अमित शाह के बाद जेपी नड्डा ने भी दी राहुल गांधी को CAA पर चुनौती

भाजपा के नवीन अध्यक्ष जेपी नड्डा ने राहुल गांधी को नागरिकता संशोधन कानून पर चुनौती दी है. इससे पहले गृहमंत्री अमित शाह ने भी विपक्ष को चुनौती दी थी.

अमित शाह के बाद जेपी नड्डा ने भी दी राहुल गांधी को CAA पर चुनौती

लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद जेपी नड्डा ने नागरिकता संशोधन कानून पर अपनी पहली सभा को संबोधित किया. इसमें उन्होंने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने इस रैली में राहुल गांधी को चुनौती दी कि वो नागरिकता के इस कानून के बारे में 10 लाइन भी नहीं बोल सकते. जेपी नड्डा की ये रैली आगरा में हुई.

लम्हों ने खता की थी सदियों ने सजा पाई- नड्डा

जेपी नड्‌डा ने कहा कि आजादी के बाद कांग्रेस सरकारों ने जो फैसले लिए वो देश के लिए घातक साबित हुए. लम्हों ने खता की और सदियों ने सजा पाई है. जो काम 70 सालों से लटके थे, मोदी ने उन्हें 8 महीनों में पूरा किया. सीएए के विरोध में यूपी में उपद्रव हुआ और कांग्रेस ने कभी भी इसकी निंदा नहीं की.

राहुल गांधी को दिया चैलेंज

भाजपा अध्यक्ष ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को चैलेंज दिया कि वह सीएए पर 10 लाइन बोल दें और बताएं कि उसमें क्या है तो मैं उन्हें मान जाऊंगा. जो लोग कानून जानते नहीं है, उन्हें इसके बारे में क्या मालूम होगा. कांग्रेस पार्टी हताश हो चुकी है. कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व मानसिक दिवालियापन से गुजर रहा है. इन्हीं लोगों ने देश में आग लगाई और अब उपदेश दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि नेहरू ने कहा था कि पाकिस्तान में प्रताड़ित अल्पसंख्यकों को भारत के रिलीफ फंड से मदद देनी चाहिए. 

आगरा से मेरा विशेष लगाव: जेपी नड्डा

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बताया कि आगरा से उनका विशेष रिश्ता है. उन्होंने कहा कि यूपी का प्रभारी बनने के बाद पहली बैठक आगरा में थी और भाजपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने पर पहली जनसभा भी आगरा में है. सीएए को लेकर दूसरे सहयोगी संगठनों के साथ आरएसएस और भाजपा लोगों के भ्रम को दूर करने में जुटी है. लोगों को जागरूक करके उन तक सही तथ्य पहुंचाए जा रहे हैं.

महात्मा गांधी का सपना कर रहे हैं साकार

जेपी नड्डा ने कहा कि सन 1947 में महात्मा गांधी ने कहा था कि पाकिस्तान में रहने वाले अल्पसंख्यकों को वहां दिक्कत आ रही है तो उन्हें भारत में बसाने और उन्हें रोजगार देने की जिम्मेदारी भारत सरकार की है. पिछले कई वर्षों तक भारत की राजनीति में जो हुआ, आजादी के बाद जो निर्णयों हुए, उससे भारत को बहुत नुकसान हुआ. अब हम महात्मा गांधी के सपने को साकार कर रहे हैं. 

ये भी पढ़ें- CAA प्रोटेस्ट पर योगी: 'कायरों ने महिलाओं को किया आगे, खुद रजाई में सो रहे'