• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 2,92,258 और अबतक कुल केस- 8,49,553: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 5,34,621 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 22,674 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 62.78% से बेहतर होकर 62.92% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 19,235 मरीज ठीक हुए
  • कोविड-19 से स्वस्थ होने की दर लगभग 63% हुई। ठीक हुए मामलों की संख्या, सक्रिय मामलों की संख्या से 2.31 लाख अधिक हुई
  • कर्नाटक ने बेंगलुरु में आरटी पीसीआर टेस्ट के साथ-साथ कोविड-19 एंटीजन टेस्ट भी शुरू किया
  • एमएचआरडी: हर वर्ष शिक्षकों को राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किया जाता है. पंजीकरण कराकर #NAT2020 में भाग लें
  • 11 अप्रैल 2020 से 9 जुलाई 2020 तक विभिन्न राज्यों के 2.83 लाख हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में टिड्डी नियंत्रण अभियान चलाया गया
  • सावधानी और सतर्कता से कोरोना से बचाव मुमकिन है. आइए खुद की और दूसरों की रक्षा के लिए शिष्टाचार के नए तौर-तरीके अपनाएं
  • कोविड-19 से संबंधित मदद, सलाह और उपायों के लिए 24x7 टोल-फ्री राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर 1075 पर कॉल करें
  • कोविड मरीजों के साथ दुर्व्यवहार न करें, एक सुरक्षित शारीरिक दूरी बनाए रखें

डॉ हर्षवर्धन बोले, 'अगले साल तक कोरोना की वैक्सीन बन जाने की उम्मीद'

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि अगले साल तक कोरोना की वैक्सीन बन जाने की उम्मीद है. फिलहाल हमें कोरोना के साये में ही जीवन जीना पड़ेगा.

डॉ हर्षवर्धन बोले, 'अगले साल तक कोरोना की वैक्सीन बन जाने की उम्मीद'

नई दिल्ली: समूची दुनिया इस समय अगर किसी चीज की सबसे अधिक प्रतीक्षा कर रही है तो वो है कोरोना से बचाने वाली वैक्सीन. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने बताया कि कोरोना संक्रमण से बचने वाली वैक्सीन के निर्माण में फिलहाल एक साल लग जायेगा. हर्षवर्धन का ये बयान बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि वे WHO में भी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी निभा रहे हैं. डॉ हर्षवर्धन का बयान विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रतिक्रिया के रूप में देख जाना चाहिए.

कोरोना से लड़ने में भारत की स्थिति बेहतर

स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा है कि लोगों को चिंता करने की जरूरत नहीं है क्योंकि भारत कोरोना संक्रमण से सबसे बढ़िया ढंग से जंग लड़ रहा है और बहुत मजबूत स्थिति में है.  दुनिया के बाकी देशों के मुकाबले कोरोना को लेकर भारत का प्रदर्शन अच्छा रहा है. हमने टेस्टिंग बढ़ाई और मृत्यु दर भी भारत में कम है. उन्होंने कहा कि अगले साल तक कोरोना की वैक्सीन आ जाएगी.

ये भी पढ़ें- नेपाली पीएम को अपनी कुर्सी जाने की चिंता, भारत पर लगाया झूठ आरोप

अमेरिका, ब्राजील और ब्रिटेन से भी कम है भारत में मृत्यु दर- हर्षवर्धन

डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि भारत में कोरोना का पहला केस 30 जनवरी को आया था और भारत की आबादी 135 करोड़ है. 5 लाख केस में से 3 लाख 10 हजार केस तो ठीक होकर घर जा चुके हैं. उन्होंने कहा कि देश में 3 फीसदी मृत्यु दर है, जो सबसे कम है. भारत से ज्यादा अमेरिका, ब्राजील और यूके की मृत्यु दर है.

उन्होंने बताया कि हमने अपनी टेस्टिंग क्षमता को बढ़ाया है. 4 से 5 महीने पहले जहां एक लैब थी और आज 1036 लैब में टेस्टिंग हो रही है. कल भी हमने 2 लाख 31 हजार टेस्ट किए.

डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि  दुनिया के मुकाबले भारत में कम केस हैं और मृत्यु दर भी कम है. भारत से ज्यादा रिकवरी रेट सिर्फ रूस की है. हम बेहतर स्थिति में हैं. वायरस के कारण हमें अपनी जीवनशैली में बदलाव लाना पड़ रहा है. भारत जल्द ही इस संक्रमण के खिलाफ विजय हासिल करेगा.