Feroz Khan Special Story: जब पत्नी को छोड़ एयर होस्टेस के साथ रहने लगे फिरोज खान, जानें क्यों कहा जाता था काऊब्वॉय

फिरोज खान का जन्म 25 सितंबर, 1939 को बेंगलूर में हुआ था. अफगानी पिता और ईरानी मां के बेटे फिरोज खान बंगलुरू से हीरो बनने का सपना लेकर मुंबई पहुंचे. 

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Sep 25, 2021, 06:34 AM IST
  • फिरोज अपने अंदाज से लोकप्रिय हो गए
  • 1965 का साल फिरोज के लिए खास रहा
Feroz Khan Special Story: जब पत्नी को छोड़ एयर होस्टेस के साथ रहने लगे फिरोज खान, जानें क्यों कहा जाता था काऊब्वॉय

नई दिल्ली: बॉलीवुड के स्टाइलिश और हैंडसम एक्टर रहे फिरोज खान (Feroz Khan ) का आज जन्मदिन है. अपने फिल्मी करियर में कई सुपरहिट फिल्मों में काम करने वाले फिरोज खान की प्रोफेशनल लाइफ काफी सफल रही लेकिन पर्सनल लाइफ में अपने एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर (Extra Marital Affair) की वजह से काफी सुर्खियों में रहे.

फिरोज खान का जन्म 25 सितंबर, 1939 को बेंगलूर में हुआ था. अफगानी पिता और ईरानी मां के बेटे फिरोज खान बंगलुरू से हीरो बनने का सपना लेकर मुंबई पहुंचे. इसके बाद वह अपने अंदाज और अभिनय की वजह से लोकप्रिय हो गए.

फिरोज खान का परिवार फगानिस्तान से भारत पहुंचा था. जुल्फिकार अली शाह खान के घर में जन्मे फिरोज खान एक अभिनेता होने के साथ-साथ निर्माता और निर्देशक भी थे. फिरोज खान का नाम हिंदी सिनेमा में 70-80 के दशक के सबसे स्टाइलिश हीरो में आता है. 25 सितंबर 1939 को बेंगलुरु में जन्मे फिरोज खान ने अपने शाही अंदाज को कभी नहीं छोड़ा. 

इसलिए फिरोज का कहा जाता था काऊब्वॉय
अभिनेता फिरोज खान को बॉलीवुड का काऊब्वॉय कहा जाता था. एक्टर की अलग शैली, अंदाज और अलग-अलग किरदारों में जान फूंकने की क्षमता की वजह से उन्हें बॉलीवुड का काऊब्वॉय (COWBOY) कहा जाता था. बेंगलुरु में जन्मे फिरोज खान ने अपने शाही अंदाज को कभी नहीं छोड़ा. 

फिरोज ने सुंदरी से की शादी
एक्टिंग करियर शुरू के पांच साल बाद ही फिरोज ने 1965 में सुंदरी से शादी कर ली थी. सुंदरी से उनकी मुलाकात एक पार्टी के दौरान हुई थी. अफेयर हुआ और पांच साल की डेटिंग के बाद दोनों ने शादी कर ली. पहली शादी के बाद फिरोज के दो बच्चे लैला खान और फरदीन खान हैं.

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर में फिरोज
बता दें कि अपनी शादी के कुछ साल बाद फिरोज की मुलाकात एयर होस्टेस ज्योतिका धनराजगिर से हुई. ज्योतिका को देखते ही फिरोज उनपर फिदा हो गए थे. ज्योतिका के पिता का नाम राजा महेंद्रगिर धनराज गिर है. अपनी पत्नी के विरोध के बाद फिरोज खान सुंदरी और अपने बच्चों को छोड़कर ज्योतिका के साथ बेंगलुरु में जाकर लिव-इन में रहने लगे थे.

कुछ इस तरह है फिरोज खान का फिल्मी करियर 
1965 का साल फिरोज खान के लिए बेहद खास था. उन्हें फणी मजूमदार की फिल्म 'ऊंचे लोग' में काम करने का मौका मिला. इस फिल्म में फिरोज खान के साथ अशोक कुमार और राजकुमार सहित कई दिग्गज कलाकार मुख्य भूमिका में थे. इसके बाद साल 1969 में फिरोज खान के अभिनय को पहली बार फिल्मफेयर की पहचान मिली. फिल्म आदमी और इन्सान (1970) में अभिनय के लिए फिरोज खान को फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक कलाकार का पुरस्कार मिला.

ये भी पढ़ें- दिशा परमार ने पहली बार दिखाया बोल्ड अवतार, हनीमून की फोटोज से नहीं हटेंगी नजरें

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़