• पूरी दुनिया में कोरोना से 1097810 लोग प्रभावित, अब तक 59140 लोगों की मौत हुई, 228405 लोग रोगमुक्त हुए
  • भारत में कोरोना मरीजों की कुल संख्या 2902, इसमें से 68 लोगों की मौत हुई, 184 इलाज के बाद ठीक हुए
  • महाराष्ट्र में कोरोना के सबसे ज्यादा 423 मरीज, 19 लोगों की मौत हुई, 42 लोग ठीक हुए
  • तमिलनाडु में कोरोना से 411 लोग प्रभावित, 1 की मौत, 6 लोग ठीक हुए
  • केरल में अब तक 295 लोगों को हुआ कोरोना, 2 की मौत हो चुकी है, 27 इलाज के बाद ठीक हुए
  • दिल्ली में कोरोना के 386 मरीज, 6 की मौत, 8 लोग ठीक हुए, मध्य प्रदेश में कोरोना से 155 लोग संक्रमित, 9 लोगों की मौत
  • यूपी में कोरोना के 188 मरीज, 14 लोग ठीक हुए, 2 लोगों की मौत
  • राजस्थान में कोरोना के 179 मरीज, 3 लोग इलाज के बाद ठीक हुए, अभी तक एक भी मौत नहीं
  • तेलंगाना में कोरोना के 158 मरीज, 7 लोगों की मौत, मात्र 1 ही इलाज के बाद ठीक हुआ
  • कर्नाटक में कोरोना के 128 मरीज और आंध्र प्रदेश में 161 लोगों में कोरोना वायरस का असर

दक्षिण भारत के इस मंदिर में मिला सोने से भरा कलश

मंदिर प्रशासन के मुताबिक, जम्बुकेश्वर मंदिर में खुदाई का कार्य चल रहा था. इसी बीच एक कलश दिखा था. कामवालों ने इसे बाहर निकालकर मंदिर के अधिकारियों को इसकी सूचना दी. कलश को खोल कर देखने पर इसमें सोने के सिक्के थे. 

दक्षिण भारत के इस मंदिर में मिला सोने से भरा कलश

तिरुचिरापल्लीः अभी सोनभद्र के सोने की चमक फीकी भी नहीं पड़ी थी कि दक्षिण भारत का एक गांव सोने के सिक्कों से चमचमाने लगा है. तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली जिले के थिरुवनाईकवल में एक हैरान करने वाला वाकया सामने आया है. यहां स्थित जम्बुकेश्वर मंदिर में बुधवार को खुदाई चल रही थी.

इसी दौरान 7 फीट की गहराई में एक तांबे के बर्तन दिखा. इसे जमीन से ऊपर निकालकर देखा तो इसमें 1.716 किलोग्राम वजन के 505 सोने के सिक्के मिले. सिक्के 1000 से 1200 साल पुराने हैं. इनकी कीमत करीब 68 लाख रुपये बताई जा रही है, हालांकि यह स्पष्ट नहीं है. इन्हें मंदिर प्रशासन ने पुलिस को सौंप दिया है. 

तांबे के कलश में थे सिक्के
मंदिर प्रशासन के मुताबिक, जम्बुकेश्वर मंदिर में खुदाई का कार्य चल रहा था. इसी बीच एक कलश दिखा था. कामवालों ने इसे बाहर निकालकर मंदिर के अधिकारियों को इसकी सूचना दी. कलश को खोल कर देखने पर इसमें सोने के सिक्के थे, जिन पर अरबी भाषा में कुछ लिखा हुआ है.

फिलहाल सिक्कों की कीमत का खुलासा नहीं किया गया है.  मंदिर के अधिकारियों ने बताया कि जमीन के अंदर से 504 छोटे और 1 बड़ा सिक्का मिला. इन सिक्कों में अरबी लिपि के अक्षर हैं. सिक्के 1000 से 1200 साल पुराने हैं. उन्होंने बताया कि 7 फीट की गहराई में उनको एक तांबे का बर्तन दिखाई दिया था. 

हिसार की गाजर और स्ट्रॉबेरी विदेशों में होगी सप्लाई

सिक्कों के प्रचलन काल की जानकारी नहीं
बरामद किए सिक्कों को आगे की जांच के लिए एक खजाने में रखा गया है. सिक्कों के प्रचलन काल की जानकारी के लिए स्टेट आर्कलॉजिकल डिपार्टमेंट को सूचना दी गई है.  जिला कलेक्टर सिवारासु के मुताबिक, सिक्कों के प्रचलन काल की जानकारी नहीं लग पा रही है. 

दोपहर एक बजे के करीब खुदाई के दौरान सिक्के मिले थे. मंदिर प्रशासन ने इन्हें अपने पास रख लिया था. इसके बाद इन्हें श्रीरंगम तालुका के तहसीलदार को सरकारी खजाने में जमा कराने के लिए कहा गया. शाम 7 बजे सिक्के सौंप दिए गए. इस मामले में मंदिर प्रशासन के कार्यकारी अधिकारी मरिअप्पन से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल सकी है.