कोरोना योद्धाओं का देश कर रहा सम्मान, फिर क्यों जारी हो 'NO ENTRY' का फरमान?

देश के सबसे बड़े और सम्मानित अस्पताल यानी AIIMS के रेजिडेंट डॉक्टरों ने गृह मंत्री को चिट्ठी लिखी है. इस चिट्ठी में उन फैसलों पर सवाल उठाए गए हैं. जो इन दिनों यूपी के गाजियाबाद में लिए गए हैं... रिपोर्ट में समझिए क्या है पूरा माजरा

कोरोना योद्धाओं का देश कर रहा सम्मान, फिर क्यों जारी हो 'NO ENTRY' का फरमान?

नई दिल्ली: गाजियाबाद में प्रशासन ने कहा है कि जो डॉक्टर या स्वास्थ्यकर्मी दिल्ली में मरीजों का इलाज कर रहे हैं, उन्हें फिलहाल दिल्ली में ही रहना चाहिए और गाजियाबाद में अपने घर नहीं आना चाहिए. ऐसे में सवाल उठता है कि कोरोना के कर्मवीरों के लिए नो एंट्री का फरमान क्यों?

फिर क्यों जारी हो नो एंट्री का फरमान?

गाजियाबाद के नगर आयुक्त की चिट्ठी

गाजियाबाद के नगर आयुक्त की इस चिट्ठी में लिखे शब्दों पर आप भी नजर डालें. इस चिट्ठी में सभी RWA's से कहा गया है कि जो डॉक्टर या मेडिकल स्टाफ दिल्ली के अस्पतालों में अपनी सेवा दे रहे हैं. उन्हें फिलहाल दिल्ली में ही रहने को कहा जाए. साथ ही इस चिट्ठी का ज्यादा से ज्यादा प्रसार किया जाए.

यानी कि कोरोना काल में काम कर रहे डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ अपने घर ही ना जाएं. इसी आदेश का पालन करते हुए गाजियाबाद की एक सोसायटी ने फरमान जारी किया है.

जिसके मुताबिक 10 मई से यहां रहने वाले डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ को एंट्री नहीं मिलेगी. इसी आदेश से आहत होकर देश के सबसे सम्मानित मेडिकल संस्थान AIIMS नई दिल्ली के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने गृह मंत्री को चिट्ठी लिखी है.

कोरोना काल में लोगों की सेवा में दिन-रात जुटे डॉक्टर-नर्स और पैरामेडिकल स्टाफ अपने प्रति रवैये से निराश हैं... 

देश के देवदूतों का अपमान क्यों?

एम्स के RDA ने गृह मंत्री अमित शाह को चिट्ठी लिखकर अलग अलग सोसायटी के फैसलों पर सवाल उठाए हैं. और कहा है कि उनके लिए राज्य सरकारों को निर्देश जारी किया जाए, ताकि वो बिना किसी बाधा के अपना कर्तव्य पूरा करते रहें. 

अफसोस, जिन कोरोना के कर्मवीरों पर सेना फूल बरसाती है. उनके हौसले को सलाम करती है. जिन देवदूतों के प्रति खुद प्रधानमंत्री आभार व्यक्त करते हैं. उनके लिए ताली और पूरे देश से ताली और छाली बजाने को कहते हैं. उन्हीं कर्मवीरों के लिए स्थानीय शासन आदेश जारी करता है कि वो अपने घर ना जाएं, ताकि उनकी सोसायटी में कोरोना ना फैले.

इसे भी पढ़ें: तेजी से फैलते कोरोना संक्रमण का हिन्दुस्तान पर कितना असर? जानिए, यहां

इसलिए सवाल उस हर आदेश पर जो कोरोना के कर्मवीरों के कर्तव्य पथ में बाधा हैं. क्या ऐसे कोरोना से जीतेगा देश?

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रवादी पत्रकारों को परेशान करने की साजिश, जी न्यूज के एडिटर-इन-चीफ के खिलाफ FIR

इसे भी पढ़ें: राजधानी दिल्ली में ऑनलाइन शराब के नाम पर ऐसे लगा दिया चूना