बूस्टर डोज पर दिल्ली HC ने केंद्र से मांगा जवाब, दूसरे देशों को वैक्सीन देगा भारत

जिन लोगों को पूरी तरह से टीका लगाया गया है, उनके लिए बूस्टर खुराक की प्रभावकारिता पर दिल्ली हाई कोर्ट ने जोर दिया.   

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Nov 26, 2021, 08:24 AM IST
  • केंद्र को इस संबंध में हलफनामा दायर करने का निर्देश
  • देश में अब तक वैक्सीन की 1.2 अरब खुराकें दी जा चुकी हैं

ट्रेंडिंग तस्वीरें

बूस्टर डोज पर दिल्ली HC ने केंद्र से मांगा जवाब, दूसरे देशों को वैक्सीन देगा भारत

नई दिल्ली: दिल्ली हाई कोर्ट ने गुरुवार को यूरोप और अमेरिका में बूस्टर खुराक की बढ़ती वकालत को देखते हुए देश में कोविड वैक्सीन की बूस्टर खुराक पर केंद्र से जवाब मांगा. कोविड संकट से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर सुनवाई करते हुए जस्टिस विपिन सांघी और जसमीत सिंह की खंडपीठ ने केंद्र से बूस्टर खुराक से संबंधित पहलुओं पर एक हलफनामा दायर करने और उस समयसीमा के भीतर एक हलफनामा दाखिल करने को कहा, जिसके भीतर इसे लागू करने का प्रस्ताव है.

बूस्टर डोज की जरूरत पर दिया जोर
जिन लोगों को पूरी तरह से टीका लगाया गया है, उनके लिए बूस्टर खुराक की प्रभावकारिता पर जोर देते हुए पीठ ने कहा कि चिकित्सा दृष्टिकोण कुछ समय बाद रोग के खिलाफ प्रतिरक्षा में गिरावट का संकेत देता है. यह लोगों विशेष रूप से बुजुर्गों और अन्य बीमारियों से पीड़ित लोगों के लिए बूस्टर खुराक की जरूरत पैदा करता है.

सुनवाई के दौरान न्याय मित्र राजशेखर राव ने दिल्ली सरकार के तहत पोर्टल डेल्हीफाइट्स डॉट इन के कामकाज सहित विभिन्न मुद्दों को हरी झंडी दिखाई. पीठ ने दिल्ली सरकार से यह सुनिश्चित करने को कहा कि जो व्यवस्था लागू की गई है, वह प्रभावी ढंग से काम करती रहे, साथ ही स्थिति रिपोर्ट भी मांगी.

'सभी देशों को वैक्सीन आपूर्ति के लिए तैयार'
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया ने गुरुवार को लैटिन अमेरिकी और कैरेबियाई देशों के राजदूतों के साथ बैठक में कहा कि भारत सभी देशों को कोविशील्ड और कोवैक्सीन की आपूर्ति करने के लिए तैयार है. उन्होंने कहा, भारत वसुधैव कुटुम्बकम् के दर्शन से प्रेरित है, जिसने हमें अपने सभी दोस्तों को कोविड-19 टीके, एचसीक्यू और अन्य चिकित्सा आवश्यकताओं को उपहार में देने के लिए प्रेरित किया है. इसके अलावा, भारत सभी देशों को कोविशील्ड और कोवैक्सीन की आपूर्ति करने के लिए तैयार है.

'सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली मजबूत करने की जरूरत'
मंडाविया ने भविष्य में प्रकोप से लड़ने के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली को मजबूत करने की आवश्यकता को रेखांकित किया. उन्होंने कहा, भारत एक संपूर्ण सरकार के अपने दृष्टिकोण के अनुरूप कोविड-19 से लड़ने में सक्षम रहा है, जहां प्रांतीय और स्थानीय शासन ने भारत सरकार के प्रयासों को गति प्रदान की है. उन्होंने बताया कि भारत में स्वीकृत 6 टीकों में से 2 स्वदेशी रूप से विकसित हैं. 82 फीसदी भारतीयों को टीके की कम से कम एक खुराक लगी है, जबकि 44 फीसदी भारतीय पूरी तरह वैक्सीनेटेड हैं. इस तरह अब तक टीके की लगभग 1.2 अरब खुराकें दी जा चुकी हैं.

यह भी पढ़िएः बंटवारे पर बोले संघ प्रमुख मोहन भागवत- विभाजन निरस्त करके ही दूर होगा दर्द

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़