close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हवा की गति 90 किलोमीटर प्रतिघंटे, तबाही मचा सकता है बुलबुल

मौसम विभाग ने बंगाल के तटीय जिलों पूर्वी मिदनापुर, उत्तर 24 परगना और दक्षिण 24 परगना जिले में नौ से 11 नवंबर तक भारी बारिश होने की संभावना जताई है. चक्रवात को लेकर मछुआरों को गुरुवार शाम तक तट पर लौटने और अगले आदेश तक समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गई है. चक्रवाती तूफान 'बुलबुल' कुछ घंटो में भीषण हो सकता है

हवा की गति 90 किलोमीटर प्रतिघंटे, तबाही मचा सकता है बुलबुल

नई दिल्लीः चक्रवाती तूफान 'बुलबुल' कुछ घंटो में भीषण हो सकता है. मौसम विभाग का कहना है कि ओडिशा और पश्चिम बंगाल में इसका तटीय प्रभाव देखे जाने की आशंका है. जानकारों का कहना है कि 'बुलबुल' बहुत गंभीर चक्रवात में तब्दील होकर पश्चिम बंगाल, बांग्लादेश और ओडिशा के तट के करीब से गुजर सकता है. विभाग के क्षेत्रीय निदेशक जीके दास ने गुरुवार को दिन में कहा था कि चक्रवात 'बुलबुल' कोलकाता से 930 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिणपूर्व में हैृ. शनिवार को यह और ताकतवर होकर बहुत गंभीर श्रेणी में पहुंच जाएगा. इस चेतावनी के बाद दोनों राज्यों में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की टीमें भेजीं गईं हैं. उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मामले पर चिंता जताई है. इसके बाद पीएम के प्रमुख सचिव डॉ. पीके मिश्रा ने ओडिशा, पश्चिम बंगाल और केंद्र शासित प्रदेश अंडमान-निकोबार द्वीप समूह के मुख्य सचिवों के साथ बैठक की, जिसमें प्राकृतिक आपदा से निपटने के लिए क्या तैयारियां की, इसकी समीक्षा की गई.ैध

बढ़ता जा रहा समुंदर निगलता जा रहा है धरती,  यहां पढ़िए 

मछुआरों को तट पर न जाने की सलाह 
चक्रवात को लेकर मछुआरों को गुरुवार शाम तक तट पर लौटने और अगले आदेश तक समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गई है. दास ने कहा, तूफान के उत्तर-उत्तर पश्चिम में पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तट की ओर रुख करने की संभावना है. चक्रवात ‘बुलबुल' के प्रभाव क्षेत्र में हवा की रफ्तार 70 से 80 किलोमीटर प्रतिघंटे दर्ज की गई, जबकि केंद्र में इसकी गति 90 किलोमीटर प्रति घंटे है." मौसम वैज्ञानिक ने बताया कि अगर यह बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान में तब्दील होता है तो इसकी अधिकतम गति 115 से 125 किलोमीटर प्रति घंटे पहुंच जाएगी और तूफान के केंद्र में गति 140 किलोमीटर प्रति घंटे होगी. 

दक्षिण भारत के कई राज्यों में पहले भी हुई थी भीषण बारिश, यहां पढ़िए

मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने कहा कि चक्रवाती प्रणाली की निगरानी की जा रही है और तट से टकराने के संभावित स्थान का आकलन किया जा रहा है. इस बीच मौसम विभाग ने बंगाल के तटीय जिलों पूर्वी मिदनापुर, उत्तर 24 परगना और दक्षिण 24 परगना जिले में नौ से 11 नवंबर तक भारी बारिश होने की संभावना जताई है. मौसम विभाग के मुताबिक पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तटीय इलाकों में शुक्रवार शाम से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी और यह गति बढ़ती चली जाएगी.

जम्मू कश्मीर में मौसम की पहली बर्फबारी,  मौसम हुआ सुहाना, पर्यटकों की मौज, पूरी  खबर यहां पढ़िए