कोरोना के चार चरणों के बारे में पूरी जानकारी, जानिए हमारा देश किस चरण में है?

कोरोना से बचने के लिए घरों में रहना ही एक मात्र समाधान है क्योंकि जिससे जंग है वो अदृश्य है और वो कहां कैसे कब वार करेगा किसी को नहीं मालूम. इसलिए सरकार बस एक बात कह रही है कि घरो में रहें बाकी का काम उसने संभाल रखा है. आपकी हर परेशानी और जरूरत को लेकर राज्य सरकारें और केंद्र सरकार पूरी तरह तैयार हैं.   

कोरोना के चार चरणों के बारे में पूरी जानकारी, जानिए हमारा देश किस चरण में है?

नई दिल्ली: इटली, अमेरिका, फ्रांस और जर्मनी जैसे देश में लोगों ने अपनी गलतियों की वजह से स्थितियों के बेलगाम कर दिया. ये वक्त उन देशों की गलतियों से सबक लेने का है. वर्ना हमारे यहां स्थितियां और भयावह हो सकती हैं

इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च यानी ICMR के मुताबिक कोरोना वायरस चार प्रमुख चरणों में फैलता है. आइए आपको इसके बारे में विस्तार से बताते हैं-

पहले चरण में क्या होता है ? 
कोरोना वायरस के फैलाव के पहले चरण में कोरोना वायरस का संक्रमण उन्हीं लोगों में फैलता है. जो दूसरे देश से संक्रमित होकर भारत पहुंचे हैं. ऐसे लोगों से स्थानीय स्तर पर संक्रमण फैलता है. ये पहला चरण होता है. भारत कोरोना वायरस का ये स्टेज पार कर चुका है.

दूसरे चरण में क्या होता है? 
कोरोना वायरस के संक्रमण के दूसरे चरण में वायरस फैलता है. लेकिन धीमी गति से इसमें वो लोग प्रभावित होते हैं, जो किसी ना किसी ऐसे संक्रमित शख़्स के संपर्क में आए हों जो किसी कोरोना प्रभावित देश की यात्रा से लौटे है. विदेश यात्राओं से लौटे इन लोगों के सीधे संपर्क से दूसरे चरण में कोरोना फैलता है. सिंगर कनिका कपूर का मामला इसका सटीक उदाहरण है. वह इंफेक्शन प्रभावित ब्रिटेन से आई और उत्तर प्रदेश के कई शहरों में लोगों को संक्रमित कर दिया.   

तीसरे चरण में क्या होता है? 
ये बेहद ख़तरनाक स्तर है, इसमें कोरोना वायरस का 'कम्युनिटी ट्रांसमिशन' होता है. भारत सरकार इस चरण को लेकर न केवल चिंतित है, बल्कि संजीदा और सचेत भी है. भारत में यह दौर अभी शुरु नहीं हुआ है.  
तीसरे चरण के दौरान कोई व्यक्ति किसी अनजाने संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए बिना या वायरस से संक्रमित देश की यात्रा किए बिना ही इसका शिकार हो जाता है. तब माना जाएगा कि कोरोना वायरस का कम्युनिटी ट्रांसमिशन यानी तीसरे चरण की शुरुआत हो चुकी है. 

चौथे चरण में क्या होता है ? 
चौथा चरण में कोरोना वायरस का संक्रमण महामारी का रूप ले लेता है. चीन का वुहान शहर और इटली इसका उदाहरण हैं. इस चरण में भारी संख्या मेंलोग संक्रमित होने लगते हैं और मृतकों की संख्या बहुत ज्यादा बढ़ जाती है.  
केंद्र और राज्य सरकारों की कोशिश किसी भी हाल में कोरोना संक्रमण को तीसरे स्टेज में पहुंचने से पहले रोकने की है. यही वजह है कि लॉक डाउन पर फोकस किया जा रहा लेकिन अगर स्थितियां संभली नहीं तो सख्ती बरतनी होगी. जैसे कि पंजाब और महाराष्ट्र में बरती गई है. दोनों ही राज्यों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. जबकि दिल्ली में भी सरकार हिदायत दे रही है.