दिल्ली चुनाव परिणाम पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस नेतृत्व को आईना दिखाया

कांग्रेस महासचिव और दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया रह रह कर कांग्रेस में बागी तेवर दिखा रहे हैं. लेकिन कांग्रेस आलाकमान का साहस नहीं होता कि उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दे. दिल्ली में कांग्रेस के निराशाजनक प्रदर्शन पर ज्योतिरादित्य ने एक बार फिर से कांग्रेस नेतृत्व को नसीहत दी है.  

दिल्ली चुनाव परिणाम पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस नेतृत्व को आईना दिखाया

नई दिल्ली: दिल्ली के विधानसभा चुनाव परिणाम कांग्रेस के लिए एक बार फिर से बेहद निराशाजनक रहे. यहां लगातार 15 साल तक सत्ता संभालने वाली कांग्रेस को 2015 की ही तरह इस बार भी एक भी सीट नहीं मिली है. गुरुवार को कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने दिल्ली की हार पर कांग्रेस आलाकमान को नसीहत दी है.

ज्योतिरादित्य ने दिल्ली चुनाव परिणाम पर निराशा जताई
मध्य प्रदेश के पृथ्वीपुर पहुंचे सिंधिया ने कांग्रेस के खराब प्रदर्शन पर कहा, ''यह हमारी पार्टी के लिए बहुत निराशाजनक है. एक नई विचारधारा और एक नई कार्यप्रणाली की तत्काल जरूरत है. देश बदल गया है, इसलिए हमें देश के लोगों के साथ नए तरीके से सोचने और जुड़ने का विकल्प चुनना होगा.''

ज्योतिरादित्य का बयान कांग्रेस आलाकमान पर निशाना
ज्योरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस में नई विचारधारा और नई कार्यप्रणाली की बात करके कांग्रेस के वर्तमान नेतृत्व यानी गांधी परिवार पर सीधा निशाना साधा है. विचारधारा पर उंगली उठाने से उनका मतलब था कि कांग्रेस में नए विचारों की कमी हो गई है. वह नए विकल्पों की भी बात कर रहे हैं. शायद इसका मतलब गांधी परिवार से इतर नए  विकल्प से था.
ज्योतिरादित्य ने बागी तेवर कोई नए नहीं हैं. वह पहले भी गांधी परिवार को निशाने पर लेते रहे हैं.

पहले भी दे चुके हैं कांग्रेस आलाकमान को चेतावनी
पिछले साल यानी अगस्त 2019 में खबर आई थी कि ज्योतिरादित्य सिंधिया खुद को मध्य प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने की मांग पर अड़ गए हैं. उन्होंने गांधी परिवार को इस्तीफे की धमकी भी दी थी. लेकिन बाद में काफी मान मनौवल के बाद वे शांत हुए थे.

ट्विटर पर कांग्रेस के पद से नाता तोड़ चुके हैं सिंधिया
24 नवंबर 2019 को ज्योतिरादित्य सिंधिया सिंधिया ने अपने ट्विटर अकाउंट से कांग्रेस पार्टी के सभी पदों को हटा दिया. ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपना ट्विटर प्रोफाइल बदल कर नया अपडेट किया. अब वे खुद को जनता का समाज सेवक और क्रिकेट प्रेमी बताते हैं. इससे पहले पार्टी के तमाम युवा प्रकोष्ठ से लेकर तमाम पदों से सजे हुए ट्विटर प्रोफाइल पर अब सिर्फ चार शब्दों में दो गैर-राजनीतिक पदों का ही जिक्र किया है. ऐसे में यह संदेह होता है कि क्या सिंधिया कांग्रेस में घुटन महसूस कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें-कांग्रेस ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को लगाया किनारे !

ये भी पढ़ें-गांधी परिवार के दो वफादार, भाजपा में जाने के लिए हैं बेकरार! जानिए वजह