50 लाख का चेक बाउंस, डीडीसीए उपाध्यक्ष को हटाया

डीडीसीए (DDCA) उपाध्यक्ष राकेश बंसल को उनके खिलाफ आरोप पत्र दाखिल होने के बाद पद से हटाया गया है. राकेश पर आरोप है कि उन्होंने एक कंपनी को 50 लाख रुपये का चेक जारी किया था जो बाउंस हो गया. 

50 लाख का चेक बाउंस, डीडीसीए उपाध्यक्ष को हटाया

नई दिल्लीः दिल्ली जिला क्रिकेट संघ भी विवादों के घेरे में आ रहा है. अभी पिछले साल तक यह राजनीतिक विवाद और नाक का सवाल बना रहा था, अब इस संगठन का आंतरिक विवाद सामने आने लगा है. दिल्ली डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट असोसिएशन (DDCA)  ने इसके उपाध्यक्ष राकेश बंसल को बुधवार को हटा दिया. बंसल को एक आपराधिक मामले में आरोपी पाए जाने पर हटाया गया है. चेक बाउंस होने पर उनके ऊपर मामला दर्ज कराया गया था. राकेश का क्रिकेट से कोई ताल्लुक नहीं है.

इसलिए हटाया गया, हुई कार्रवाई
राकेश बंसल को उनके खिलाफ आरोप पत्र दाखिल होने के बाद पद से हटाया गया है. राकेश पर आरोप है कि उन्होंने एक कंपनी को 50 लाख रुपये का चेक जारी किया था जो बाउंस हो गया. उनके खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज कराया गया था. डीडीसीए ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करके कहा, डीडीसीए को बुधवार को जानकारी मिली कि डीडीसीए उपाध्यक्ष राकेश बंसल के खिलाफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट तुषार गुप्ता की अदालत ने नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट की धारा 138 के तहत एक आपराधिक मामले में आरोपी बनाया है और उनपर आरोप भी तय किए गए हैं. 
 
ट्विटर पर भी जारी किया बयान
डीडीसीए ने अपने आधिकारिक ट्विटर पर एक मीडिया बयान जारी करते हुये कहा, डीडीसीए को बुधवार को यह जानकारी मिली है. मुख्य वित्त अधिकारी पीसी वैश ने राकेश बंसल को बुधवार को पत्र लिखकर उन्हें अयोग्य करार दिये जाने की जानकारी दी और कहा कि नियम उन्हें डीडीसीए में उपाध्यक्ष पद पर बने रहने की अनुमति नहीं देते हैं.

दिल्ली जिला अदालत के आधिकारिक ई कोर्ट वेब पोर्टल से भी इस आरोप की पुष्टि हुई है. मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट तुषार गुप्ता की अदालत ने 9 सितंबर 2019 में उपरोक्त आदेश जारी किए. 

कौन हैं राकेश बंसल 
डीडीसीए के पूर्व दागी अध्यक्ष और बीसीसीआई उपाध्यक्ष स्नेह बंसल के छोटे भाई हैं  राकेश बंसल. इससे पहले स्नेह बंसल पर भी वित्तीय अनियमितता का आरोप लगा था. क्रिकेट से कोई ताल्लुक नहीं रखने वाले राकेश को इसलिए प्रशासन में लाया गया क्योंकि उनके भाई को शर्मा गुट से चुनाव लड़ने के लिए कोई समर्थक नहीं मिला. स्नेह बंसल डीडीसीए के महासचिव भी रह चुके हैं. 

रजत शर्मा ने भी दिया था इस्तीफा
अभी कुछ दिन पहले ही डीडीसीए के अध्यक्ष पद से वरिष्ठ पत्रकार रजत शर्मा ने इस्तीफा दिया था. हालांकि डीडीसीए के लोकपाल ने रजत शर्मा का इस्तीफा नामंजूर कर दिया था और उन्हें 27 नवंबर की अगली तारीख तक पद पर बने रहने के लिये कहा था. लोकपाल के निर्देश के बाद रजत ने अपना पद फिर से संभाल लिया था लेकिन डीडीसीए की शीर्ष परिषद के सदस्य इस फैसले के खिलाफ खड़े हो गए थे.

शीर्ष परिषद के सदस्यों ने मंगलवार शाम को डीडीसीए में संवाददाता सम्मेलन बुलाया था जहां उन्होंने लोकपाल के आदेश को ही ठुकरा दिया था.