• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 97,581 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 1,98,706: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 95,527 जबकि अबतक 5,598 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • पीएम ने एमएसएमई को सशक्त बनाने के लिए चैंपियन नामक प्रौद्योगिकी मंच लॉन्च किया
  • कोविड-19 के बीच सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करने के लिए सरकार ने घरेलू यात्रियों के लिए दिशानिर्देश जारी किए
  • कैबिनेट ने कृषि और संबद्ध गतिविधियों के लिए अल्पावधि ऋण को चुकाए जाने की समय सीमा बढ़ाने को मंजूरी दी
  • कैबिनेट ने संकटग्रस्त MSME के लिए 20,000 करोड़ रुपये के प्रावधान को मंजूरी दी, इससे संकट में फंसे 2 लाख एमएसएमई को मदद मिलेगी
  • कैबिनेट ने एमएसएमई ने परिभाषा के संशोधन को मंजूरी दी, मध्यम उद्यमों के लिए टर्नओवर की सीमा को संशोधित कर 250 करोड़ किया गया
  • ECLGS/MSME से संबंधित प्रश्नों और अन्य उपायों के लिए DFS ने ट्विटर हैंडल @DFSforMSMEs का शुभारंभ किया
  • वन नेशन वन कार्ड योजना में 3 और राज्य शामिल किए गए: खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री
  • डीआरडीओ ने पीपीई और अन्य सामग्रियों के कीटाणुशोधन के लिए अल्ट्रा स्वच्छ विकसित किया

इंग्लैंड के हालातों को देखते हुए 'मिस इंग्लैंड' ने लिया डॉक्टरी पेशे में लौटने का फैसला

भारतीय मूल की भाषा मुखर्जी पिछले साल 2019 में मिस इंग्लैंड का खिताब अपने नाम किया था. भाषा पेशे से डॉक्टर हैं और उन्होंने इंग्लैंड से ही अपनी डॉक्टरी की पढ़ाई पूरी की है. कोरोना की इस मुश्किल घड़ी में भाषा इंग्लैंड लौटकर वहां के लोगों की सेवा करना चाहती हैं.  

इंग्लैंड के हालातों को देखते हुए 'मिस इंग्लैंड' ने लिया डॉक्टरी पेशे में लौटने का फैसला

नई दिल्ली: भाषा मुखर्जी का जन्म कोलकाता में हुआ लेकिन वह सिर्फ 9 साल की थी जब अपने परिवार के साथ इंग्लैंड चली गई. भाषा ने वहीं से अपनी पढ़ाई भी पूरी की.

डॉक्टरी पेशे में लौटने को तैयार भाषा

बता दें कि भाषा पेशे से एक डॉक्टर हैं, उनके पास मेडिकल साइंस में और मेडिसिन एंड सर्जरी में दो डिग्रियां हैं. पिछले साल भाषा ने मिस इंग्लैंड का खिताब अपने नाम किया था. खिताब जीतने के बाद भाषा ने डॉक्टरी का पेशा छोड़ दिया था और मॉडलिंग व सोशल काम से जुड़ गईं. लेकिन इस समय इंग्लैंड के हालातों को देखते हुए भाषा एक बार फिर से डॉक्टरी के पेशे में वापस लौटना चाहती हैं. 

सलमान खान ने अपना वादा किया पूरा, मजदूरों के अकाउंट में किए पैसे ट्रांसफर.

मिस इंग्लैंड 2019 रह चुकी हैं

खबरों की मानें तो भाषा अगस्त तक मरीजों की सेवा करेंगी और जरूरत पड़ी तो आगे भी अपने पेशे से जुड़ी रहेंगी. भाषा मिस इंग्लैंड बनने से पहले तक जूनियर डॉक्टर के पद पर काम कर रही थीं. भाषा का मानना है कि वह मानवता के कार्यों के लिए ही मिस इंग्लैंड बनी थीं और जब इस वक्त इंग्लैंड को उनकी जरूरत है तो वह मदद के लिए तैयार है.

भाषा पांच भाषाएं बोल सकती हैं, वह अंग्रेजी और हिंदी के साथ बांग्ला, जर्मन और फ्रेंच भाषा जानती हैं. भाषा का आईक्‍यू 146 है जबकि मशहूर वैज्ञानिक आइंस्‍टीन का आईक्‍यू लेवल 160 था. भाषा बुद्दिमानता और सुंदरता का एक उदाहरण हैं. भाषा ने इस प्रतियोगिता में दक्षिण-एशियाई समुदाय, अल्पसंख्यक समुदाय और डर्बी का प्रतिनिधित्व किया था.