बिपिन रावत का बड़ा बयान, कोरोना के दौरान जंग को लेकर कही ये बात

देश के CDS(चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ) जनरल बिपिन रावत ने कोरोना वायरस के गंभीर खतरे के बीच भारत की सुरक्षा और कोरोना वायरस से बचाव को लेकर अहम टिप्पणी की है जिससे लोगों में कई चर्चाएं तेज हो गयी हैं.

बिपिन रावत का बड़ा बयान, कोरोना के दौरान जंग को लेकर कही ये बात

 दिल्ली: कोरोना वायरस के कहर के बीच CDS बिपिन रावत ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि देश और गंभीर खतरा है और सैनिकों को हर परिस्थिति के लिए तैयार रहना चाहिए क्योंकि कोरोना के प्रकोप बढ़ने पर सेना की मदद लेनी पड़ी सकती है. बिपिन रावत ने जोर देकर कहा कि देश सुरक्षा को लेकर और अधिक सतर्क रहने की ज़रूरत है.

हिंदुस्तान की विशेष देखभाल करने की ज़रूरत

बिपिन रावत ने कहा कि ऐसे वक्त में देश को विशेष देखभाल प्रदान करने से लेकर क्वारंटाइन कैंप बनाने से लेकर सभी प्रकार की सहायता की आवश्यकता है. मीडिया से बात करते हुए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ(सीडीएस) जनरल बिपिन रावत ने कहा कि समय आ गया है जब सशस्त्र बलों को कोरोना वायरस के खिलाफ इस लड़ाई में आगे बढ़ना होगा और देश के सैनिकों को ऐसी चुनौती के लिए तैयार रहना चाहिए.

जनरल रावत ने जोर देकर कहा कि कोविड​​-19 के खिलाफ सभी सरकारी एजेंसियों द्वारा समग्र समन्वित प्रयास केवल तभी सफल होंगे जब लोग उन निर्देशों का पालन करेंगे जो समय-समय पर लोगों को दिए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि सशस्त्र बलों ने पहले ही सभी रैंकों और परिवारों को निर्देश जारी कर दिए हैं कि वे उन निर्देशों का सख्ती से पालन करें.

दिल्ली, यूपी और बिहार सरकार ने लॉकडाउन में गरीबों को दिया अनोखा तोहफा, जानिए यहां

विदेश से आये 1500 लोगों को किया गया है क्वारंटाइन

गौरतलब है कि इटली, ईरान, चीन और दक्षिण पूर्व एशियाई देशों से वापस लाए गए लगभग 1500 लोगों को गुरुग्राम, जैसलमेर, मुंबई और हिंडन जैसे स्थानों पर सेनाओं द्वारा क्वारंटाइन किया गया है. यहां 15 से अधिक क्वारंटाइन कैंप भी बनाई गए हैं, जहां लोगों को उनके क्वारंटाइन काल के दौरान रखा जाता है.

आपको बता दें कि पूरे देश में आज से 21 दिनों तक लॉक डाउन किया गया है. इस दौरान कोई भी घर से बाहर नहीं निकल सकता. सभी प्रदेशों में पुलिस को सख्त आदेश दिए गए हैं.

277 भारतीय को ईरान से लाया गया भारत