाम इस इंतजार में बैठी है कि कब मुख्यमंत्री के चेहरे से सस्पेंस खत्म होगा. इस बीच दिन भर कांग्रेस-एनसीपी-शिवसेना की बैठक में माथापच्ची होती रही लेकिन सीएम के नाम की घोषणा नहीं हुई.

महाराष्ट्र में कुर्सी को लेकर दिनभर चली माथापच्ची! पढ़ें: पूरा घटनाक्रम

नई दिल्ली: मुंबई से लेकर दिल्ली तक नेताओं की भागमभाग चली तब अब जाकर महाराष्ट्र में नई सरकार बनने की सूरत करीब-करीब साफ नजर रही है. शिवसेना, एनसीपी, कांग्रेस मिलकर सरकार बनाने को तैयार है लेकिन सरकार के लिए किसकी ताजपोशी की जाएगी? इस सवाल का जवाब तलाशने में हर कोई जुटा हुई है.

दिनभर का घटनाक्रम

1). सुबह-सुबह शिवसेना की बैठक

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार सुबह अपने आवास मातोश्री पर पार्टी विधायकों की मीटिंग बुलाई. इस मीटिंग को संबोधित करते हए उद्दव ठाकरे ने साफ साफ कहा कि शिवसेना अब नए गठबंधन के साथ सरकार बनाने जा रही है.

इस मौके पर विधायकों ने उद्धव से सीएम बनने की मांग की. जिस पर उद्दव ठाकरे ने पार्टी विधायकों से कहा कि ये फैसला वो उन पर छोड़ दें. हालांकि पार्टी प्रवक्ता संजय राउत ने भी ये इच्छा जताई कि उद्दव ठाकरे ही सीएम बनें।

उद्धव ठाकरे ने इस मौके पर बीजेपी के साथ गठबंधन तोड़ने की वजह भी पार्टी विधायकों को बताई और कहा कि बीजेपी ने झूठ बोलना शुरू कर दिया जिसकी वजह से 25 साल से चले आ रहे गठबंधन में बने रहना ठीक नहीं था.

2). शिवसेना से ही बनेगा मुख्यमंत्री!

इस बीच कांग्रेस पार्टी के नेता माणिकराव ठाकरे ने मीडिया के सामने इस बात का ऐलान कर दिया कि महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री शिवसेना से ही होगा. उन्होंने ये भी साफ किया कि एनसीपी इस पद के लिए मांग नहीं कर रही है.

3). सरकार बनाने के फॉर्मूला- संभवतः

इस बीच उड़ती-उड़ती ये खबर आई कि सरकार बनाने के साथ-साथ मंत्रालय पर भी सहमति बनती दिख रही है. एक सीएम और 2 डिप्टी सीएम के फॉर्मूले वाली 3 दलीय गठबंधन सरकार में मंत्रालयों का बंटवारा भी करीब करीब हो चुका है. जहां शिवेसना के हिस्से में वित्त मंत्रालय के साथ, शहरी विकास, शिक्षा, गृहनिर्माण, ग्रामविकास,  स्वास्थ्य , कृषि , सामान्य प्रशासन, परिवहन, उद्योग, लोकनिर्माण, पर्यावरण और संसदीय कार्य मंत्रालय जा सकते हैं. तो वहीं एनसीपी के खाते में गृह मंत्रालय के साथ, बिजली विभाग, सहकारिता, सिंचाई, मेडिकल एजूकेशन, पर्यटन, पीडब्ल्यूडी (MSRTC), पशुपालन, फूड सिविल सप्लाईज और कामगार मंत्रालय जा सकते हैं. वहीं कांग्रेस की झोली में राजस्व मंत्रालय के साथ साथ, हायर एजुकेशन, एफडीए, अल्पसंख्यक वक्फ, महिला बाल कल्याण, सामाजिक न्याय मंत्रालय आ सकते हैं.

4). बैठक पर बैठक, और कितनी बैठक?

महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए शिवसेना और कांग्रेस-एनसीपी समेत अन्य सहयोगी दलों के बीच बैठक का दौर चलता रहा, लेकिन इतने सारे बैठक के बावजूद अबतक महाराष्ट्र की तस्वीर साफ नहीं हो पाई है.

5). कांग्रेस विधायक दल की बैठक

कांग्रेस पार्टी ने विधायक दल की बैठक बुलाई जिसमें नेता चुना जाना था. इस बैठक में महाराष्ट्र के किसान नेता और सूबे में कांग्रेस के दिग्गजों में एक बालासाहेब थोराट सूबे को विधायक दल का नेता चुना गया. माना जाता है कि थोराट प्रदेश की सियासत में अच्छी-खासी पैठ रखने वाले नेता है.

6). कांग्रेस समेत तीनों पार्टी के दिग्गजों की बैठक

मुंबई में महाराष्ट्र के सियासी समीकरण को सुलझाने के मकसद से कई दिग्गजों ने कमान संभाली, इस दौरान कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे भी इस बैठक में शामिल होने पहुंचे. कांग्रेस-शिवसेना-एनसीपी की सामूहिक बैठक में कई अहम मुद्दों पर चर्चा होनी थी. जिसमें सर्वोच्च स्थान पर सीएम की कुर्सी का मसला है.

7). एनसीपी प्रमुख ने दिए बड़े संकेत

इस बीच एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने बड़ा संकेत देते हुए ये कहा कि हमने मुख्यमंत्री पद के लिए बैठक में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के नाम पर भी चर्चा की. इस संकेत के बाद माना जा रहा है कि तीनों पार्टियों के लिए उद्धव ठाकरे के नाम पर मुहर लग सकती है. हालांकि अंदरूनी खेमे से ये जानकारी मिल रही है कि ठाकरे सीएम की कुर्सी पर नहीं बैठना चाहते हैं. कांग्रेस-NCP-शिवसेना की बैठक के बाद शरद पवार ने कहा कि लीडरशिप को लेकर उद्धव ठाकरे के नाम पर सहमति बनी है.

8). और टल गई आधिकारिक घोषणा की तारीख

कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने मीडिया के सामने आकर ये जानकारी दी कि आज के बैठक का दौर खत्म हो गया और अब कल यानी शनिवार को सरकार बनाने के लिए बैठक जारी रहेगी.

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर आज पहली बार तीनों पार्टियों के नेता एक साथ बैठे हैं और सरकार को लेकर चर्चा हुई. मुंबई के नेहरू सेंटर में तीनों पार्टियों के नेताओं की करीब 2 घंटे चली बैठक में कांग्रेस की ओर से महाराष्ट्र प्रभारी मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी हिस्सा लिया. बैठक में सीएम पद को लेकर आम सहमति जरूर बन गई है. हालांकि गवर्नर के पास कब जाना है इस पर फैसला अब शनिवार को लिया जाएगा.