close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पूरे देश में कुछ इस तरह दिखीं करवा चौथ की रौनक

कल करवा चौथ की रौनक देश के हर कोने में दिखी. करवा चौथ को लेकर सुहागिनों में खासा उत्साह भी दिखने को मिला.

पूरे देश में कुछ इस तरह दिखीं करवा चौथ की रौनक

नई दिल्ली: देश के हर हिस्से में गुरुवार को करवा चौथ की धूम रही. सुहागिनों ने अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत किया. सेलिब्रिटीज के करवा चौथ की तस्वीरें तो आपने हर जगह देखी होगी. लेकिन हम आपको दिखाते हैं कि आम महिलाओं ने कैसे अपने सुहाग के लिए पूरे दिन भूखे प्यासे रहकर पूजा की.


ये फोटो दिल्ली की है.

करवा चौथ की धूम हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब, हिमाचल प्रदेश में ज्यादा दिखी. इन राज्यों में करवा चौथ की अलग ही रौनक देखने को मिलती है. करवा चौथ अब देश के उन हिस्सों में भी प्रचलित हो रहा है. जहां पहले यह त्योहार नहीं मनाया जाता था. 

ये फोटो पटना की है. 

इस पर्व की शुरूआत गुरूवार सुबह सूर्योदय यानी 5.50 AM के साथ ही इस व्रत की शुरुआत हो गई थी. लेकिन इस व्रत का समापन अलग अलग समय पर हुआ. सबसे पहले चांद उत्तर भारत में दिखा. बिहार की राजधानी पटना में चांद  7 बज कर 49 मिनट पर दिखा. उसके बाद वाराणसी में 7.58 PM पर, लखनऊ में 8.08 PM , दिल्ली में 8.16 PM, चंडीगढ 8.14 PM, जयपूर में 8.29 PM , नोएडा में 8.15 PM, गुरूग्राम में 8.21 PM, मुंबई में 8.51 PM पर चांद दिखा.

ये फोटो मुंबई की है. 
  
करवा चौथ का रिवाज लगभग हर राज्यों में एक जैसा ही है. इस पर्व में पहले सुहागन एक जगह एकत्रित होती है. इस व्रत की शुरूआत सुबह सूरज निकलने से पहले होती है. सुबह सूरज उगने से पहले सास अपनी बहु को सरगी देती है जिसमें कपड़े, सुहाग की चीज़ें जैसे चूड़ी, बिंदी, सिंदूर आदि चीजें दी जाती है. इसके अलावा सरगी में खाने की चीजें दी जाती है जैसे फेनिया, ड्राईफ्रूट, नारियल आदि होते हैं.  उसके बाद सास के दिए हुए फ्रूट, ड्राईफ्रूट, नारियल खाकर व्रता अपने व्रत की शुरुआत करती है. और पूरे दिन व्रत रखने के बाद शाम में फिर गणेश जी की पूजा से इसका आरंभ होता है और सब मिल कर कथा सुनती है. उसके बाद चांद का इंतजार करती है. चांद निकलने के बाद अर्घ्य देती है. और फिर छलनी में दीया रखकर चंद्रमा को देखकर फिर उसी छलनी से अपने पति को देखती है. व्रता के थाली में एक आटे का दीया रखा जाता है जिसे पूजा के बाद वहीं जलता हुआ छोड़ आएं. 

ये फोटो बनारस की है. 

करवा चौथ की कई कहानियां प्रचलित है. पर हर कहानियां का एक ही सारांश है. मुख्य रुप से विवाहित महिलाओं के लिेए इस पर्व की काफी मान्यता है.