close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भगवा और दलित दोनों खेमों को साधने के लिए भाजपा ने जारी किया घोषणापत्र

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव की अंतिम तैयारियों के बीच भाजपा ने चुनावी घोषणापत्र का एटम बम छोड़ दिया है जिससे विपक्षी पार्टियों के किले ध्वस्त हो जाने के आसार दिखने लगे हैं. क्या है वो मास्टर मूव और क्या होगा इसका चुनाव परिणामों पर असर एक दफा जान लेना बहुत जरूरी है.

भगवा और दलित दोनों खेमों को साधने के लिए भाजपा ने जारी किया घोषणापत्र
भाजपा के चुनावी वादे

नई दिल्ली:  महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में भाजपा लीड लेने की तैयारी में है. पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुनावी प्रचार में पहुंचे थे. रैलियों के उत्साह को देख सभी राजनीतिक पंडितों को बयार भाजपा के पाले में शिफ्ट होने के आसार नजर आने लगे थे. अब इस झटके से विपक्ष उभरने की कोशिश ही कर रहा था कि भाजपा ने अगला मास्टरस्ट्रोक कुछ ऐसा तैयार किया कि विपक्ष बैकफुट पर आ गया.  दरअसल, भाजपा ने आज अपना 16 बिंदुओं पर आधारित घोषणापत्र जारी किया. भाजपा के संकल्प पत्र में अगले पांच साल में 1 करोड़ युवाओं को रोजगार देने का संकल्प लिया है. 

सवर्ण-दलित वोटरों को साधने के लिए भाजपा ने खेला मास्टरस्ट्रोक 
लेकिन जो असल मास्टरस्ट्रोक भाजपा ने खेला है उससे उसे महाराष्ट्र में दलित और हिंदूवादी दोनों वोटरों दोनों ही को साध सकती है. दरअसल, भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में महाराष्ट्र की अमर विभूतियों ज्योतिबा फुले के साथ सावित्री बाई फुले और वीर सावरकर को भारत रत्न दिलाने का वायदा किया है. इन दोनों के माध्यम से भाजपा सवर्ण-दलित समीकरणों को कितना बेहतर भुना सकती है. फुले दंपत्ति(ज्योति बा और सावित्री बाई) ने दलित समुदाय और महिलाओं में शिक्षा की अलख जगाई थी. वहीं सावरकर हिंदूवादी राजनीति के प्रतीक हैं. 

एक करोड़ रोजगार देने का किया वायदा 
भाजपा की ओर से जेपी नड्डा ने संकल्प पत्र जारी करते हुए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की तारीफ की और कहा कि ''देवेंद्र फडणवीस जी ने महाराष्ट्र की राजनीतिक संस्कृति में मूल परिवर्तन कर दिया है. उन्होंने आगे कहा कि पांच साल पहले महाराष्ट्र एक भ्रष्टाचार से ग्रसित प्रदेश था लेकिन आज देवेंद्र फडणवीस जी के नेतृत्व में महाराष्ट्र भ्रष्टाचार से मुक्त प्रदेश बन गया है.'' घोषणा पत्र में आने वाले पांच सालों में 1 करोड़ नौकरियों का निर्माण करने का जो वायदा किया गया है उसका रोडमैप भी तैयार कर लिया गया है. इसके अलावा 1 करोड़ परिवारों को महिला बचत समूह से जोड़कर रोजगार के विशेष अवसर उपलब्ध कराने जैसी बातें इस संकल्प पत्र में जोड़ी गईं हैं. 

जीते तो पूरे महाराष्ट्र में होगा इंटरनेट 
भाजपा के संकल्प पत्र में भारत नेट और महाराष्ट्र नेट के जरिए पूरे महाराष्ट्र को इंटरनेट सेवा से जोड़ने का वायदा भी  किया गया है. इतना ही नहीं प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना और महात्मा फुले जन आरोग्य योजना के लाभ से कोई भी बाकी न रह जाए, इसके लिए भी भाजपा कमर कस के तैयार है. अगले 5 सालों में  कृषि में खपत होने वाली बिजली को सौर ऊर्जा के माध्यम से किसानों को दिन में कम से कम 12 घंटे से अधिक इसका सप्लाई पहुंचाने की योजना है.  महाराष्ट्र में सूखे की समस्या आए दिन परेशानी का कारण बनता नजर पड़ता है, इसे ले कर संकल्प पत्र में दिए गए प्रावधानों के बारे में बताते हुए जेपी नड्डा ने कहा कि ''मराठवाड़ा वाटर ग्रिड महत्वकांक्षी योजना के माध्यम से 11 बांधों को  जोड़कर समस्त मराठवाड़ा की जरूरतों की आपूर्ति  पाइप लाइन से माध्यम से करेंगे. कृष्णा कोयना के अलावा नदियों में बाढ़ के कारण बह जाने वाले अतिरिक्त पानी को पाश्चिम महाराष्ट्र के स्थायी सूखे भाग में पहुंचाया जाएगा.''

इन घोषणाओं से शिवसेना को भी अचरज 
इस रोडमैप के साथ भाजपा चुनावी मैदान में दंगल मारने को तो तैयार है ही, इसके अलावा पार्टी की ओर से और राजग गठबंधन की ओर से निवर्तमान मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को एक बार फिर मुख्यमंत्री पद का एकमात्र उम्मीदवार घोषित भी कर दिया है. भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना में आदित्य ठाकरे को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने का दबाव फिलहाल किसी काम नहीं आया.  शनिवार को एनडीए गठबंधन की  दूसरी बड़ी पार्टी शिवसेना ने अपना घोषणापत्र जारी किया था जिसमें राज्य में 10 रूपए के सस्ते दर पर भोजन के लिए भोजनालय की व्यवस्था कराए जाने का वायदा किया था. इसके अलावा किसानों को सस्ते दरों पर खेती के उपकरणों और उर्वरक मुहैया कराए जाने का वायदा किया गया था.