यूपी चुनाव से लेकर भारत पाक मैच तक, हर मुद्दे पर बोले असदुद्दीन ओवैसी

AIMIM के अध्यक्ष और लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने ज़ी मीडिया को दिए इंटरव्यू में कई बड़ी बातें कहीं. 

Written by - Shivam Pratap | Last Updated : Oct 27, 2021, 09:18 PM IST
  • पाकिस्तान से मैच खेलने की जरूरत नहीं थी- ओवैसी
  • लगातार चुनाव हार रहे हैं अखिलेश यादव
यूपी चुनाव से लेकर भारत पाक मैच तक, हर मुद्दे पर बोले असदुद्दीन ओवैसी

लखनऊ: उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव में अब ज्यादा समय नहीं बचा है. सभी सियासी दलों ने अपनी अपनी रणीनित पर काम करना शुरू कर दिया है. इस बीच AIMIM के अध्यक्ष और लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने ज़ी मीडिया को दिए इंटरव्यू में कई बड़ी बातें कहीं. 

असदुद्दीन ओवैसी के इंटरव्यू की अहम बातें- 

सवाल: आप UP में रैलियां करके हिंदू मुस्लिम ध्रुवीकरण कर रहे हैं जिसका सीधा फायदा BJP को हो रहा है? आप पर BJP की B टीम होने के आरोप लग रहे हैं? 

जवाब: क्या अपने समाज की बात करना गुनाह है? पीएम मोदी और CM योगी हिंदुओं की बात करें वो सही, मायावती दलितों की बात करें, अखिलेश यादवों की बात करें वो सब सही और मैंने मुस्लिमों की बात कर दी तो वो गलत हो गई? जहां तक B टीम की बात है तो मुझे कोई इसका जवाब दे कि 2014, 2017 और 2019 चुनाव में तो ओवैसी नहीं था फिर बीजेपी कैसी जीती? 

सवाल - भारत पाकिस्तान मैच के बाद मोहम्मद शमी के ट्रोलिंग का मुद्दा बना, आपने खूब बयानबाजी की लेकिन असल में ये ट्रोलिंग फर्जी थी और पाकिस्तान से हुई थी? 

जवाब- मैच जरूरी है क्या? पाकिस्तान के आतंकियों की वजह से हमारे सैनिक शहीद हुए उनके परिवार वालों पर क्या बीत रही होगी? अब शमी की बात है तो क्या वो अकेला प्लेयर था या उसने अकेले हरवाया? फर्जी ट्रोलिंग वाली बात भी एक एजेंडा है. अब ये सब कवर किया जा रहा है.

सवाल - आप हर जगह भड़काऊ भाषण देते हैं? हर मुद्दे को लेकर एक अलग बयान जारी करते हैं जिससे विवाद होता है?

जवाब - अब बोलने पर भी पाबंदी लगेगी क्या? सच रखना भड़काऊ भाषण है तो हां मैं सच बोलूंगा. मुस्लिमों की हालत बद से बदतर है और जो इसके जिम्मेदार हैं उनको ये भड़काऊ भाषण लगते हैं.

सवाल - UP में आपकी सक्रियता अखिलेश यादव को झटका दे रही है, अखिलेश यादव तो खुद को मुस्लिमों का असली रहनुमा बताते हैं?

जवाब - अखिलेश यादव ने लगातार पिछले 3 बड़े चुनाव हारे हैं वो भी तब जब यूपी में मेरी पार्टी और मै कहीं नहीं थे! अब मुस्लिम रहनुमाओं की बात है तो अखिलेश यादव के शासन में यूपी में सबसे ज्यादा दंगे हुए, सबसे ज्यादा ड्रॉप रेट मुस्लिमों का UP में था, सबसे ज्यादा जेल में मुस्लिम थे?

ओवैसी ने कहा कि जिस वक्त  मुजफ्फरनगर दंगे के पीड़ित सर्दियों में टेंट में अपनी रात बिता रहे थे उस दौरान अखिलेश यादव सैफई में जश्न मना रहे थे, उन्नाव में मुसलमान और एक गुप्ता मरते हैं लेकिन अखिलेश यादव सिर्फ उस हिंदू लड़के को ₹100000 देते हैं, क्या यह है उनका मुस्लिम प्रेम. जब समाजवादी पार्टी की सरकार थी तब 70 MLA मुसलमान जीतकर आए थे, तो फिर मुज्जफरनगर का दंगा कैसे हुआ?  

सवाल - चर्चा है कि आपकी बात बीएसपी सुप्रीमो मायावती से गठबंधन की बात हो रही है?

जवाब - ये कोरी अफवाह है, अभी ऐसा कुछ नहीं है लेकिन अगर कोई दल हमसे जुड़ना चाहे तो बात करेंगे, मुद्दे रखेंगे और कोशिश करेंगे.

सवाल- UP चुनाव में महज कुछ महीनों का समय बाकी है? आप जमीन पर उतर रहे हैं रोज जनसभा कर रहे हैं? क्या प्लान तैयार किया है Up चुनाव का?

जवाब - हम यूपी में दमदारी से चुनाव लड़ेंगे और हमारे मुद्दे स्पष्ट हैं. अल्पसंख्यकों की हालत, उन पर क्रूर प्रशासन और उनकी दयनीय स्थिति, मेरे प्रमुख मुद्दे हैं. जहां तक घोषणा पत्र की बात है मैं कभी घोषणा नहीं करता लेकिन कोशिश रहेगी कि ज्यादा से ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ा जाए.

प्रश्न - क्या यूपी में चुनाव आप सिर्फ मुस्लिम मुद्दे पर लड़ेंगे और किसी जाति या वर्ग का समर्थन नहीं चाहिए?

उत्तर- क्या बात कर रहे हैं हमारे आज के सम्मेलन का नाम ही शोषित वंचित सम्मेलन है. हम दलितों की, पीड़ितों की और वंचितों की आवाज बन रहे हैं और हम हर एक वर्ग का सहयोग ले रहे हैं और सबके साथ खड़े होंगे.

सवाल -आज आपने फिर एक बार मुजफ्फरनगर दंगों का जमकर जिक्र किया! आप ने लोगों से कहा कि हम हमें यह भूलना नहीं चाहिए याद रखना चाहिए, क्या दंगे के नाम पर लोगों को उकसा रहे हैं?

जवाब - दंगे में सबसे ज्यादा नुकसान मुस्लिम समाज का हुआ,  40000 मुस्लिम लोग घरों से बेदखल हो गए. उन पर जुल्म हुए, यतीम बच्चे जेल गए. ये सब इसलिए हुआ क्योंकि मुस्लिमों का कोई नेता नहीं है, तो क्या अब हम अपनी नई लीडरशिप तैयार ना करें, क्या हम सब भूल जाए? जिस पर बीती है वह कभी कुछ नहीं भूलता, उससे सबक लेता है.

प्रश्न- देश में 100 करोड़ वैक्सीन लग गई, आप इस पर भी नाराज हैं और प्रधानमंत्री मोदी पर हमलावर हैं?

जवाब- मैं नाराज नहीं हूं लेकिन मेरा एक सवाल है कि कितने लोगों को डबल डोज लगे? कितनी महिलाओं को डोज लगे? यूपी में कितने लोगों को डोज लगे?  लेकिन प्रचार ऐसे किया जा रहा है जैसे पूरी कंट्री को वैक्सीनेटेड कर दिया गया हो, जबकि सच्चाई यह है कि सिर्फ 31 करोड़ लोगों को डबल डोज लगे हैं. और सच को रखना भ्रमित करना नहीं है.

प्रश्न- UP में आपने शिवपाल यादव, चंद्रशेखर रावण से भी मुलाकात की है क्या उनसे गठबंधन पर चर्चा हो रही है?

जवाब- देखिए हम सब से बात कर रहे हैं और जो हमारे साथ चुनाव लड़ना चाहता है हम उसके साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे. जनता के बीच जाएंगे और इसमें कोई बुराई भी नहीं है. शिवपाल जी से मैंने दो बार मुलाकात की चंद्र शेखर से भी की और खुलेआम की. 

प्रश्न- विपक्षी पार्टियों का आरोप है कि आप अपने गृह राज्य में तो अपनी सरकार बना नहीं पाए? वहां मुख्यमंत्री नहीं बन पाए और आप दूसरे राज्यों में चुनाव लड़ रहे हैं? 

उत्तर- मैं मुख्यमंत्री या मंत्री बनने के लिए पॉलिटिक्स में नहीं आया हूं. मैं हमेशा कहता हूं कि मुझे मंत्री संत्री नहीं बनना है. बस मुझे अपने लोगों की बात रखनी है और उनके मुद्दे उठाने हैं. और इसके लिए मुख्यमंत्री या मंत्री बनने की जरूरत नहीं है. आज जो मंत्री हैं वह बिना प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री से पूछे एक छोटा सा काम भी नहीं कर सकते.

ये भी पढ़ें- जेल में कटेगी आर्यन खान की एक और रात, जमानत पर सुनवाई स्थगित

प्रश्न- भारत-पाकिस्तान मैच में पाकिस्तान के जीतने पर वहां के मंत्री शेख रशीद ने कहा कि ये इस्लाम की जीत है? कैसे देखते हैं आप इसे?

उत्तर- पाकिस्तान के मंत्री पागल और बेवकूफ है. मैं अपने पूर्वजों को धन्यवाद देता हूं कि वह पाकिस्तान नहीं गए वरना इन कामजर्फो को हमें संभालना पड़ता. एक क्रिकेट मैच को इस्लाम से कैसे जोड़ा जा सकता है? अरे पाकिस्तान वालों बेवकूफ हो तुम, भारत से तुलना ना करो.

भारत तुमसे सदियों आगे हैं. तुम्हारी एक मलेरिया की वैक्सीन बनाने की औकात नहीं है पर बात इस्लाम की करते हो. मुझे समझ नहीं आता कि पाकिस्तानी कैसे इस्लाम की बात करते हैं जिन्होंने चीन के आगे घुटने टेक दिए और वहां पर 2000000 उइगर मुसलमानों पर जमकर जुल्म हुए. 

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़