close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अब डीएमआरसी चलाएगी गुरुग्राम की रैपिड मेट्रो रेल

लंबे चले विवाद और कानूनी दांव पेंच के बाद गुरुग्राम की रैपिड मेट्रो रेल अब डीएमआरसी की देखरेख में आ गई है. 11.6 किलोमीटर लंबे इस कॉरिडोर पर सेवाएं सामान्य तरीके से संचालित होंगीं. मंगलवार रात से डीएमआरसी इसका कामकाज अपने हाथ में ले रहा है. इसके मिलने से दिल्ली मेट्रो के संचालन वाला कुल मेट्रो नेटवर्क 389 किलोमीटर का हो जाएगा. इसमें कुल 285 स्टेशन हैं,  जिसमें नोएडा-ग्रेटर नोएडा कॉरिडोर पर संचालित एक्वा लाइन के स्टेशन भी शामिल हैं.  

अब डीएमआरसी चलाएगी गुरुग्राम की रैपिड मेट्रो रेल

नई दिल्लीः दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC)  मंगलवार रात से रैपिड मेट्रो नेटवर्क के संचालन और देखरेख का कार्यभार संभाल लेगा. निगम से जुड़े अफसरों ने बताया कि 11.6 किलोमीटर लंबे इस कॉरिडोर पर सेवाओं के संचालन में कोई असर नहीं पड़ेगा. यह पहले की तरह ही सामान्य रहेगी. रैपिडे मेट्रो के अधिकारी मंगलवार (22 अक्टूबर) की रात डीएमआरसी को इसके संचालन की जिम्मेदारी देंगे. एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि रैपिड मेट्रो रेल गुरुग्राम लिमिटेड (आरएमजीएल)  रैपिड मेट्रो रेल गुड़गांव साउथ लिमिटेड (आरएमजीएसएल) की ओर से विकसित रैपिड मेट्रो लिंक की देखरेख का जिम्मा अब डीएमआरसी संभालने जा रहा है.

सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक चलेगी मेट्रो

डीएमआरसी के अनुसार सेक्टर 55-56 से यह ट्रेन सुबह 6 बजे से शुरू होगी और सिकंदरपुर स्टेशन तक पहुंचेगी. सुबह के पीक ऑवर्स में हर साढ़े चार मिनट के अंतराल में रैपिड मेट्रो की सुविधा मिलेगी. शाम के पीक ऑवर्स में यह अंतराल तकरीबन सवा पांच मिनट तक का रहेगा. रात में अंतिम मेट्रो रात 10 बजे सेक्टर 55-56 से चलेगी. रैपिड मेट्रो कां संचालन संभालने के बाद डीएमआरसी के रूट में भी बढ़ोतरी हो गई है. दरअसल रैपिड मेट्रो की लंबाई 11.6 किलोमीटर है. इसके मिलने से दिल्ली मेट्रो के संचालन वाला कुल मेट्रो नेटवर्क 389 किलोमीटर का हो जाएगा. इसमें कुल 285 स्टेशन हैं, जिसमें नोएडा-ग्रेटर नोएडा कॉरिडोर पर संचालित एक्वा लाइन के स्टेशन भी शामिल हैं.

इसलिए अलग है रैपिड मेट्रे

 रैपिड मेट्रो हरियाणा के गुरुग्राम शहर में संचालित मेट्रो प्रणाली है। इसके तहत यह सिकंदरपुर मेट्रो स्टेशन पर दिल्ली मेट्रो की येलो लाइन जुड़ी है और यहां से यात्री दिल्ली मेट्रो के लिए इंटरचेंज करते हैं. रैपिड मेट्रो की कुल लंबाई 11.6 किलोमीटर है. इस रूट पर कुल 11 स्टेशन हैं. इस मेट्रो में स्टैंडर्ड गेज ट्रैक का इस्तेमाल हुआ है और यह पूरी तरह से एलिवेटेड है. रैपिड मेट्रो गुरुग्राम के व्यावसायिक क्षेत्रों को तो जोड़ता ही है, साथ ही दिल्ली मेट्रो के लिए फीडर लिंक के तौर पर भी काम करता रहा है.अभी तक इसका संचालन कर रही आइएल एंड एफएस इंफ्रास्ट्रक्चर ने पहले हरियाणा सरकार को पत्र लिखकर कहा था कि कंपनी 9 सितंबर के बाद रैपिड मेट्रो रेल सेवा को जारी नहीं रख सकती है. इसके बाद हरियाणा मास रैपिड ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन लिमिटेड ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी. इस सेवा प्रदाता कंपनी में पहले वित्तीय अनियमितता भी सामने आई थी. लंबे समय से मामला कोर्ट में विचाराधीन था. हालांकि हाइकोर्ट के आदेशानुसार कंपनी ने रैपिड मेट्रो का संचालन तब बंद नहीं किया था.