Cyclone Gulab: यहां से गुजरेगा चक्रवाती तूफान गुलाब, ओडिशा-बंगाल में भारी बारिश का अलर्ट

Cyclone Gulab: अगले तीन दिनों के दौरान समुद्र में ऊंची लहरें उठेंगी और ओडिशा, बंगाल और आंध्र प्रदेश में मछुआरों को 25 से 27 सितंबर तक बंगाल की खाड़ी के पूर्वी-मध्य और उत्तरपूर्वी क्षेत्र में समुद्र में न जाने को कहा गया है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Sep 26, 2021, 10:45 AM IST
  • समुद्र में ऊंची लहरें उठने का अनुमान
  • भारी से भारी बारिश होने के आसार

ट्रेंडिंग तस्वीरें

Cyclone Gulab: यहां से गुजरेगा चक्रवाती तूफान गुलाब, ओडिशा-बंगाल में भारी बारिश का अलर्ट

नई दिल्लीः भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने ओडिशा और आंध्र प्रदेश के कुछ इलाकों में चक्रवात का अलर्ट जारी किया है. बंगाल की खाड़ी पर बने चक्रवाती तूफान गुलाब के ओडिशा और पश्चिम बंगाल के दक्षिणी हिस्सों की ओर बढ़ने की चेतावनी दी गई है. दोनों राज्यों के कई जिलों में अगले तीन दिनों में भारी से भारी बारिश होने के आसार हैं.

राहत बलों को भेजा गया
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ओडिशा के गोपालपुर और आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम तटों के बीच से रविवार को 'गुलाब' चक्रवात के गुजरने की आशंका है. ओडिशा आपदा त्वरित कार्य बल (ओडीआरएएफ) के 42 दलों और राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) के 24 दलों के साथ दमकल कर्मियों को सात जिलों गजपति, गंजम, रायगढ़, कोरापुट, मल्कानगिरी, नबरंगपुर, कंधमाल में भेजा गया है.

मछुआरों से समुद्र में न जाने को कहा
वहीं, अगले तीन दिनों के दौरान समुद्र में ऊंची लहरें उठेंगी और ओडिशा, बंगाल और आंध्र प्रदेश में मछुआरों को 25 से 27 सितंबर तक बंगाल की खाड़ी के पूर्वी-मध्य और उत्तरपूर्वी क्षेत्र में समुद्र में न जाने को कहा गया है.

 

मौसम विभाग ने ट्वीट कर कहा कि रविवार को 5:30 बजे चक्रवाती तूफान 'गुलाब' उत्तर-पश्चिम और उससे सटे पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी में पश्चिम की ओर बढ़ गया, जो उत्तर-पश्चिम और उससे सटे पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी में गोपालपुर से लगभग 270 किमी पूर्व-दक्षिण पूर्व और कलिंगपट्टनम से 330 किमी पूर्व में केंद्रित था. 

तूफानों का रखा जाता है नाम
याद रहे कि इस चक्रवाती तूफान का नाम गुलाब पहले से तय था. यह नाम पाकिस्तान ने दिया है. दरअसल, अरब सागर, हिंद महासागर और बंगाल की खाड़ी में उठने वाले चक्रवाती तूफानों के नामकरण की प्रक्रिया अलग होती है.

जब चक्रवाती तूफान में हवा की गति 40 मील प्रति घंटा से ज्यादा होती है, तब उस चक्रवाती तूफान का नामकरण किया जाता है. इससे पहले यास और टाक्टे जैसे चक्रवाती तूफान आ चुके हैं.

यह भी पढ़िएः प्रतापगढ़ में भाजपा सांसद पर हमला, पूर्व कांग्रेस सांसद समेत कई के खिलाफ FIR

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  
 

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़