पत्थरबाजी करने और आग लगाने वाले दंगाई हुमा कुरैशी को लगते हैं मासूम

बॉलीवुड की चंद फिल्मों में काम करके अपनी पहचान स्थापित कर चुकी हुमा कुरैशी के पास शायद इन दिनों फिल्में नहीं है. यही वजह है कि उन्होंने विवादित मुद्दों पर  बयानबाजी करके खुद को चर्चा में रखने का फैसला किया है.   

पत्थरबाजी करने और आग लगाने वाले दंगाई हुमा कुरैशी को लगते हैं मासूम

मुंबई: हुमा कुरैशी ने दिल्ली में हिंसा फैलाने वाले छात्रों के समर्थन में एक ट्विट किया है. जिसमें उन्होंने सरकार पर सवाल खड़े करने की कोशिश की है. हुमा ने ट्विट पर लिखा है कि 'कुल्हाड़ी लेकर इन स्टूडेंट्स को काटना क्यों नहीं शुरू कर देते?'

हुमा कुरैशी को दिल्ली में आगजनी करने वाले और हिंसा फैलाने वाले दंगाई मासूम छात्र लगते हैं. उन्हें लगता है कि छात्रों के साथ पुलिस जिस तरह हिंसा कर रही है वह भयानक है. लेकिन हुमा कुरैशी का ध्यान इस बात की तरफ नहीं जा रहा है कि आखिर कैसे इन कथित छात्रों ने कानून हाथ में लिया और हिंसा फैलाई. 

हुमा कुरैशी ने एक के बाद एक करके कई ट्वीट किए. उन्होंने अपने ट्वीट्स में सरकार को सीधे तौर पर निशाने पर लिया. हुमा अपने ट्विट में कहती हैं कि 'यह सही नहीं है. हमारे पास एक धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र है. छात्रों के साथ पुलिस जिस तरह हिंसा भरा दुर्व्यवहार कर रही है वह भयानक है. देश के नागरिकों को शांतिपूर्वक विरोध करने का अधिकार है.  पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह, क्या अब कोई ऑप्शन नहीं बचा है?' 

लेकिन क्या दिल्ली में हिंसा की आग भड़काने वाले दंगाई इतने मासूम हैं,जितना हुमा कुरैशी समझ रही हैं. क्योंकि ज्यादातर हिंसा की वीडियो में ये कथित दंगाई बुरी तरह हिंसा भड़काते हुए दिख रहे हैं. 

 

दिल्ली पुलिस ने आज की 10 लोगों को गिरफ्तार किया है. जो आपराधिक पृष्ठभूमि से आते हैं. इसमें से कोई भी छात्र नहीं है. 

हुमा कुरैशी जिन लोगों का  बचाव कर रही हैं. वे यही कथित छात्र हैं. लेकिन इन्हें हिंसा करने और दंगा भड़काने की सीख कहां से मिलती है ये सोचने की बात है.