कोरोना निगेटिव आ चुके जमातियों को छोड़ने के दिल्ली सरकार ने दिये आदेश

कोरोना वायरस के संक्रमण को भारत में गंभीर, वीभत्स और खतरनाक स्वरूप देने वाले तबलीगी जमाती जो दिल्ली में इलाजरत थे, उन्हें छोड़ा जाएगा.  

कोरोना निगेटिव आ चुके जमातियों को छोड़ने के दिल्ली सरकार ने दिये आदेश

नई दिल्ली: पूरे देश में कोरोना संक्रमण को फैलाने वाले तबलीगी जमाती अब डॉक्टरों के बेहतर इलाज की वजह से ठीक हो रहे हैं. ये जमाती एक समय इन्हीं कोरोना योद्धाओं को निशाना बना रहे थे और अपनी जेहादी मानसिकता का परिचय कोरोना संकट के समय करवा रहे थे. खबर है कि कई तबलीगी जमाती अब कोरोना वायरस के संक्रमण से ठीक हो रहे हैं. ऐसे में दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने फैसला किया है कि जिनकी रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है, उन्हें क्वारंटाइन सेंटर से छोड़ा जाएगा.

केजरीवाल प्रशासन ने शुरू की तैयारी

आपको बता दें कि डिविजनल कमिश्नर ने दिल्ली के सभी डिप्टी कमिश्नर को लेटर जारी कर दिया. ज्ञात हो कि राजधानी में तबलीगी जमात के कुल 2446 सदस्य क्वारनटीन सेंटर में रह रहे हैं. दिल्ली सरकार ने अपने आदेश में कहा कि तबलीगी जमात से जुड़े जो लोग कोरोना नेगेटिव हो चुके हैं. उन्हें प्रोटोकॉल या केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर के हिसाब से छोड़ा जा सकता है. ऐसे में दूसरे राज्यों के जमातियों को उनके घर भेजने का इंतजाम करें.

ये भी पढ़ें- ऑपरेशन समुद्र सेतु की सबसे बड़ी कामयाबी: INS जलाश्व से 698 भारतीयों की वतन वापसी

पुलिस को सौंपी गई जिम्मेदारी

उल्लेखनीय है कि इन जमातियों को उनके गृह राज्य तक भेजने के लिए पूरी रूपरेखा दिल्ली पुलिस के निर्देशन में बनेगी. अधिकारियों को ये सुनिश्चित करने को कहा गया है कि जमाती अपने घरों के अलावा कहीं और न जाएं. इनमें से जितने भी लोग दिल्ली के हैं, उनको क्वारनटीन सेंटर से यात्रा के लिए पास जारी किया जाए.

विदेशी जमाती लिए हिरासत में लिए जाएंगे

आपको बता दें कि जो तबलीगी जमाती ऐसे हैं कि मरकज में हिस्सा लेने के लिए अपने देश से भारतमें आये और अन्य जमातियों को संक्रमण फैलाने के लिए उकसाया. ऐसे जमातियों को कानून के हवाले किया जाएगा. 567 तबलीगी जमात के ऐसे लोग हैं जो विदेशी हैं. इनमें से जो भी कोरोना नेगेटिव हो चुके हैं और दिल्ली के क्वारनटीन सेंटर में रह रहे हैं, उनको केंद्रीय गृह मंत्रालय के निर्देशों के अनुसार दिल्ली पुलिस की हिरासत में भेजा जाए.