विधायकी रद्द होने के खिलाफ आजम खान के बेटे लगाएंगे सुप्रीम कोर्ट में गुहार

दो जन्म प्रमाण पत्र के मामले में रामपुर के सांसद आजम खान के बेटे यानी स्वार विधानसभा क्षेत्र के विधायक अब्दुल्ला आजम का निर्वाचन रद्द हो गया है. जिसके बाद उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई है. जिसपर सुनवाई की तारीख मुक़र्रर हो गई है.     

विधायकी रद्द होने के खिलाफ आजम खान के बेटे लगाएंगे सुप्रीम कोर्ट में गुहार

नई दिल्ली: विधायकी रद्द होने के खिलाफ समाजवादी पार्टी के सांसद आज़म खान के बेटे अब्दुल्ला आज़म की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को सुनवाई करेगा. 

हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती
अब्दुल्ला आज़म ने इलाहाबाद हाइकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है. क्योंकि इलाहाबाद हाइकोर्ट ने अब्दुल्ला आज़म को अयोग्य क़रार देते हुए उनकी विधायकी रद्द कर दी थी.  हाईकोर्ट विरोधी पक्ष के इस तर्क को मान गया था कि साल 2017 में उनकी उम्र चुनाव लड़ने के लिए कम थी. वह 11 मार्च 2017 को उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले में स्थित स्वार से सपा के टिकट पर विधायक चुने गए थे.

बसपा प्रत्याशी ने खारिज करवाई थी अब्दुल्ला की विधायकी
हाई कोर्ट ने स्वार विधानसभा क्षेत्र से बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के प्रत्याशी रहे नवाब काजिम अली खां की याचिका पर सुनवाई करते हुए, अब्दुल्ला के चयन को रद्द कर दिया है.

कोर्ट ने कहा था कि वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव के दौरान जब अब्दुल्ला ने नामांकन पत्र दाखिल किया था, तब वह 25 साल के नहीं थे. अपनी याचिका में काजिम अली ने कहा था कि अब्दुल्ला की वास्तविक जन्मतिथि 30 सितंबर 1990 की बजाय एक जनवरी 1993 है. 

उन्होंने इसके लिए अब्दुल्ला के शैक्षणिक प्रमाण पत्र, पासपोर्ट और वीजा पर अंकित जन्म तिथि एक जनवरी 1993 का हवाला दिया था.

हाईकोर्ट में अपनी जांच में आरोप को सही पाया
हाई कोर्ट ने अब्दुल्ला की मां के सर्विस रिकॉर्ड समेत उनकी जन्मतिथि से संबंधित समस्त दस्तावेज की जांच की थी. उसने पाया था कि दस्तावेजों में अब्दुल्ला की जन्मतिथि एक जनवरी 1993 दर्ज है. अपने आदेश में हाई कोर्ट ने रजिस्ट्रार जनरल को फैसले से चुनाव आयोग तथा उत्तर प्रदेश विधानसभा को अवगत कराने को भी कहा था ताकि वे आगे की कार्रवाई कर सके. 

 पिछले दिनों इलाहाबाद हाई कोर्ट ने अब्दुल्लाह आजम खान के रामपुर जिले के स्वार विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने जाने को शून्य घोषित करते हुए निर्वाचन रद कर दिया था. कोर्ट ने महानिबंधक को आदेश दिया था कि आदेश की प्रति चुनाव आयोग व विधानसभा अध्यक्ष को प्रेषित करें.

स्थानीय अदालत में भी वांछित है आजम का पूरा परिवार
आजम खान और उनके बेटे अब्दुल्ला के दो जन्म प्रमाण पत्र के मामले में पिछले 18 दिसंबर को रामपुर के एडीजे-6 की कोर्ट ने आजम खान, उनकी पत्नी तंजीन फातिमा व अब्दुल्ला के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था. अदालत ने तीनो के खिलाफ CRPC की धारा 82 के तहत उद्घोषणा का नोटिस जारी किया था.  

सांसद और विधायक की पेशी के लिए रिक्शे पर हुआ था ऐलान
कोर्ट में पेश नही हो रहे सांसद आजम खान, विधायक तंज़ीम फातिमा ओर पुत्र अब्दुल्ला आज़म के खिलाफ मुनादी इस पूरे परिवार के लिए बेहद बुरा वक्त रहा. उनके खिलाफ शहर में जगह जगह रिक्शे से अनाउंसमेंट कराया गया. अदालत ने पूरे खान परिवार को  24 जनवरी को कोर्ट में पेश होने के लिए कहा गया. 

ये भी पढ़ें- परिवार सहित पेशी के लिए आजम खान के खिलाफ रिक्शे पर हुई मुनादी