मोदी कैबिनेट की बैठक में लिए गए अहम और ऐतिहासिक फैसले

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में किसानों, छोटे उद्योगों और रेहड़ी-पटरी वालों के लिये कई अहम फैसले लिये गये. मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के दूसरे साल की ये पहली कैबिनेट बैठक थी.

मोदी कैबिनेट की बैठक में लिए गए अहम और ऐतिहासिक फैसले

नई दिल्ली: देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व सोमवार यानी 1 जून 2020 को में केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक की गई. अपने दूसरे वर्ष के कार्यकाल में प्रवेश करने के बाद मोदी सरकार के मंत्रिमंडल की ये पहली बैठक थी. आपको बता दें, इस बैठक में कई ऐतिहासिक फैसले लिए गए. जिनका भारत के मेहनती किसानों, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम (एमएसएमई) क्षेत्र और रेहड़ी विक्रेताओं के रूप में काम करने वाले लोगों के जीवन पर एक परिवर्तनकारी प्रभाव पड़ेगा.

'हमने MSMEs सेक्टर की परिभाषा बदली'

सरकार ने सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग यानी MSME की परिभाषा बदल दी है. इसे भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ बताया गया है. MSME को 20 हजार करोड़ रुपए की सहायता के प्रावधान पर मुहर लगाई गई है. इससे 2 लाख संकट में फंसे MSME को फायदा होगा. अब 250 करोड़ रुपए तक के टर्नओवर वाले बिजनेस, मीडियम एंटरप्राइजेज कहलाएंगे.

PM मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान को गति देने के लिए हमने न केवल MSMEs सेक्टर की परिभाषा बदली है, बल्कि इसमें नई जान फूंकने के लिए कई प्रस्तावों को भी मंजूरी दी है. इससे संकटग्रस्त छोटे और मध्यम उद्योगों को लाभ मिलेगा, साथ ही रोजगार के अपार अवसर सृजित होंगे. ‘पीएम स्वनिधि’ योजना से 50 लाख से अधिक लोगों को लाभ मिलेगा.

कोविड-19 महामारी के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र निर्माण में एमएसएमई की भूमिका को शीघ्र ही पहचान लिया. इसीलिए एमएसएमईको आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत की गई घोषणाओं का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा बनाया गया. 

मोदी कैबिनेट ने आज लिए कई बड़े फैसले

मोदी कैबिनेट ने आज कई बड़े फैसले लिए. सरकार की तरफ से किसानों को भी राहत दी गई है. किसानों को राहत देने के मकसद से खरीफ की 14 फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य को बढ़ाने की मंजूरी दी गई. सरकार के मुताबिक किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य जरिये उनके लागत मूल्य से 50 से 83 प्रतिशत ज्यादा दाम मिलेगा. किसान को ब्याज में छूट और अदायगी में मोहलत का फायदा मिलेगा.

प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्म निर्भर निधि

रेहड़ी- पटरी वालों के लिये 10 हज़ार रुपये के कर्ज की योजना मंजूर की गई है. इस योजना को प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्म निर्भर निधि नाम दिया गया है.

पीएम मोदी ने कहा, फैसलों से किसानों और MSME को जबरदस्त लाभ मिलेगा. पहली बार रेहड़ी-पटरी वालों और ठेले पर सामान बेचने वालों के रोजगार के लिए लोन की व्यवस्था हुई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कैबिनेट के फैसलों को अहम और ऐतिहासिक बताया है.

पीएम मोदी ने भारत में कोरोना से लड़ने में मेडिकल स्टाफ की भूमिका की तारीफ की. साथ ही ये भी कहा कि आज दुनिया भारत की ओर देख रही है. कोरोना को बताया वर्ल्ड वार के बाद सबसे बड़ी मुसीबत. 

इसे भी पढ़ें: जानिए, कैसे रेहड़ी-पटरी वालों के लिए तारणहार बनी सरकार, की सबसे बड़ी घोषणा

पीएम मोदी ने बताया कि केंद्र सरकार ने आज आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत अन्य घोषणाओं के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए रोड मैप भी तैयार किया है. सरकार ने हर कदम पर गरीबों और ज़रूरतमंद लोगों के प्रति सहानुभूति और संवेदनशीलता दिखाई है.

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में जासूसी कर रहे 2 पाकिस्तानी राजनयिकों की खुली पोल! ISI कनेक्शन का कबूलनामा

इसे भी पढ़ें: पाक की सिम कार्ड वाली साजिश का खुलासा: ISI का 'डर्टी गेम'