बिहार के बक्सर में मिली थी तैरती लाशें, प्रोटोकॉल के साथ किया गया 71 का अंतिम संस्कार

बिहार सरकार ने मंगलवार को कहा कि बक्सर जिले के चौसा के पास से गंगा नदी से तैरते हुए 71 शवों को बरामद किया गया, जिसका प्रोटोकॉल के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : May 11, 2021, 09:06 PM IST
बिहार के बक्सर में मिली थी तैरती लाशें, प्रोटोकॉल के साथ किया गया 71 का अंतिम संस्कार

पटना: बिहार सरकार ने मंगलवार को कहा कि बक्सर जिले के चौसा के पास से गंगा नदी से तैरते हुए 71 शवों को बरामद किया गया, जिसका प्रोटोकॉल के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया. सरकार का दावा है कि सभी उत्तर प्रदेश से बहकर आए हैं.

बिहार में नीतीष कुमार मंत्रिमंडल में शामिल राज्य के जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने मंगलवार को अपने अधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर लिखा, बिहार सरकार ने बक्सर जिले के चौसा के निकट गंगा नदी में बहते हुए शवों की दुर्भाग्यपूर्ण घटना के मामले में संज्ञान लिया है. यह शव उत्तर प्रदेश से बहकर बिहार आए हैं.

पोस्टमार्टम के बाद डॉक्टरों ने पुष्टि की है कि ये सभी शव चार-पांच दिन पुराने हैं. नीतीश कुमार के नजदीकी माने जाने वाले झा ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, बरामद 71 शवों का अंतिम संस्कार प्रोटोकॉल से कर दिया गया है. उत्तर प्रदेश की सीमा पर रानीघाट में गंगा नदी में जाल लगा दिया गया है. हमलोगों ने उत्तर प्रदेश प्रशासन से अनुरोध किया है कि वे अलर्ट रहें और बक्सर जिला प्रशासन भी अलर्ट है. हमने सभी को सलाह दी है कि वे मृत व्यक्ति और गंगा मां को पूरा सम्मान दें.

इस घटना से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार दुखी बताए जाते हैं. मंत्री झा ने एक अन्य ट्वीट में इसकी जानकारी देते हुए कहा, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस घटना और गंगा नदी को पहुंचे नुकसान से दुखी हैं. खास तौर से वे गंगा नदी की शुद्धता और निरंतर प्रवाह को लेकर चिन्तित रहते हैं. उन्होंने प्रशासन को निर्देश दिया है कि क्षेत्र में गश्ती और बढ़ाई जाए जिससे इस तरह की घटना दोबारा नहीं हो. उल्लेखनीय है कि सोमवार को बक्सर के चौसा में गंगा नदी में कई शवों को तैरते हुए देखा गया था. इसके बाद क्षेत्र में गश्ती बढ़ा दी गई है. 

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़