फर्जी खाते से किया गया 132 करोड़ का लेनदन

ग्वालियर के रवि गुप्ता नामक व्यक्ति जिसकी मासिक आय 6000 रुपये हैं जब उसके पास इनकम टैक्स का करीब 3.5 करोड़ का नोटिस आया तो वह भी चौंक गया. फैक बैंक अकाउंट बनाकर 132 करोड़ का लेनदेन किया गया.

 फर्जी खाते से किया गया 132 करोड़ का लेनदन

भोपाल:  मध्य प्रदेश के भिंड जिले के मिहोना निवासी रवि गुप्ता का मुंबई में फर्जी खाता खुला हुआ है जिसके बारे में खुद रवि को भी नहीं पता. युवक को फर्जी खाते की जानकारी तब हुई जब उसके घर इनकम टैक्स का नोटिस आया.

बजाज इलेक्ट्रिक स्कूटर चेतक की आज से बुकिंग शुरू, लिंक पर क्लिक कर जानें खबर.

क्या है पूरा मामला?

बतो दें कि रवि के नाम से फर्जी खाता साल 2011-12 के बीच मुंबई के एक्सिस बैंक के मलाड ब्रांच में खाता ओपन हुआ है, जहां से कुछ ही दूरी पर नीरव मोदी और मेहुल चौक से के ऑफिस हैं. जिससे करीब 132 करोड़ का लेनदेन भी किया जा चुका है. रवि की मासिक आय महज 6000 रुपये हैं. लेकिन जब रवि के घर पर इनकम टैक्स का विभाग की ओर से 3 करोड़ 49 लाख जमा करने का नोटिस आया. नोटिस को देख युवक को समझ हीं नहीं आया कि माजरा क्या है. यह नोटिस 30 मार्च 2019 को इनकम टैक्स विभाग ने उनको भेजा था, उस नोटिस के अनुसार ये राशि उनको 17 जनवरी 2020 तक जमा करने को कहा गया है.

सावधान! टिकटॉक यूजर्स को अलर्ट करने वाली खबर, लिंक पर क्लिक कर जानें खबर.

नहीं की गई है मामले की पूरी कार्रवाई

नोटिस के बाद पीड़ित युवक ने सीबीआई महाराष्ट्र पुलिस, मध्य प्रदेश पुलिस व आरबीआई को शिकायत दर्ज करवाई लेकिन अभी तक इस मामले पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है. इस मामले को नीरव मोदी और मेहुल चौक से से भी जोड़कर देखा जा रहा है.
इस लंबे फर्जी अकाउंट से यह तो साफ जाहिर हो गया है कि खाते से सन 2011-12 से लंबा ट्रांजैक्शन होता रहा है और 132 करोड़ की राशि का ट्रांजेक्शन होना कहीं ना कहीं बैंक और दलालों के बीच कोई बड़ी सांठगांठ जरूर देखी जा रही है. क्योंकि जिस तरह पीड़ित का कहना है कि मेरा इस  ट्रांजेक्शन या इस खाते से कोई लेना देना नहीं है. रवि गुप्ता की बात मानें तो कुछ ही दूरी पर नीरव मोदी और मेहुल चौक से जैसे बड़े नाम धारियों के कार्यालय भी वहीं पर है. यह कहना भी कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी की इस बड़े फर्जी खाते से ट्रांजेक्शन में यह लोग भी शामिल हो सकते हैं. फिलहाल रवि गुप्ता ने सीबीआई महाराष्ट्र पुलिस, आरबीआई व मध्य प्रदेश पुलिस सहित कई जगह शिकायतें दर्ज कराई है लेकिन अभी तक उनको कोई संतोषजनक उत्तर नहीं मिला है.