close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जन्मदिन विशेष: ड्रीमगर्ल की जिंदगी के कुछ अनछुए पहलू

बॉलीवुड में ड्रीमगर्ल के नाम से मशहूर मथुरा की भाजपा सांसद हेमा मालिनी का आज जन्मदिन है. उन्होंने कई सुपरहिट फिल्में दी हैं. साथ में लगातार दो बार मथुरा से लोकसभा चुनाव जीतकर राजनीति में भी सफलता के झंडे गाड़ दिए हैं. आईए आपको बताते हैं उनके जीवन के कुछ रोचक तथ्य- 

जन्मदिन विशेष: ड्रीमगर्ल की जिंदगी के कुछ अनछुए पहलू

मुम्बई: आज हेमा मालिनी 71 वर्ष की हो चुकी है. और आज हम जानेगें हेमा से जुड़ी दिलचस्प बातें.

आज भी हेमा जी के गालों की दी जाती है मिसाल

हेमा मालिनी एक ऐसी सितारा जिसकी सुंदरता और अभिनय के कायल लाखों-करोड़ों लोग है. चाहे वो बूढ़ा हो, जवान हो या बच्चा. उनकी इसी आकर्षण को देख फिल्म निर्माता प्रमोद चक्रवती ने उन्हें लेकर फिल्म "ड्रीम गर्ल" तक बना दिया क्योंकि हेमा मालिनी हर एक युवा धड़कन के लिए "ड्रीम गर्ल" बन चुकी थी और वो आज भी लोगों के लिए ड्रीम गर्ल है. उनके एवरग्रीन सुंदरता के लोग अभी भी दिवाने है और इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एक चूनावी भाषण के दौरान एक राजनेता ने यहां तक कह दिया कि MP की सड़कों को हेमा मालिनी के गालों की तरह बनाया जाएगा.  

आप नहीं जानते होंगे हेमा मालिनी का वास्तविक नाम


हेमा मालिनी का जन्म तमिलनाडु के अम्मनकुडी तमिलियन परिवार में 16 अक्टूबर 1948 को हुआ. हेमा मालिनी का वास्तविक नाम आर. चक्रवर्ती था पर फिल्मों में आने से पहले उन्होंने अपना नाम हेमा मालिनी रख लिया. उनके पिता का नाम वीएसआर चक्रवर्ती व माता का नाम जया चक्रवर्ती है जो एक फिल्म निर्माता थीं. 21 अगस्त 1979 में हेमा-मालिनी ने बॉलीवुड के 'माचो मैन' अभिनेता धर्मेन्द्र के साथ विवाह बंधन में बंधी. हेमा मालिनी की दो बेटिया है - ईशा देओल और अहाना देओल. और अभिनेता सन्नी देओल और बॉबी देओल उनके सौतेले बेटे हैं.

150 से ज्यादा फिल्मों में बिखेरा अभिनय का जादू 


हेमा मालिनी ने अपने फिल्मी करियर की शुरूआत साउथ की फिल्मों से की. हेमा मालिनी ने 1963 में तमिल फिल्म ''इथु सथियाम" से अपने अभिनय से शुरूआत की. लेकिन उन्हें वहां ज्यादा सफलता नहीं मिली. खबरों की माने तो कुछ निर्माता ने उन्हें ये तक कह कर फिल्मों के लिए मना कर दिया कि उनमें अभिनेत्री वाली क्वालिटी नहीं है. "सपनों का सौदागर" 1968 में हेमा मालिनी महज 16 साल की उम्र में बॉलीबूड में कदम रखा. इस फिल्म में उनके साथ देवानंद थे. पर उन्हें निर्माता-निर्देशक रमेश सिप्पी के फिल्म "अंदाज" 1971 से एक पहचान मिली. इस फिल्म में हेमा मालिनी राजेश खन्ना के साथ दिखी और लोगों ने दोनों की जो़ड़ूी को काफी पसंद किया.  इसके बाद हेमा मालिनी ने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा और एक के बाद एक ब्लॉक बस्टर फिल्में देती चली गई. हेमा मालिनी ने करीब 150 से अधिक फिल्मों में काम किया है. जो खुद में ही एक बड़ी उपलब्धि है.  वर्ष 1975 में हेमा मालिनी की फिल्म "शोले" आयी और जिसने पूरे फिल्म जगत में तहलका मचा दिया. उस फिल्म के बाद से हेमा को लोग "बसंती" ही बोलने लगे. हेमा ने अपनी फिल्मी करियर में ज्यादातर फिल्में देवानंद, धर्मेंद और राजेश खन्ना के साथ की है.
 
धर्मेन्द्र हो गए थे हेमा पर लट्टू 


हेमा और अभिनेता धर्मेन्द्र की जोड़ी 80 की दशक की सबसे हिट जोड़ियों में शामिल थी. यहीं वजह है कि हर निर्माता निर्देशक की पहली पसंद बन चुकी थी ये जोड़ी. इस जोड़ी ने लगभग 20 से ज्यादा फिल्मों में एक साथ काम किया- सीता और गीता, शोले, राजा जानी, शराफत, चरस, आसपास, प्रतिज्ञा, रजिया सुल्तान, अली बाबा और चालीस चोर, बगावत, आतंक, द बर्निंग ट्रेन, और दोस्त आदि फिल्मों में एक साथ काम किया. शराफत दोनों की एक साथ पहली फिल्म थी. फिल्मों के दौरान दोनों को एक दूसरे से प्यार हो गया. यूं तो धर्मेन्द्र पहले से शादीशुदा थे. पर कहते हैं न प्यार में इंसान को कूछ नहीं दिखता. यहीं वजह है कि न धर्मेन्द्र खूद को रोक सकें और न हेमा. घर वालों के विरोध के बाद भी दोनों ने अपने प्यार को नाम दिया. जब धर्मेन्द्र के शादीशुदा होने पर सवाल उठा तो उस वक्त अभिनेता संजीव कुमार ने पूरी कोशिश की कि हेमा उनके साथ रिश्ते में आए लेकिन हेमा के दिलों दिमाग पर सिर्फ और सिर्फ धर्मेन्द्र छाए हुए थे.

राजनीति में भी खेल रही हैं सफल पारी


हेमा मालिनी ने 2003 में भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन की और राज्‍यसभा सांसद की तौर पर अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की. इसके बाद से हेमा राजनीती में सक्रिय है और बखुबी से एक राजनेता की तरह काम कर रहीं हैं. और आज भी हेमा 2019 में लोकसभा चुनाव जीत कर भारतीय जनता पार्टी से मथुरा में सांसद है. 

इतनी बार हुई हैं सम्मानित


वर्ष 1972 में निर्माता -निर्देशक रमेश सिप्पी की  फिल्म ''सीता और गीता'' के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के तौर पर फिल्म फेयर पुरस्कार से नवाजा गया.
वर्ष 2000 में भारत सरकार द्वारा हेमा मालिनी को 'पद्मश्री' से सम्‍मानित किया गया.
वर्ष 2000 में हेमा को ''फिल्मफेयर लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड'' से सम्‍मानित किया गया.