• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 5,79,357 और अबतक कुल केस- 18,03,695: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 11,86,203 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 38,135 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 65.43% से बेहतर होकर 65.77% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 40,574 मरीज ठीक हुए
  • IIT खड़गपुर ने एक पोर्टेबल रैपिड डायग्नोस्टिक डिवाइस विकसित किया
  • जो मात्र 400 रुपये की खर्च में एक घंटे के भीतर कोविड-19 संक्रमण का पता लगा सकता है
  • स्वास्थ्य मंत्रालय ने भारत आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए हैं, जो 8 अगस्त 2020 से लागू होंगे
  • पिछले एक साल में तीव्र गति से कार्य होने के कारण, J&K में चिनाब नदी पर दुनिया का सबसे ऊंचा रेलवे पुल अगले साल तक तैयार हो जाएगा
  • रेल मंत्रालय ने 2320 सेवानिवृत्त पदाधिकारियों के लिए ‘आभासी सेवानिवृत्ति समारोह’ का आयोजन किया
  • महिला उद्यमिता और सशक्तीकरण कोहोर्ट ने 11 महिला उद्यमियों को महिलाओं के पारिस्थितिकी तंत्र को मजबूत करने के लिए पुरस्कृत किया
  • दूसरे चरण की ओर अग्रसर स्वच्छ भारत मिशन 2: 10 करोड़ से अधिक व्यक्तिगत शौचालयों का निर्माण किया गया है

सीमा पर भारत ने चीन को झुकाया, रक्षामंत्री की तीनों सेना प्रमुखों के साथ बैठक खत्म

सीमा पर भारत के दबाव के आगे चीन की हेकड़ी निकल गयी और उसे दबे पांव गलवान घाटी से पीछे भागना पड़ा. भारत धोखेबाज चीन से लगातार सतर्कता बरत रहा है. इसी सम्बन्ध में आज राजनाथ सिंह की तीनों सेनाओं के प्रमुखों से बैठक हुई.  

सीमा पर भारत ने चीन को झुकाया, रक्षामंत्री की तीनों सेना प्रमुखों के साथ बैठक खत्म

नई दिल्ली: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह की आज तीनों सेनाओं के प्रमुखों और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत के साथ वार्ता हुई. भारत और चीन के बीच अप्रैल से चल रहे सीमा विवाद में चीन को झुकाने में भारत कामयाब रहा. गलवान घाटी में दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में  चीन को भारी मात्रा में नुकसान झेलना पड़ा था.

सीमा पर वर्तमान स्थिति की हुई समीक्षा

आपको बता दें कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पूर्वी लद्दाख में गतिरोध वाले इलाकों से चीन के सैनिकों के वापस जाने के मद्देनजर सेना के शीर्ष अधिकारियों के साथ शुक्रवार को स्थिति की समग्र समीक्षा की. चीन भारत की कुशल कूटनीति के आगे हार गया और उसे करीब 2 किलोमीटर तक पीछे हटना पड़ा है. 

रक्षा मंत्री ने CDS जनरल बिपिन रावत, थलसेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे, नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह और वायुसेना प्रमुख आर के एस भदौरिया तथा अन्य वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों के साथ बैठक में स्थिति की समग्र समीक्षा की और वर्तमान स्थिति की जानकारी ली.

क्लिक करें- विकास दुबे एनकाउंटर पर STF का बयान, भैंसो का झुंड सामने आने की वजह से पलटी गाड़ी

भारत चीन सीमा पर संवेदनशील स्थानों पर हुआ मंथन

बैठक में हुई चर्चा पर सूत्रों से जानकारी मिली है कि थलसेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने राजनाथ सिंह को पूरे भारत चीन बॉर्डर पर संवेदन शील इलाकों की वर्तमान स्थिति से अवगत कराया. जनरल नरवणे ने गलवान घाटी, गोगरा, हॉट स्प्रिंग्स और पैगोंग सो के फिंगर 4 क्षेत्र से सैनिकों को हटाने के लिए बनी आपसी सहमति के पहले चरण के क्रियान्वयन पर विस्तृत ब्योरा दिया.

चीन को झेलनी पड़ी वैश्विक शर्मिंदगी

उल्लेखनीय है कि भारत के दबाव के आगे चीन की सेना को पीछे हटना पड़ा है. गलवान घाटी में हेकड़ी दिखा रही चीनी सेना को वैश्विक रूप से शर्मिंदगी भी झेलनी पड़ी है.  सेना प्रमुख ने किसी भी स्थिति से निपटने के लिए क्षेत्र में भारतीय सेना की तैयारियों के बारे में रक्षा मंत्री को जानकारी दी.

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर हालात के अलावा अरुणाचल प्रदेश, उत्तराखंड और सिक्किम के सभी संवेदनशील इलाकों में मौजूदा स्थिति के बारे में भी उन्हें अवगत कराया है. इस उच्चस्तरीय बैठक से पता चला है कि दोनों पक्षों ने अस्थायी कदम के तौर पर गतिरोध वाले तीन इलाकों- गलवान घाटी, गोगरा और हॉट स्प्रिंग्स में तीन किलोमीटर का बफर जोन बनाने का काम पूरा कर लिया है.