जरूरतमंद लोगों की मदद कर रहे राघव क्या देखकर रह गए चकित? खुद बताया कैसा है जर्नी

राघव जुयाल कोरोना काल में लगातार जरूरतमंद लोगों की मदद करने में जुटे हुए हैं. अब राघव ने अपनी पहल के बारे में बताते हुए सभी से निवेदन किया है कि लोग आगे आए और गांवों को गोद लें.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : May 24, 2021, 05:23 PM IST
  • राघव जुयाल कोरोना काल में लोगों की काफी मदद कर रहे हैं
  • अब राघव ने लोगों से निवेदन किया है कि वे गांवों को गोद लें
जरूरतमंद लोगों की मदद कर रहे राघव क्या देखकर रह गए चकित? खुद बताया कैसा है जर्नी

नई दिल्ली: कोरोना काल इस दूसरी लहर से जहां एक ओर पूरे देश में हाहाकार मची हुई है, वहीं कई मशहूर हस्तियां आगे आकर जरूरतमंद लोगों की मदद कर रही है. इसी लिस्ट में नाम डांसर, कोरियोग्राफर और अभिनेता राघव जुयाल का भी शामिल है. जो इन मुश्किल हालातों में विशेष रूप से ग्रामीण उत्तराखंड में लोगों की मदद करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं.

सरकार ने दिया आश्वासन

राघव ने इस पहल से प्रेरित करने के बारे में बात करते हुए कहा, "मेरे परिचितों और मुझे ग्रामीण उत्तराखंड से कोविड-19 पॉजिटिव रोगियों के लिए ऑक्सीजन और जीवन रक्षक उपकरणों के लिए संकटपूर्ण कॉल आ रहे हैं. हमने कुछ सरकारी अधिकारियों से संपर्क किया है. हमें बताया गया कि इस समय हर तरफ से मदद महत्वपूर्ण है. सरकार ने हमें उत्तराखंड में हर संभव तरीके से समर्थन करने का भी आश्वासन दिया है."

ये देखकर हैरान है राघव

देहरादून के रहने वाले राघव ने उन लोगों का आभार व्यक्त किया जो इस नेक काम में उनके साथ खड़े रहे. राघव ने कहा, "मेरे दोस्त, परिचित, अनुयायी, हमारे स्वयंसेवक, टीवी और फिल्म उद्योग के दोस्त, सरकारी अधिकारी और दुनियाभर के दानदाता को देखकर मैं चकित और अभिभूत हूं कि इस पहल में हर कोई हमारे साथ कैसे खड़ा है."

उपलब्धियों ने किया प्रेरित

यह पूछे जाने पर कि राघव और उनकी टीम ने राज्य में आम लोगों की मदद के लिए अब तक क्या किया है, उन्होंने बताया, "हम अधिकारियों और फील्ड स्वयंसेवकों की मदद से पौड़ी गढ़वाल की मदद के लिए कुछ डी टाइप सिलेंडर भेजने में सक्षम थे. इस उपलब्धि ने मुझे प्रेरित किया और अब हमारे पास हिमालय की दूर दराज की पहाड़ियों में जरूरतमंद ग्रामीणों की जान बचाने के लिए पहाड़ी जिलों के लिए कई और ऑक्सीजन सिलेंडर, दवाएं और बिस्तर आ रहे हैं."

10 जिलों की जमीन पर चल रहा है काम

वर्तमान में 130 से अधिक स्वयंसेवक, ज्यादातर देश के विभिन्न हिस्सों से, मरीजों को एम्बुलेंस, ऑक्सीजन बैड, ऑक्सीजन सिलेंडर, आईसीयू बैड, रक्त दाता आदि खोजने में हमारी मदद कर रहे हैं. लोग लॉजिस्टिक्स का प्रबंधन करने के लिए 10 जिलो में जमीन पर भी काम कर रहे हैं.

राघव ने की गांवों को गोद लेने की अपील

उनसे पूछा गया कि अगर आलोचक उनके हावभाव को पब्लिसिटी स्टंट कहें तो वे जवाब में क्या कहेंगे? राघव ने इस पर कहा, "आलोचकों की हमेशा किसी भी चीज और हर चीज के बारे में एक राय होगी. उत्तराखंड के लोगों की मदद के लिए जो कुछ भी करना होगा, मैं करूंगा. मैं अपने दोस्तों, अनुयायियों और आलोचकों से एक साथ आने और मदद की जरूरत वाले गांवों को गोद लेने के लिए टीमों का निर्माण करने की अपील करता हूं. देश के किसी भी गांव को गोद लिया जा सकता है, हमें बस इतना करना है कि तत्काल मदद के लिए हाथ बढ़ाएं."

ये भी पढ़ें- इस डर की वजह से आज तक बॉलीवुड में डेब्यू नहीं कर पाईं समांथा अक्कीनेनी, खुद किया खुलासा

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़