Corona: ऑक्सफोर्ड का दावा, वैक्सीन से ब्लड क्लाटिंग की समस्या में आ रही है कमी

ऑक्सफोर्ड का अध्ययन में ये जानकारी सामने आई है कि खून के थक्के जमने (ब्लड क्लाटिंग) की दुर्लभ स्थिति कोविड-19 से ज्यादा होती है, लेकिन टीके से इसमें कमी आ रही है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Apr 15, 2021, 06:47 PM IST
  • कोरोना की वैक्सीन लेने पर कम होगी ब्लड क्लाटिंग
  • COVID19 के कारण जम रहे हैं खून के थक्के
Corona: ऑक्सफोर्ड का दावा, वैक्सीन से ब्लड क्लाटिंग की समस्या में आ रही है कमी

नई दिल्ली: एक नये अध्ययन में कहा गया है कि खून के थक्के जमने की दुर्लभ स्थिति सेरिब्रल वेनस थ्रोंबोसिस (सीवीटी) का जोखिम कोविड-19 का टीका लगाने के बाद उतना नहीं है, जितना वह कोरोना वायरस से संक्रमण के बाद है. यानी ये दावा किया गया है कि कोरोना संक्रमण के बाद ब्लड क्लाटिंग ज्यादा होती है और वैक्सीन लगने के बाद इसमें कमी आती है.

अध्ययन में सीवीटी के मामलों की गिनती हुई

ब्रिटेन में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय (University of Oxford) के अनुसंधानकर्ताओं के अध्ययन में कोविड-19 का पता चलने के दो हफ्ते बाद और टीके की पहली खुराक के बाद सामने आए सीवीटी के मामलों की गिनती की गई. उन्होंने इन मामलों की तुलना इंफ्लुएंजा के बाद होने वाले सीवीटी के मामलों और आम आबादी में इसके पहले से मौजूद स्तर से की.

अनुसंधानकर्ताओं की टीम ने पाया कि किसी भी अन्य स्थिति की तुलना में कोविड-19 के बाद सीवीटी होना ज्यादा आम है जिनमें से 30 प्रतिशत मामले 30 वर्ष से कम उम्र के लोगों में देखने को मिले. उन्होंने कहा कि कोविड-19 के मौजूदा वैक्सीनों से तुलना करने पर यह जोखिम आठ से 10 गुना ज्यादा बढ़ जाता है और बिना टीकों के यह खरीब करीब 100 गुना ज्यादा है.

टीकों और सीवीटी के बीच संबंधों पर चिंता

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के ट्रांसलेशनल न्यूरोबायोलॉजी ग्रुप के प्रमुख पॉल हैरिसन ने कहा, 'टीकों और सीवीटी के बीच संभावित संबंधों को लेकर चिंताएं हैं जिससे सरकारों और नियामकों को कुछ टीकों के इस्तेमाल को सीमित करना पड़ रहा है.'

हैरिसन ने कहा, 'फिर भी एक सवाल का जवाब नहीं मिल रहा था कि कोविड-19 होने के बाद सीवीटी का खतरा कितना है?' अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि कोविड-19 होने के बाद सीवीटी का खतरा बहुत ज्यादा बढ़ जाता है और इस बीमारी से खून के थक्के जमने संबंधी अन्य समस्याएं पहले भी हैं जो और बढ़ जाती है.

उन्होंने कहा कि मौजूदा टीकों से जोड़कर जो खतरे देखे जा रहे हैं वह कोविड-19 होने के बाद के खतरों से कम ही हैं. अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक कोविड-19 के सीवीटी से संबंधित होने के संकेत साफ हैं और सबको इस पर गौर करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें- Delhi: एक साल के लंबे इंतजार के बाद खुलेगा मरकज, हाईकोर्ट का आदेश

उनके मुताबिक इस महत्त्वपूर्ण कारक पर और अनुसंधान की जरूरत है कि कोविड-19 और टीकाकरण समान रूप से या अलग-अलग तरीके से सीवीटी का कारण बनते हैं.

इसे भी पढ़ें- Corona in India: भारत में विदेशी वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल पर 3 दिन में होगा फैसला

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़