close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पश्चिमी यूपी में पांव पसार रही है पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI, यहां देखें- 5 बड़े सबूत

उत्तर प्रदेश के मेरठ में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI से ताल्लुक रखने वाले एक सदिग्ध की गिरफ्तारी हुई है. ये पहली बार नहीं है जब मेरठ का ISI कनेक्शन सामने आया हैं. इससे पहले भी 5 ऐसे बड़े तार जुड़ते दिखाई दिए.

पश्चिमी यूपी में पांव पसार रही है पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI, यहां देखें- 5 बड़े सबूत

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईसआई के पांव परासने की आशंका जताई गई है. इसके पीछे बड़े नेटवर्क के होने का संकेत मिला है. जिसके बाद से सुरक्षा व्यवस्था को और मुश्तैद किया जा रहा है. दरअसल, पश्चिमी यूपी से एक संदिग्ध की गिरफ्तारी हुई, जिसके पास से कई अहम और गोपनीय दस्तावेज बरामद किए गए हैं.

यूपी के मेरठ जिले से एक और संदिग्ध के पकड़े जाने के बाद ये आशंका और भी पुख्ता हो रही है. इस संदिग्ध के ISI से तार जुड़े होने की खबर आ रही है. बताया ये भी जा रहा है कि इस कार्रवाई से ये अंदेशा हो रही है कि भारत में ISI की जड़े गहरी हो चुकी हैं. 

जिस संदिग्ध को दबोचा गया है, वो पाकिस्तान से लंबे वक्त से जुड़ा हुआ था. और बातें किया करता था. इसकी गिरफ्तारी के बाद से सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट हो गई हैं.

आईएसआई एजेंटों का पश्चिमी उत्तर प्रदेश से पुराना नाता

रूबी बेगम

  • करीब 15 साल पहले 18 मार्च 2004 में मेरठ में आईएसआई एजेंट के रूप में एक महिला रूबी बेगम को एटीएस ने गिरफ्तार किया था. रूबी बेगम से पूछताछ के दौरान कई महत्वपूर्ण जानकारियां हाथ लगी थी.

खलील हुसैन

  • 10 मार्च 2005 को खलील हुसैन खान नाम का एजेंट मेरठ से ही दबोचा गया था. आईएसआई एजेंटों का टारगेट था कि वे मेरठ कैंट की अधिकांश गोपनीय जानकारियां जुटाकर पाकिस्तान भेजें और इसमें काफी हद तक वे काम भी कर चुके थे.

आसिफ

  • 16 अगस्त 2014 को ISI एजेंट आसिफ सेना के हत्थे चढ़ा था. 

एजाज

  • 30 नवंबर, 2015 को एसटीएफ ने ISI के खुफिया एजेंट एजाज को गिरफ्तार किया था.

किठौर में हथियार बनाने वालों का तार आईएसआईएस से जुड़े होने की बात सामने आई थी. जिसके बाद ATS और NIA ने कई दिनों तक मेरठ में छापा मारा और तीन संदिग्ध युवकों को पकड़ा था. इस कार्रवाई में इस बात की पुष्टि हुई थी कि हथियार सप्लायरों के आतंकियों से कनेक्शन हैं.

एक बार फिर मेरठ से ही ISI से संबंध रखने वाले संदिग्ध को गिरफ्तार किया गया है. ऐसे में ये कहना गलत नहीं होगा कि बार-बार पश्चिमी यूपी से आईएसआई का नाता आखिर कोई बड़ी साजिश का संकेत तो नहीं दे रही है.