अधीर रंजन का एक और विवादित बयान, 'मैं पाकिस्तानी हूं, जो करना है कर लो'

कांग्रेस पार्टी ने आजकल पाकिस्तान की वकालत करने का मूड बना लिया है. तभी तो बार-बार कांग्रेसी नेताओं का पाकिस्तान प्रेम सामने आ रहा है. अधीर रंजन चौधरी ने खुद के पाकिस्तानी होने का ऐलान कर दिया है. साथ ही पीएम मोदी और अमित शाह को ये चेतावनी दी है कि जो करना है कर लो

अधीर रंजन का एक और विवादित बयान, 'मैं पाकिस्तानी हूं, जो करना है कर लो'

नई दिल्ली: अपने बयानों से सुर्खियां बंटोरने वाले कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने एक और विवादित बयान दिया है. पश्चिम बंगाल के बशीरहाट में कांग्रेस की एक जनसभा में अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि मैं पाकिस्तानी हूं, तुम लोगों को जो करना है कर लो. अधीर रंजन चौधरी ने पीएम मोदी और अमित शाह पर निशाना साधा है.

'मैं पाकिस्तानी हूं, जो करना है कर लो'

कांग्रेस के दिग्गज नेता और लोकसभा सांसद अधीर रंजन का देश विरोधी बयान सामने आया है. उन्होंने कहा है कि 'हां मैं पाकिस्तानी हूं, तुम लोगों को जो करना है कर लो. यहां पर हां को हां बोलना खतरे से खाली नहीं है. दिल्ली के जो कहेंगे हमें मान लेना होगा, वर्ना हम देशद्रोही बन जाएंगे. ये भारत नरेंद्र मोदी और अमित शाह के पिताजी की खेती नहीं है.'

कांग्रेस नेता का ये बयान उत्तर २४ परगना के बशीरहाट में कांग्रेस की एक जनसभा को संबोधित करने के दौरान आया है. लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी ने पहली बार ऐसी भाषा का इस्तेमाल नहीं किया है. हाल ही में उन्होंने जम्मू-कश्मीर से आतंकियों के साथ पकड़े गए डीएसपी देवेंद्र सिंह को लेकर भी धार्मिक बयानबाजी की थी.

राज्यपाल के बयान पर ली चुटकी

कांग्रेस नेता अधीर रंजन यहीं नहीं रुके उन्होंने इसी जनसभा के बाद पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनकड़ के अरजुन के तीर को परमाणु अस्त्र होने के बयान पर चुटकी ली. अधीर रंजन ने पत्रकारों को बताया कि 'कुछ पागल तो पागलखाने में नहीं रहते हैं, कुछ बाहर भी रहते है. और समझ लीजिये हमारे धनकड़ साहब उसी तरह के पागल हैं जो कैद खाने से बाहर है. जिस पश्चिम बंगाल में 4 से 5 लोगों को नोबेल पुरस्कार मिला है उसी राज्य के राज्यपाल इस तरह की बाते करते है तो हम लोग फिर किधर जाएंगे. अर्जुन के उस तीर में अगर परमाणु रहता तो फिर इतना रिसर्च करने की क्या जरूरत है.'

अपनी बयानबाजी में अधीर रंजन इस कदर बेसुध हो गए कि उन्होंने राज्यपाल को ही पागल करार दे दिया. उन्होंने ये भी कहा कि 'धनकड़ को बोलना होगा की वैसा ही एक तीर नरेंद्र मोदी के हाथ में दे दें जिससे की वो पाकिस्तान को उस तीर से उड़ा दे. और बाकि जिसको भी जरूरत पड़े उसी तीर से उड़ा दे. इस तरह के पागलों को कहा बिठा के रखा है जो ऐसी सोच लेकर यहां पर है. ये हमारे लिए बहुत ही दुर्भाग्य की बात है.'

इसे भी पढ़ें: नेताओं का 'पाकिस्तान प्रेम'! कांग्रेस के चरित्र का पूरा इतिहास

दो दिन पहले ही कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने ट्विटर पर लिखा था कि 'अगर डीएसपी देवेंद्र सिंह का नाम देवेंद्र खान होता तो RSS की प्रतिक्रिया और ज्यादा तीखी और मुखर होती.' इस बयान को देते वक्त उन्होंने पुलवामा अटैक के लिए पाकिस्तान को क्लीन चिट तक दे दी. अधीर रंजन चौधरी ने पुलवामा हमले की जांच पर सवाल उठाए हैं और नए सिरे से जांच की मांग की.

इसे भी पढ़ें: देशद्रोह के संगीन मामले पर भी धर्म की राजनीति करने से बाज नहीं आ रहे हैं कांग्रेसी