कैसा होगा अगला रेल बजट, जानिए यहां

साल 2020 की शुरुआत के साथ बजट पेश करने की तैयारी जोर पकड़ रही है. आईए आपको बताते हैं कि इस बार के रेल बजट में क्या होगा खास-  

कैसा होगा अगला रेल बजट, जानिए यहां

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित करने पर जबरदस्त जोर दिया जा रहा है. सरकार सड़क से लेकर हवाई मार्ग तक निवेश और उसके विस्तार के लिए कदम बढा रही है. सरकार के इस रुख को देखते हुए, लोगों को मोदी सरकार पार्ट-2 के आगामी वित्तीय बजट से काफी उम्मीदें हैं. उम्मीदों के पिटारा लेकर भारतीय रेलवे और रेल मुसाफिर भी तैयार हैं. 

रेल बजट में इन बातो पर रहेगा सरकार का जोर
सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि अगला रेलवे बजट तीन स्तंभों पर टिका होगा- इंफ्रास्ट्रक्चर, प्राइवेट और सुरक्षा. इस बार रेल बजट में ट्रेन सेट या वंदे भारत जैसी ट्रेनों को और भी रुट पर चलाने का ऐलान किया जा सकता है. 

इंजन युक्त ट्रेनें है भारतीय रेल का भविष्य
सूत्रों के मुताबिक रेल मंत्रालय की आंतरिक चर्चा में इस बात पर लगभग सहमति बन गई है कि भारतीय रेलवे का भविष्य ट्रेन सेट जैसी इंजन युक्त ट्रेनें  ही हैं. लिहाजा चरणबद्ध तरीके से बाहर से इंजन चलित ट्रेनों के कम किया जाएगा. उम्मीद  की जा रही है  कि आगामी बजट से इसकी शुरुआत भी हो जाएगी. 

रेल मंत्रालय दिल्ली-अमृतसर, दिल्ली-जयपुर, जैसे रास्तों पर अब ज्यादा ट्रेन सेट चलाना चाहती है. 

प्राइवेट ट्रेनों पर भी स्पष्ट किया जाएगा रुख
सरकार अगले रेल बजट में भी प्राइवेट ट्रेनों के परिचालन पर अपने रुख को और स्पष्ट करेगी. रेल बजट में  तेजस औऱ वंदे भारत जैसी प्रीमियम ट्रेनों को ज्यादा संख्या में परिचालन  के लिए IRCTC को अधिक सौंपा जा सकता है. सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि और ट्रेनें IRCTC को दी जा सकती है. पहले ये ट्रेनें IRCTC चलाएगी और बाद में ये निजी कंपनियों को सैंपी जा सकती है. 

रेल को गति बढ़ाने के लिए रेल रुट किए जाएंगे अपग्रेड
भारतीय रेल मिशन स्पीड अपग्रेडेशन  की योजना पर  काम कर रहा है. उन तमाम रेल रुट पर जहां इलेक्ट्रीफिकेशन का काम लगभग पूरा हो चुका है, वहां स्पीड बढ़ाई जा सकती है. 

उदाहरण के तौर पर दिल्ली-मुंबई और दिल्ली-कोलकाता के बाद मुंबई-चेन्नई औऱ दिल्ली-चेन्नई के रास्ते पर 160 किलोमीटर प्रतिघंटा की औसत गति से अपग्रेड किए जाने  का ऐलान  किया जा सकता है. 

आधुनिकतम संचार माध्यमों से लैस होगी ट्रेन
रेलवे अपना स्पेक्ट्रम स्थापित कर चुकी है. इस  काम  के पूरा  होने के चलते कई दिशाओं में स्पेक्ट्रम इस्तेमाल के लिए अगले बजट में ऐलान किया जा सकता है. इसके बाद रियल टाइम ट्रेन मॉनिटरिंग, ऑन बोर्ड इंटरटेनमेंट, ऑन बोर्ड वाई फाई जैसे सुविधाओं का आगाज हो सकता है. 

इसके अलावा यात्री सुविधाओं जैसे लिफ्ट, एस्कलेटर, दिव्यांग फ्रेंडली रेलवे स्टेशन बनाने पर भी फोकस रहेगा.