गृहमंत्री अमित शाह ने झारखंड से भी घुसपैठियों को भगाने का वादा किया

भारतीय जनता पार्टी की प्राथमिकताओं में एनआरसी का मुद्दा है. सोमवार को झारखंड के चक्रधरपुर में एक चुनावी सभा में बोलते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने एक बार फिर से घुसपैठियों का मुद्दा उठाया. उन्होंने राज्य में ओबीसी आरक्षण की सीमा बढ़ाने का भी आश्वासन दिया.   

गृहमंत्री अमित शाह ने झारखंड से भी घुसपैठियों को भगाने का वादा किया

रांची: झारखंड में चुनाव का माहौल है. ऐसे में गृहमंत्री और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम इलाके के चक्रधरपुर में चुनाव प्रचार के लिए पहुंचे. उन्होंने यहां चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि झारखंड ने कई सरकारें देखीं, मगर कोई भी विकास को गति नहीं दे पाया, क्योंकि कोई भी सरकार पूर्ण बहुमत की नहीं थी.

अपनी रैली के दौरान गृहमंत्री ने जो अहम बात कही वो ये थी कि ''इस देश और झारखंड से घुसपैठिये बाहर जाने चाहिए या नहीं ? लेकिन राहुल बाबा कहते हैं कि इन्हें मत निकालों, ये कहां जायेंगे, क्या खाएंगे ? लेकिन मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि 2024 से पहले ही हम पूरे देश से घुसपैठियों को चुन-चुन कर निकाल बाहर करेंगे.''

इसके अलावा अमित शाह ने ये भी वादा किया कि राज्य के आदिवासियों, दलितों का आरक्षण कम किए बिना ओबीसी आरक्षण को बढ़ाने के लिए एक कमेटी बनाएंगे. उन्होंने बयान दिया कि ''झारखंड में बीजेपी की चुनावी घोषणा पत्र में हमने तय किया है कि जैसे ही बीजेपी सरकार बनती है, वैसे ही आदिवासियों, दलितों का आरक्षण कम किए बिना ओबीसी समाज के आरक्षण को बढ़ाने के लिए हम एक कमेटी बनाएंगे.''

ये भी पढ़ें- वंशवाद की चपेट में झारखंड की राजनीति

पश्चिमी सिंहभूम में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने एनआरसी के साथ साथ राम जन्मभूमि का भी जिक्र किया.

अमित शाह ने राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा कि ‘‘कांग्रेस नेता राहुल गांधी आज झारखंड में हैं. उनकी पार्टी ने 55 वर्ष में क्या विकास कार्य किए, वह उनका ब्यौरा दें, हमारे पास अपने पांच साल का लेखाजोखा है.’’ विपक्ष पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा कि आदिवासियों का फायदा उठाने वाली, करोड़ों रुपये का भ्रष्टाचार करने वाली और चुनाव के टिकट बेचने-खरीदने वाली पार्टियां झारखंड के विकास के लिए कभी काम नहीं कर सकतीं.

ये भी पढ़ें- झारखंड में मुख्यमंत्री की सीट का क्या है चुनावी विश्लेषण

भाजपा अध्यक्ष ने नक्सलियों पर भी वार किया और कहा कि ‘‘आपका वोट तय करेगा कि झारखंड विकास के पथ पर चलेगा या नक्सलवाद के.’’ 

झारखंड में विधानसभा चुनाव पांच चरणों में हो रहे हैं. पहले चरण के लिए 30 नवंबर को वोट डाले गए थे. वोटों की गिनती 23 दिसंबर को होगी.

झारखंड की राजनीति में मुर्गा भात और लाल पानी की क्या है भूमिका

अमित शाह की रैली का वीडियो यहां देखें