दक्षिण अफ्रीका में मिला कोविड-19 का नया म्यूटेंट, वहां से आने वाले यात्रियों की कड़ी जांच के निर्देश

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के अतिरिक्त मुख्य सचिव या प्रधान सचिव अथवा सचिवों (स्वास्थ्य) को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि संक्रमित पाए गए यात्रियों के नमूने तुरंत जीनोम सीक्वेसिंग के लिए भेजे जाएं.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Nov 26, 2021, 07:21 AM IST
  • हांगकांग व बोत्सवाना में भी मिले नए म्यूटेंट के मामले
  • काफी गंभीर प्रभाव वाला बताया जा रहा है नया स्वरूप

ट्रेंडिंग तस्वीरें

दक्षिण अफ्रीका में मिला कोविड-19 का नया म्यूटेंट, वहां से आने वाले यात्रियों की कड़ी जांच के निर्देश

नई दिल्लीः केंद्र सरकार ने दक्षिण अफ्रीका में कोविड-19 का नया म्यूटेंट मिलने के बाद हिदायत जारी की है. केंद्र ने गुरुवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा कि दक्षिण अफ्रीका, हांगकांग और बोत्सवाना से आने वाले या इन देशों के रास्ते आने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की कड़ी स्क्रीनिंग और जांच की जाए. इन देशों में कोविड​​​​-19 के गंभीर प्रभाव वाले नए स्वरूप सामने आने की सूचना है.

'जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजें नमूने' 
केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के अतिरिक्त मुख्य सचिव या प्रधान सचिव अथवा सचिवों (स्वास्थ्य) को लिखे पत्र में, उनसे यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि संक्रमित पाए गए यात्रियों के नमूने तुरंत जीनोम सीक्वेसिंग के लिए भेजे जाएं. भूषण ने पत्र में कहा कि राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (NCDC) की ओर से अब यह सूचित किया गया है कि बोत्सवाना (3 मामले), दक्षिण अफ्रीका (6 मामले) और हांगकांग (1 मामले) में कोविड​​​​-19 के स्वरूप बी.1.1529 के मामले सामने आए हैं.

भूषण ने कहा, ‘‘इस स्वरूप में काफी अधिक संख्या में उत्परिवर्तन होने की जानकारी है. वीजा पाबंदियों में हाल की ढील और अंतरराष्ट्रीय यात्रा खोलने के मद्देनजर इसका देश के लिए गंभीर जनस्वास्थ्य प्रभाव है.’’

कड़ी स्क्रीनिंग का निर्देश
उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए यह अनिवार्य है कि इन देशों (वे भारत आने वाले उन अंतरराष्ट्रीय यात्रियों में शामिल हैं जो ‘‘जोखिम’’ वाले देशों से हैं) से आने वाले और इन देशों के रास्ते आने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की कड़ी स्क्रीनिंग और जांच की जाए.’’ स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार इन अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के संपर्क में आए व्यक्तियों पर भी नजर रखी जानी है और जांच की जानी है.

‘जल्द आए जीनोमिक विश्लेषण की रिपोर्ट’
पत्र में कहा गया है, ‘आपसे यह भी सुनिश्चित करने का अनुरोध किया जाता है कि इस मंत्रालय की ओर से 15 जुलाई, 2021 को जारी किए गए आईएनएसएसीओजी दिशानिर्देश दस्तावेज के अनुसार संक्रमित आने वाले यात्रियों के नमूने तुरंत निर्दिष्ट आईजीएसएलएस भेजे जाएं.’ भूषण ने कहा कि जीनोमिक विश्लेषण की जांच रिपोर्ट जल्द आए, इसके लिए राज्य निगरानी अधिकारियों को अपने संबंधित आईजीएसएलएस के साथ समन्वय स्थापित करना चाहिए.

इसमें कहा गया है कि राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार रोकथाम उपायों का कार्यान्वयन सुनिश्चित करें.

यह भी पढ़िएः व्यायाम से मिलता है भूलने की बीमारी से छुटकारा, रिसर्च में ये बातें भी आईं सामने

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़